scriptAkhilesh Yadav have tough test in UP vidhansabha on yogi adityanath | विधान सभा सदन में अखिलेश यादव का होगा कड़ा इम्तिहान, Yogi से भिड़ंत की तैयारी | Patrika News

विधान सभा सदन में अखिलेश यादव का होगा कड़ा इम्तिहान, Yogi से भिड़ंत की तैयारी

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद सपा मुखिया अखिलेश यादव का अब सदन में कड़ा इम्तिहान होगा। उन्हें विधानसभा के भीतर नेता प्रतिपक्ष के रूप में अपनी सियासी योग्यता की परीक्षा होगी। सत्र में उनका सामना नेता सदन यानी मुख्यमंत्री योगी से होगा।

लखनऊ

Updated: May 12, 2022 04:42:32 pm

उत्तर प्रदेश विधानसभा के अंदर सदन में अखिलेश यादव को साबित करना होगा कि, उन्होंने यूपी में सियासत करने का जो निर्णय लिया है, वह सही है, और वह नेता प्रतिपक्ष की भूमिका में प्रदेश सरकार की बातों का माकूल जवाब देने में सक्षम हैं। साथ ही जनता से जुड़े मुद्दों पर सरकार को घेरने के लिए तैयार हैं। अब तक मुलायम सिंह यादव की विरासत को संभाल रहे अखिलेश यादव को अगले पांच वर्षों तक नेता प्रतिपक्ष के रूप में यह सब करना होगा।
Akhilesh Yadav with Yogi Adityanath in UP Assembly file Photo
Akhilesh Yadav with Yogi Adityanath in UP Assembly file Photo
मुलायम सिंह यादव के पुत्र हैं इस पर चली थी सरकार

सपा के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाया था। उन्होंने सरकार चलाई है। लेकिन विपक्ष के नेता के तौर पर उनका अनुभव नया है। मुलायम सबको साथ लेकर चलते थे। लेकिन यह सलाह लेने में विश्वास नहीं करते। क्योंकि अभी तक इन्होंने जितने फैसले हुए उन्होंने स्वयं लिया है।
मुलायम के करिबियों से चर्चा के बिना ही कूदे राजनीति के कुएं में

मुलायम सिंह, आजम खान, प्रो. रामगोपाल, शिवपाल, रेवती रमन जैसे पार्टी के वरिष्ठ लोगों के चर्चा किये बिना ही अखिलेश ने पहले कांग्रेस और फिर बसपा से गठबंधन किया। जिसका खामियाजा पार्टी और परिवार को झेलना पड़ा। बसपा से गठबंधन करने के बाद भी अखिलेश अपनी पत्नी को चुनाव नहीं जिता सके। बीते विधानसभा चुनावों में भी छोटे दलों से गठबंधन कर अखिलेश यादव ने चुनाव लड़ा लेकिन वह भाजपा को सत्ता में आने से रोक नहीं सके, क्योंकि पूरे चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने 'वन मैन आर्मी' की तरह काम किया।
अखिलेश ने पार्टी और गठबंधन के वरिष्ठ नेताओं के साथ विधानसभा चुनाव में प्रचार करना पसंद नहीं किया। इस कारण पिछड़ों का नेता बनने का उनका सपना कामयाब नहीं हो पाया। अब भी वह अपनी टीम अखिलेश के नेताओं के साथ पार्टी के संगठन को मजबूत करने पर चर्चा करते हैं। जबकि इनकी टीम में एक भी नेता ऐसा नहीं है जो जनाधार वाला हो। सपा के भीतर के ऐसे माहौल को देखते हुए ही अब विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष की उनकी भूमिका को लेकर सवाल खड़े किया जा रहे हैं। मुलायम सिंह ने तो काशीराम, कल्याण सिंह को अपने साथ जोड़ने का ऐतिहासिक कार्य किया था। उनकी मदद से सरकार चलाई थी लेकिन अखिलेश यादव तो ना आजम खान को मना पा रहे हैं और ना ही पार्टी ने अन्य नाराज नेताओं से बात कर रहे हैं। वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक प्रसून पांडेय कहते हैं कि अखिलेश यादव के सामने खुद को मजबूत विपक्षी नेता साबित करने की चुनौती है। क्योंकि पांच सालों तक उनको इसी भूमिका में रहना है।
साल 2027 तक जब भी विधानसभा बैठेगी योगी आदित्यनाथ व अखिलेश यादव आमने-सामने होंगे। योगी आदित्यनाथ व अखिलेश अब तक सड़क पर जनसभाओं में और मीडिया के जरिए एक दूसरे पर हमला करते रहे हैं। अब बात आमने-सामने की है। सदन में एक ओर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ होंगे जिनके धारदार भाषण के जरिए वह विपक्षी दलों की धज्जियां उड़ाते हैं तो दूसरी ओर अखिलेश यादव के लिए नेता सदन की बातों का माकूल जवाब देने का पूरा मौका होगा। लेकिन अखिलेश के पास उन्हें सलाह देने वाले नेताओं की कमी है क्योंकि ज्यादातर वरिष्ठ नेता अभी उनकी पहुंच से दूर हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

मंकीपॉक्स पर WHO की आपात बैठक में अहम खुलासा: यूरोप में अब तक 100 से अधिक मामलों की पुष्टि, जानिए 10 अपडेटJNU कैंपस में एमसीए की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तारकैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में बोले राहुल गांधी, भारत में ठीक नहीं हालात, BJP ने चारों तरफ केरोसिन छिड़क रखा हैकर्नाटक में बड़ा हादसाः बारातियों से भरी गाड़ी पेड़ से टकराई, 7 की मौत, 10 जख्मीजल्द ही कमर्शियल फ्लाइट्स शुरू करेगा जेट एयरवेज, DGCA ने दी मंजूरीमाता वैष्णो देवी के प्रमुख पुजारी अमीर चंद का निधन, जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल सहित कई नेताओं ने जताया दुखज्ञानवापी मस्जिद केसः प्रोफेसर रतन लाल की गिरफ्तारी पर हंगामा, DU में छात्रों का प्रदर्शनफिर महंगी हुई CNG: राजस्थान में दाम सबसे अधिक, Diesel - CNG के दाम में अब मात्र 12 रुपए का अंतर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.