scriptakhilesh yadav on agri law repeal, victory of farmers youth | ये किसानों की जीत है, भाजपा सरकार का कोई भरोसा नहीं, अखिलेश यादव ने पूछा एक सवाल.. | Patrika News

ये किसानों की जीत है, भाजपा सरकार का कोई भरोसा नहीं, अखिलेश यादव ने पूछा एक सवाल..

अखिलेश यादव ने प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान कहा कि, भाजपा को महसूस हो गया है कि वो अब हार रही है। इसी वजह से उसने किसान कानून वापस लिया है। लेकिन ये सरकार गारंटी दे कि अब कभी भविष्य में वो ऐसा कोई कानून लेकर नहीं आएंगे। वही इस दौरान अखिलेश यादव ने एक सवाल पूछते हुए कहा कि यदि भाजपा से कोई इसका जवाब दे पाए तो मुझे बताएं।

लखनऊ

Updated: November 19, 2021 03:21:06 pm

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज तीन काले कानूनों को वापस होने को पर किसानों को बधाई दी है।
उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार चुनाव हारने जा रही है। इसी डर से केंद्र सरकार ने कानून को वापस ले लिया है। लेकिन इनका 'दिल साफ नहीं है, इस बात की क्या गारंटी है कि चुनाव के बाद फिर से ऐसा कोई कानून नहीं लाएँगे?
Akhilesh Yadav Press Conference
Akhilesh Yadav During Press Conference at Party Head Quarter in Lucknow
अखिलेश यादव ने कहा कि मैं देश के सभी किसानों को बधाई देना चाहता हूँ, जिनके संघर्ष व् लगातार जो आंदोलन किया, उस प्रयास से आज तीनों काले कृषि कानून वापस लिए गए हैं. काले कानून की वापसी अहंकार की हार है. ये किसानों की लोकतंत्र की जीत है. जनता इन्हे माफ़ नहीं करेगी. जनता इन्हे आने वाले समय पर साफ़ करने का काम करेगी.

अखिलेश यादव ने कहा कि सैकड़ों किसानों की सच्ची मौत के सामने किसी के झूठ की माफ़ी नहीं चलेगी. जिन लोगों ने माफ़ी मांगी है, वो लोग हमेशा के लिए राजनीति छोड़ने का भी वचन लें. बीजेपी अगर सोच रही है कि झूठी और दिखावटी माफ़ी मांग कर जनता में वापसी करेंगे तो ये जान लेंगे कि जनता इन्हे अच्छे से जानती है.

किसानों को खालिस्तानी कहकर अपमानित करने वालों की क्या सज़ा होगी?
अखिलेश यादव ने कहा कि जिस तरह से भूमि अधिग्रहण कानून लाये गए थे, ये जो काले कृषि कानून थे, वो भी वापस हुए थे, लेकिन कहीं न कहीं सरकार चुनाव से डर गई है. और वोट के लिए ये कानून वापस हुए हैं. उनकी नजर में ये किसान नहीं है. इन लोगों ने किसानों को कितना अपमानित किया. किसानों के लिए भाजपा ने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया गया, उसकी कल्पना नहीं की जा सकती है कि अन्नदाता के लिए इस तरह के शब्द का भी प्रयोग किया जा सकता है.
किसानों का अपमान करने वाले बीजेपी सरकार के साथ पूरे मंत्रिमंडल को इस्तीफा देना चाहिए. और फिर लखीमपुर के हत्यारे कैसे बच जायेंगे. ये सरकार की जिम्मेदारी है.
यूपी के नौजवानों ने दिल्ली को हिलाकर रख दिया
अखिलेश यादव ने कहा कि जहां कृषि कानून वापस ले लिए गए, किसानों से माफ़ी मांग ली गई. तो इस हिसाब से सरकार की ये भी जिम्मेदारी बनती है कि जिस मंत्री पर किसानों को कुचलने का आरोप है, वो अभी भी मंत्रिमंडल में है, उससे इस्तीफा लेना चाहिए।
सपा को जो समर्थन मिला, और जिस तरह किसान और पूरी जनता सड़कों पर नजर आई, न केवल लखनऊ बल्कि किसानों ने कार्यकर्ताओं ने और जिस तरह से नौजवान सड़कों पर उतरे उन्होंने पूरी दिल्ली को हिला दिया.
अखिलेश यादव ने इस दौरान कहा कि उत्तर प्रदेश में जिस तरह से पुलिस बेलगाम हो चुकी है और से किसानों को गरीबों को बेरोजगारों को सिर्फ टारगेट किया जा रहा है पुलिस धारा ने गरीबों की आवाज किसानों की आवाज और बेरोजगार युवाओं की आवाज को दबाने का काम कर रही है लेकिन यह आवाज डरने वाली नहीं है।
अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार सब उठ चुके हैं और जनता गांव गांव में सरकार के विरोध में वोट करने के लिए तैयार बैठे हैं।

अखिलेश यादव ने कहा कि जिन लोगों ने किसानों को वापस लेते हुए माफी मांगी है राजनीति छोड़ने का वचन दिया क्योंकि उन्होंने किसानों का सम्मान किया किसानों का अपमान कौन सी तारीख कौन लेगा सरकार ने फैसला ऐसा भी लिया था आज अर्थव्यवस्था में सुधार हुआ है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाHowrah Superfast- हावड़ा सुपरफास्ट से यात्रा करने वाले यात्रियों को परिवर्तित मार्ग से करना पड़ेगा सफर, इन स्टेशनों पर नहीं जाएगी ट्रेनपूर्व केंद्रीय मंत्री की भाजपा में वापसी की चर्चाएं, सोशल मीडिया पर फोटो से गरमाई सियासतTrain Reservation- अब रेल यात्रियों के पांच वर्ष से छोटे बच्चों के लिए भी होगी सीट रिजर्व, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.