लाल रंग से सावधान हो जाएं योगी, ये जीत 2019 में भी असर डालेगी: अखिलेश यादव

लाल रंग से सावधान हो जाएं योगी, ये जीत 2019 में भी असर डालेगी: अखिलेश यादव

Prashant Srivastava | Publish: Mar, 14 2018 06:42:13 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

बीजेपी को उनकी गंदी भाषा ही खा गई, जीत के लिए बुआ जी का भी धन्यवाद:अखिलेश यादव

लखनऊ. फूलपुर-गोरखपुर उपचुनाव में सपा-बसपा गठबंधन के शानदार प्रदर्शन के बाद पार्टी कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए अखिलेश यादव ने सीएम योगी व बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बीजेपी को उनकी गंदी भाषा ही खा गई, जीत के लिए बुआ जी का भी धन्यवाद देना चाहता हूं। उन्होंने सभी सहयोगी दलों का धन्यवाद दिया।

अखिलेश बोले-

- उपचुनाव के लिए मायावती जी का धन्यवाद देता हूं। निषाद पार्टी, पीस पार्टी, कम्यूनिस्ट पार्टी, आरएलडी का भी धन्यवाद।

-आज कह सकता हूं कि जो परिणाम आया है..दोनों जगह की जनता ने समाजवादी पार्टी को खूब वोट मिला है।
-इस चुनाव के नतीजे बहुत कुछ कहते हैं। मुख्य मंत्री का क्षेत्र जहां बीजेपी हारती नहीं थी, वहां भी हार गई।

-डिप्टी सीएम अपना गढ़ नहीं बचा पाए।

-कर्जमाफी के नाम पर किसानों को ठगा गया। नोटबंदी, जीएसटी ने आम आदमी की हालत खराब कर दी।

-बीजेपी वालों की भाषा बहुत गंदी है। ये बोलते हैं- मैं हिंदु हूं, ईद नहीं मनाता हूं...एनकाउंटर कर दो...काटना पड़े तो काट डालो..बताइए ये कोई भाषा हुई।

-मैंने अपने आप को बैकवर्ड नहीं समझा...ये सांप-छछूंदर का गठबंधन हुआ..चोर-चोर मौसेरे भाई का हुआ..

-औरगंजेब से तुलना कर दी गई...मुझे खुशी इस बात की है गरीब, किसान, दलित भाइयों ने भी हमारी खूब मदद की।

- समाजिक जस्टिस हुआ है। हमने हमेशा कहा विकास आगे हो। आज जनता ने जवाब दे दिया है। बीजेपी को विकास के नाम पर लौटना पड़ेगा।

-भावनात्मक मुद्दे लाकर समाज में जहर खोलने का काम जो बीजेपी वाले करते हैं। राषट्रवाद के नाम पर झूठ बोलते हैं।

-बीएसपी को बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं।

- जो सरकार जनता को दुख देती है, उसे जनता भी दुख देती है।

-एक्सप्रेसवे पर जनता को घुमा देता तो बीजेपी की सरकार ही नहीं बनती।

-ईवएम के मुद्दे पर अभी भी स्टैंड क्लियर है।

-बीजेपी के लोगों से ही सीखे हैं। बीजेपी वाले ही जातीय समीकरण में जुटे थे।

-अब लाल रंग से सावधान रहेंगे योगी।

अब राज्यसभा का चैलेंज

सपा-बसपा के सामने अब राज्यसभा चुनाव में दसवें कैंडिडेट को जिताने का चैलेंज है।बसपा ने पूर्व विधायक भीमराव अंबेडकर को अपना राज्यसभा उम्मीदवार घोषित किया था। सपा और कांग्रेस ने भी बसपा कैंडिडेट को समर्थन का ऐलान किया है लेकिन अनिल अग्रवाल के मैदान में उतरने से बसपा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। सूत्रों के मुताबिक बसपा सुप्रीमो मायावती को डर हैं कि कहीं कांग्रेस के कुछ विधायक क्रॉस वोटिंग न करें। ऐसे में दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच बातचीत हुई है जिसके बाद कांग्रेस विधायक दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने बसपा प्रत्याशी को समर्थन देने की घोषणा की।

Ad Block is Banned