लोकसभा उपचुनाव पर अखिलेश यादव देंगे पीएम मोदी की 'चाय पर चर्चा' को मात, करेंगे इस कार्यक्रम को लॉन्च

लोकसभा उपचुनाव पर अखिलेश यादव देंगे पीएम मोदी की 'चाय पर चर्चा' को मात, करेंगे इस कार्यक्रम को लॉन्च

Abhishek Gupta | Publish: Feb, 15 2018 04:12:38 PM (IST) | Updated: Feb, 15 2018 04:23:06 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

विपक्षी दलों ने अब पीएम मोदी के 'चाय पर चर्चा' पर निशाना साधना शुरू कर दिया है।

लखनऊ. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को आकाशवाणी पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम मन की बात से देशवासियों को कई संदेश दिए और कई कार्य योजनाओं से रूबरू करवाया, लेकिन उसका कितना फायदा लोगों को हुआ यह किसी को नहीं पता। वहीं पीएम मोदी की 'चाय पर चर्चा' भी लोगों में काफी लोकप्रिय रहा। लेकिन विपक्षी दलों ने अब पीएम मोदी के 'चाय पर चर्चा' पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। समाजावादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तो इसका तोड़ भी ढ़ूंढ लिया है। सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने घोषणा की है कि अब वह सच्चाई पर चर्चा करेंगे।

अखिलेश यादव ने सोशल मीडिया ट्विटर पर भी इसकी जानकारी देते हुए लिखा, "अब तक बहुत हुई झूठी अच्छाई पर ‘चाय पर चर्चा’... अब होगी सच्चे सच की ‘सच्चाई पर चर्चा’"। वहीं उन्होंने कहा कि इस सच्चाई की चर्चा में वह मोदी सरकार के झूठे वादों और उसकी असफल सरकार को बेनकाब करेंगे।

"असफलता छिपाने के लिए दे रहे इस तरह के बयान"-

अखिलेश यादव ने बताया कि यह बहुत ही शर्मनाक है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पढ़े-लिखे युवाओं से कह रहे हैं कि वे पकोड़ा बेचें। उन्होंने हर साल 1 करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था। उनके वायदे को वह पूरा नहीं कर पाए हैं, इसलिए असफलता छिपाने के लिए इस तरह के बयान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे लोग अब एनडीए सरकार के झूठे वायदों को बेनकाब करके लोगों को उनकी सच्चाई बताएंगे। अखिलेश ने ट्वीट करके कहा कि अब तक हुई जूठी-जूठी सच्चाई पर चाय पर चर्चा... अब होगी सच्चे सच की सच्चाई पर चर्चा।

क्या होगा सच्चाई की चर्चा पर-

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि सच्चाई की चर्चा बीजेपी की चाय पे चर्चा की तरह ही होगी। इसमें मोदी सरकार की असफलता सबके सामने लाई जाएगी। केंद्र सरकार ने पिछले चार वर्षों में उत्तर प्रदेश के लिए कुछ भी नहीं किया। सपा सुप्रीमो ने कहा कि 'सच्चाई की चर्चा' यूपी में होने वाले दो सीटों के उपचुनाव पर लॉन्च की जाएगी। दोनों जगहों पर उनकी पार्टी दूसरी पार्टियों से समर्थन लेकर उम्मीदवार खड़े करेगी।

Ad Block is Banned