AKTU के पीजी कोर्सेज में अब डायरेक्ट एडमिशन, जानें कैसे

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी से संबद्ध इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट संस्थानों के पीजी कोर्सेज अब सीधे दाखिले लिए जाएंगे।

By:

Published: 15 Jul 2018, 03:27 PM IST

लखनऊ. डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी से संबद्ध इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट संस्थानों के पीजी कोर्सेज अब सीधे दाखिले लिए जाएंगे। इन दाखिलों के लिए सोमवार से आवेदन शुरू होंगे। एकेटीयू ने इस संबंध में शनिवार को निर्देश जारी कर दिए हैं। अभ्यर्थी पीजी के एमटेक, एमफार्मा व एमआर्क पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए आवेदन कर सकेंगे। एकेटीयू के उपकुलसचिव एके शुक्ला के मुताबिक 24 जुलाई से पीजी प्रवेश के लिए काउंसलिंग शुरू होगी। इसके पहले सीधे दाखिलों के लिए पंजीकरण सोमवार से शुरू होगा। उन्होंने बताया कि जो अभ्यर्थी पीजी प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए थे और उनकी रैंक कम थी, इस वजह से उन्हें कांउसलिंग में नहीं बुलाया गया है।

एकेटीयू के उपकुलसचिव एके शुक्ला के मुताबिक, अभ्यर्थी सीधे दाखिले की प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं। इनको अन्य अभ्यर्थियों से वरीयता दी जाएगी। इसके अलावा जिन अभ्यर्थियों के स्नातक पाठ्यक्रम में 65 फीसदी से अधिक अंक होंगे उनको भी प्राथमिकता दी जाएगी। एकेटीयू प्रशासन ने सीधे दाखिले की प्रक्रिया में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के लिए अलग-अलग फीस तय की है। सामान्य व ओबीसी के अभ्यर्थियों को एक-एक हजार रूपए पंजीकरण शुल्क देना होगा जबकि अनुसूचित जाति एंव जनजाति के अभ्यर्थियों को पांच सौ रूपए फीस देनी होगी।

काउंसलिंग प्रकिया में बदलाव


यूपीएसईई काउंसलिंग में अब पहले व दूसरे चरण की काउंसलिंग में पंजीकरण कर च्वाइस लॉक करने वाले अभ्यर्थियों को तीसरे चरण की काउंसलिंग में शामिल होने का मौका दिया जाएगा। अभ्यर्थी काउंसलिंग में पंजीकरण कर अपनी सीट लॉक कर सकते हैं। .

यूपीएसईई को-ऑर्डिनेटर प्रो. एके कटियार ने बताया कि पहले व दूसरे चरण की कांउसलिंग में करीब दस हजार ऐसे अभ्यर्थी थे जिन्होंने पंजीकरण कर च्वाइस लॉक थी पर जब उन्हें सीट आवंटित हुई तो उन्होंने दाखिला नहीं लिया था। इन अभ्यर्थियों को दोबारा काउंसलिंग में शामिल करने का फैसला लिया गया है। प्रो. कटियार का कहना है कि बहुत से ऐसे भी अभ्यर्थी होंगे, जो दाखिला लेना चाहते होंगे लेकिन किसी कारणवश उस दौरान सीट लॉक नहीं कर सके। इसलिए उनको भी एक अंतिम अवसर मिलेगा।

पंजीकरण शुल्क नहीं देना होगा

प्रो. कटियार ने यह भी बताया कि पहले व दूसरे चरण में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को तीसरे चरण की काउंसलिंग के लिए पंजीकरण शुल्क नहीं देना होगा। अभ्यर्थी अपने लॉगिन आईडी के जरिए काउंसलिंग प्रक्रिया में शामिल होकर आगे की प्रक्रिया कर सकते हैं।

 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned