यूपीटीईटी के रिजल्ट से पहले हाईकोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला, 10 लाख लोगों के भविष्य पर लटकी तलवार

यूपीटीईटी के रिजल्ट से पहले हाईकोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला, 10 लाख लोगों के भविष्य पर लटकी तलवार

Akansha Singh | Updated: 14 Dec 2017, 09:32:42 AM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

परिणाम को लेकर दायर याचिका पर सरकार की ओर से जवाब नहीं दिए जाने पर हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने सख्त रूख अपनाया है।

लखनऊ. यूपीटीईटी 2017 ( UPTET 2017 ) के रिजल्ट सवालों के घेरे में है। परिणाम को लेकर दायर याचिका पर सरकार की ओर से जवाब नहीं दिए जाने पर हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने सख्त रूख अपनाया है। अदालत का कहना है कि यह मामला 10 लोगों से जुड़ा है। सरकार को जवाब देने के लिए चार हफ्ते दिए गए थे पर किसी प्रतिवादी पक्ष ने कोई जवाब नहीं दिया। दो हफ्ते में जवाब दिया जाए।

 

न्यायमूर्ति विवेक चौधरी का कहना है कि सरकार यह सुनिश्चित करे की एक अधिकारी इस मामले को देखें। वह अधिकारी 10 जनवरी को सभी दस्तावेजों के साथ उपस्थित रहे। 22 नवंबर को सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति चौधरी ने प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा व अन्य सम्बंधित पक्षों को अपना जवाबी हलफनामा दाखिल करने को कहा था। गौतरतलब है कि मोहम्मद रिजवान और 103 अन्य परीक्षार्थियों ने 8 प्रश्नों के उत्तर पर आपत्ति जताई है। याचिका में ग्रेस अंक देने अथवा आपत्ति जताए गए सवालों को हाई लेवल एक्सपर्ट कमेटी से जांच करवा कर फैसले लेने की गुजरिश की गई है।

 

15 दिसंबर को आएगा रिजल्ट

15 अक्टूबर को एग्जाम होने के बाद जब उत्तरकुंजी (आंसर की) जारी हुई तो अभ्यर्थियों ने 12 प्रश्नों के उत्तर पर आपत्ति की। इसके बाद प्राधिकारी कार्यालय ने संशोधित उत्तरकुंजी जारी की, जिसमें दो प्रश्नों में गड़बड़ी मानते हुए अभ्यर्थियों को समान रूप से एक-एक अंक देने का निर्णय लिया गया लेकिन अभ्यर्थी इससे संतुष्ट नहीं थे। उन्होंने फिर से आपत्ति दर्ज कराई। इसके बाद प्राधिकारी कार्यालय ने पुन: संशोधित उत्तरकुंजी जारी की, जिसमें फिर दो प्रश्नों में गड़बड़ी मानी गई और उसमें भी अभ्यर्थियों को समान रूप से अंक देने का निर्णय हुआ लेकिन अभ्यर्थी इससे भी संतुष्ट नहीं हुए और हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर दी। इस पर अभी सुनवाई चल रही है। इस बीच सचिव डॉ.सुत्ता सिंह ने 15 दिसंबर को टीईटी परिणाम घोषित करने की तैयारी कर ली है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned