अस्पताल पहुंचना होगा मुश्किल, इस एलान से मरीजों के लिए आई बुरी खबर, सरकार ने तत्काल जारी किए ये बड़े निर्देश

अस्पताल पहुंचना होगा मुश्किल, इस एलान से मरीजों के लिए आई बुरी खबर, सरकार ने तत्काल जारी किए ये बड़े निर्देश
Ayodhya : स्फटिक शिला आश्रम के महंत रामाज्ञा दास के निधन पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने जताया शोक

Ruchi Sharma | Updated: 23 Sep 2019, 01:04:31 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

यूपी में सरकारी एंबुलेंस चालकों की हड़ताल, सरकार सभी पर लगाएगी एस्मा, एलान से मचा हड़कंप

 

 

लखनऊ. बैंक कर्मचारियों के बाद अब उत्तर प्रदेश में सरकारी इमरजेंस एंबुलेंस सेवा 108 और 102 के ड्राइवर हड़ताल पर चले गए है। आक्रोशित ड्राइवरों का कहना है कि दो महीने से सैलरी नहीं मिली है। इसके अलावा नए प्रोजेक्ट के तहत व्यवस्था की जा रही है कि 108 के वाहन कर्मियों को प्रति केस सौ रुपये और 102 को प्रति केस 60 रुपये दिए जाएंगे। उनका कहना है कि अगर केस न मिला तो उस दिन उन्हें कुछ नहीं मिलेगा। यह नीति गलत है। इसके चलते ड्राइवरों ने वाहनों को अस्पताल परिसर में खड़ा कर दिया है।

एस्मा लगाने के दिए निर्देश

गौरतलब है कि हड़ताल के कारण सीतापुर, बदांयू, गोरखपुर, लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज समेत कई जिलों में सरकारी एंबुलेंस ड्राइवरों ने जाम कर दिया है। वहीं जीवीके ईएमआरआई की टीम ने लखनऊ से आकर कर्मचारियों को समझाया कि वे हड़ताल न करें। हड़ताल की दशा में वैकल्पिक व्यवस्था बनाने की तैयारी की। इसे लेकर सरकार द्वारा एस्मा (आवश्यक सेवा संरक्षण अधिनियम) के तहत कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है।

दो महीने से नहीं आई सैलरी

चालकों का आरोप है कि उनसे आठ घंटे की जगह 12 घंटे ड्यूटी कराई जाती है। इसके साथ ही दो महीने से सैलरी भी नहीं आई है। उन्हें पायलट प्रोजेक्ट के तहत दिहाड़ी मजदूर की तरह 60 रुपये प्रति केस के हिसाब से भुगतान किया जाता है। वह भी समय से वेतन भी नहीं मिलता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned