अपर्णा यादव ने नूतन ठाकुर को दिया करारा जवाब..

अपर्णा यादव ने नूतन ठाकुर को दिया करारा जवाब..
akhilesh aprna

Ruchi Sharma | Updated: 03 Jul 2017, 04:58:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

अपर्णा ने खोला अखिलेश की मेहरबानी का राज, सुनकर दंग रह जाएंगे

लखनऊ. मुलायम सिंह यादव के छोटे बेटे प्रतीक व बहू अपर्णा यादव की गौशाला कान्हा उपवन एक बार फिर विवादों के घेरे में है। आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर ने कान्हा उपवन को दिए जाने वाले अनुदान पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि आरटीआई के माध्यम से पशुपालन विभाग व उत्तर प्रदेश गोसेवा आयोग द्वारा जो सूचना उन्हें उपलब्ध कराई गई है, उससे ये साफ है कि मुलायम परिवार के लिए नियमों की अनदेखी की गई है। वहीं नूतन ठाकुर के आरोप पर सफाई देने के लिए अपर्णा समाने आईं और उन्होंने अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि कोई संस्था अच्छा काम कर रही है और उसे सरकार मदद करती है तो इसमें गलत क्या है? कान्हा उपवन में गोवंश की अच्छी देखभाल की जाती है और अगर इसके लिए उन्हें आर्थिक मदद की गयी है तो इसमें गलत क्या है? 

विभाग द्वारा उपलब्ध कराई गई सूचना

जन सूचना अधिकारी डॉ संजय यादव की सूचना दिनांक 23 मई 2017 के अनुसार कान्हा उपवन, नादरगंज, लखनऊ का संचालन होता है।इस जीव आश्रय गोशाला को वर्ष 2013 में 1.25 करोड़, 2014 में 1.46 करोड़ की राशि दी गयी।साथ ही 2015 में 2.58 करोड़ तथा 2016-17 में 2.56 करोड़ अर्थात कुल 7.85 करोड़ रुपये की सहयोग राशि दी गयी थी। सूचना के अनुसार पहले यह अनुदान कृषि विपणन विभाग के शासनादेश दिनांक 03 अक्टूबर 2006 के अनुसार दिया जाता था। अनुदान मिलने में विलम्ब होने के आधार पर इस शासनादेश को 08 जनवरी 2016 को बदल दिया गया।

शासनादेश में गोसेवा आयोग द्वारा प्रेषित प्रस्ताव पर निदेशक, पशुपालन विभाग के अनुदान दिए जाने की व्यवस्था है। संयुक्त निदेशक, गोशाला, पशुधन विभाग द्वारा दिनांक 05 मई 2017 के अनुसार मात्र वर्ष 2016-17 में संस्तुति ली गयी।

ये था मामला

आरटीआई के अनुसार अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री काल में उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग द्वारा गौरक्षा और गौसेवा करने वाली संस्थाओं को दिए गए अनुदान में 86 % अनुदान सिर्फ अपर्णा यादव की जीव आश्रय संस्था को दिया गया। यह संस्था लखनऊ के अमौसी इलाके में स्थित कान्हा उपवन की गौशाला को संचालित करती है।

नूतन ठाकुर ने सूचना अधिकार से किया खुलासा

आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर ने सूचना अधिकारी कानून के जरिए इस सूचना को सार्वजनिक किया है। उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग के जनसूचना अधिकारी डॉ संजय यादव द्वारा प्रेषित सूचना के अनुसार वित्तीय वर्ष 2012-2017 के 5 साल में गौशालाओं को कुल 9.66 करोड़ रुपए का अनुदान दिया गया, जिसमें 8.35 करोड़ रुपए अकेले जीव आश्रय संस्था को दिया गया, जो कुल अनुदान का 86.4 प्रतिशत है। इसके अतिरिक्त वर्ष 2012-13, 2013-14 तथा 2014-15 में इस निधि से अकेले जीव आश्रय संस्था को ही अनुदान मिला, जो क्रमश: 50 लाख, 1.25 करोड़ और 1.41 करोड़ था। वित्तीय वर्ष 2015-16 में जीव आश्रय को 2.58 करोड़ और श्रीपाद बाबा गौशाला, वृन्दावन को 41 लाख का अनुदान मिला, जबकि 2016-17 में 3.45 करोड़ के कुल अनुदान में 2.55 करोड़ अकेले जीव आश्रय को मिला. बाकी 4 संस्थाओं में सर्वाधिक 63 लाख रुपये श्रीपाद गोशाला को मिला। गौरतलब है कि अपर्णा यादव सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव की दूसरी पत्नी साधना गुप्ता से बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned