गंभीर व अन्य अनियंत्रित अस्थमा के रोगियों को कोविड का खतरा ज्यादा :डा0 सूर्यकांत

वर्ल्ड एलर्जी आर्गनाइजेषन की पूर्व अध्यक्ष जापान की डा0 रूबी पावनकर ने भी अपनी शुभकामनाएं दी।

By: Ritesh Singh

Published: 17 Apr 2021, 08:44 PM IST

लखनऊ , इंडियन कॉलेज ऑफ एलर्जी, अस्थमा एंड एप्लाइड इम्यूनोलॉजी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा के0जी0एम0यू0 के रेस्पाइरेटरी मेडिसिन विभाग के विभागाध्यक्ष डा0 सूर्यकान्त ने बताया कि एशिया पैसिफिक एसोसिएशन ऑफ लर्जी अस्थमा एण्ड क्लीनिकल इम्यूनोलोजी के तहत एलर्जी सप्ताह 1⁄412-18 अप्रैल 20211⁄2 मनाया जा रहा है। इसी क्रम में रेस्पाइरेटरी मेडिसिन विभाग, के0जी0एम0यू0 द्वारा एलर्जी पर राष्ट्रीय संगोष्ठी 1⁄4वर्चुअल1⁄2 का आयोजन किया गया। इस संगोष्ठी का उद्घाटन इण्डियन मेडिकल एसोसिएशन एकेडमी ऑफ मेडिकल स्पेशलिटी के राष्ट्रीय महासचिव डा0 संजीव सिंह यादव द्वारा किया गया।

डा0 संजीव सिंह यादव ने के0जी0एम0यू0 के रेस्पाइरेटरी मेडिसिन विभाग के 75 वर्ष पूरे होने पर विभागाध्यक्ष डा0 सूर्यकान्त को बधाई एवं शुभकामनाए दी तथा विभाग के प्लेटिनम जुबली समारोह वर्ष में 75 कार्यक्रम कराने के संकल्प की भी सराहना की। एलर्जी की इस राष्ट्रीय संगोष्ठी के लिए एशिया पैसिफिक एसोसिएशन ऑफ एलर्जी अस्थमा एण्ड क्लीनिकल इम्यूनोलोजी की अध्यक्ष व वर्ल्ड एलर्जी आर्गनाइजेषन की पूर्व अध्यक्ष जापान की डा0 रूबी पावनकर ने भी अपनी शुभकामनाएं दी।

इस संगोष्ठी में कोविड वैक्सीनेशन के ब्रांड एम्बेसडर डा0 सूर्यकांत ने कोविड काल में एलर्जी एवं अस्थमां रोगियों के लिए कोविड का खतरा एवं बचाव के बारे में विस्तृत जानकारी दी। डा0 सूर्यकान्त ने बताया कि गंभीर अस्थमा एवं अनियंत्रित अस्थमा के रोगियों को कोरोना होने का अधिक खतरा रहता है। अतः अस्थमा के सभी रोगी चिकित्सक के परामर्ष के अनुसार अपनी सभी इन्हेलर एवं अन्य चिकित्सा लेते रहे। जिससे उनका अस्थमा नियंत्रित रहे। आई0एमए0एम0एस0 के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डा0 सूर्यकान्त ने बताया कि कोरोना काल के दौरान एलर्जी टेस्टिंग, पल्मोनरी फंक्षनटेस्ट, एलर्जी इम्यूनोथेरेपी न करवायें, इससे कोरोना संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है।

कोरोना काल के दौरान एलर्जी एवं अस्थमा के रोगी डिजिटल माध्यम से चिकित्सकीय परामर्ष लें तथा चिकित्सको के क्लीनिक व अस्पतालो मे जाने से बचें। सुबह शाम भाप लेते रहे, घर के अन्दर ही रहें। यदि घर/कार्यालय का फ्यूमीगेषन हो रहा है तो एलर्जी व अस्थमां के रोगी इससे बचे क्योकि फ्यूमीगेषन में प्रयुक्त होने वाले रसायन एलर्जी व अस्थमा को बढ़ावा दे सकते है। गंभीर अस्थमा के रोगियो को ओमलिजूमैब तथा अन्य बायोलॉजिकल के इंजेक्शन लगाये जाते है। लेकिन कोरोना के दौरान इन इंजेक्शन के न लगाये।

Corona virus
Show More
Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned