ब्रज की फूलों की होली से महका अवध महोत्सव

भारत सरकार को पुष्प गुच्छ, अंग वस्त्र और समृति चिन्ह भेंटकर अवध गौरव सम्मान से सम्मानित किया।

By: Ritesh Singh

Published: 07 Feb 2021, 09:03 PM IST

लखनऊ, प्रगति पर्यावरण संरक्षण ट्रस्ट के तत्वावधान में चल रहे अवध महोत्सव-2021 की तृतीय सांस्कृतिक संध्या में ब्रज की फूलों की होली ने सराबोर किया।इस अवसर पर प्रगति पर्यावरण संरक्षण के अध्यक्ष विनोद कुमार सिंह और उपाध्यक्ष एन बी सिंह ने मुख्य अतिथि श्रीकान्त श्रीवास्तव उप-निदेशक प्रेस इंफार्मेशन ब्यूरो भारत सरकार को पुष्प गुच्छ, अंग वस्त्र और समृति चिन्ह भेंटकर अवध गौरव सम्मान से सम्मानित किया।

संगीत से सजे कार्यक्रम का आरम्भ यशस्वी पोरवाल और तेजस्वी पोरवाल ने कृष्ण वंदना बंसी बजैया ने तान जो छेड़ी पर भावपूर्ण अभिनय युक्त नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को भगवान श्रीकृष्ण की भक्ति के सागर में आकण्ठ डुबोया। भक्ति भावना से ओतप्रोत इस प्रस्तुति के उपरान्त पलक वर्मा ने राधा ढूंढ रही, उन्नति श्रीवास्तव ने राधा के संग रास रचे कृष्ण कन्हैया, अनन्या ने कन्हैया प्यारा कन्हैया, भूमिका, प्रार्थना और अंशिका ने राधा कैसे न जले गीत पर भावभिनय संग नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इसी क्रम में अनुष्का और रिया ने राधा रानी कहो तो अभी जाना, श्रेया ने राधे राधे गीत पर नृत्य प्रस्तुत कर दर्शको को भगवान श्रीकृष्ण की जगप्रसिद्ध रसलीला से अवगत कराया।

संगीत से सजे कार्यक्रम के अगले सोपान में सुजीत अलबेला, अर्चना अलबेला, ईशान, अंकिता, राहुल, आकाश, विशाल, प्रिंस और अमन ने फूलों से सज रहे हैं श्री वृन्दावन बिहारी पर भावपूर्ण अभिनय युक्त फूलों से होली खेलते हुए नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को भावविभोर कर दिया। इसी क्रम में सुजीत अलबेला झांकी गु्रप के कलाकारों ने शंकर पार्वती ताण्डव नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को भगवान शिव और माता पार्वती के दर्शन करवाये।

हृदय को हर्षातिरेक से भर देने वाली इस प्रस्तुति के उपरान्त फीमेल बाॅलीवुड म्यूजिकल मेलोडी की सुरभि बिखरी, जिसकी परिणति मे जया श्रीवास्तव ने इतनी शक्ति हमें देना दाता, शबीना ने आपकी नजरो ने समझाा, सीमा विरमानी ने दिल तो है दिल, आद्विका श्रीवास्तव ने अपलम चपलम, अनन्या श्रीवास्तव ने घर मोरे परदेशिया, ऐमन जावेद फारूकी ने नाम गुम जायेगा, अनीता सिंह ने रहे न रहे हम, अमन जावेद फारूकी ने मेरे ढोलना सुन, कनिका वर्मा ने उई मां ये क्या हो गया और नीता निगम ने अजनबी कौन हो तुम गीत को सुनाकर जहां श्रोताओं का दिल जीता वहीं महिला सशक्तिकरण का संदेश भी दिया। कार्यक्रम का संचालन सम्पूर्ण शुक्ला और अरविन्द सक्सेना ने किया।

इस अवसर पर शिव शक्ति शैक्षिक संस्थान द्वारा प्रवीण कुमार शुक्ला गोबर गणेश के संयोजन में कवियत्री कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कवि सम्मेलन में नीलम रावत ने सुनाया- बिनाधरा के समय यह बदलता नही, ख्वाब आंखों में कोई भी पलता नही। खुशबु पाण्डेय ने कहा- याद आ रहा मुझको बीता हुआ कल, जो बिसरा नही है कभी एक पल। डाॅ शोभा दीक्षित, रेनू वर्मा, अनीता सिन्हा, रेनू द्विवेदी, प्रतिमा गुप्ता, भारतीय अग्रवाल, निशा सिंह, शिखा सिंह, अर्चना सिंह, स्वधा रवीन्द्र उत्कर्षिता सहित अन्य कवियों ने अपनी कविताओं से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया। इस अवसर पर प्रिया पाल, पवन पाल, अनुराग शाह सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों के अलावा तमाम दर्शक उपस्थित थे।
आज दोपहर में हुई मेंहदी प्रतियोगिता और रस्सी कूद प्रतियोगिता में नेहा खरे को प्रथम, राशी शर्मा को द्वितीय, चित्रकला प्रतियोगिता में मिशिका सिन्हा को प्रथम, आर्यन खरे को द्वितीय और म्यूजिकल चेयर प्रतियोगिता में अधिरा सिंह को प्रथम और युवान को द्वितीय स्थान मिला।

Show More
Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned