अयोध्या जमीन विवाद को लेकर सियासी गलियारों में बढ़ी तपिश, अखिलेश, संजय के बयान पर केशव व साक्षी का पलटवार

अयोध्या के जमीन विवाद (Ayodhya Land Dispute) को लेकर सियासी गलियारों में तपिश बढ़ गई है।

By: Abhishek Gupta

Published: 17 Jun 2021, 06:19 PM IST

लखनऊ. अयोध्या के जमीन विवाद (Ayodhya Land Dispute) को लेकर सियासी गलियारों में तपिश बढ़ गई है। अब आए दिन श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Sriram mandir Trust) के महासचिव चंपत राय (Champat Rai) को सफाई देनी पड़ रही है। खुद ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास (Mahant Nritya Gopal Das) ने चंपत राय पर उनकी अनदेखी करने का भी आरोप लगा दिया है। यह सब देख सियासी गलियारों में आरोप-प्रत्यारोप का दौर तेज हो चला है। आप सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh), सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) , कांग्रेस यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) भाजपा सरकार पर लगातार तीखे हमले कर रहे हैं, तो डिप्टी सीएम केशव मौर्य (Keshav Prasad Maurya), सांसद साक्षी महाराज (Sakshi Maharaj) जैसे तमाम सत्ता पक्ष के नेता उनपर पलटवार करने से जरा भी गुरेज नहीं कर रहे हैं। गुरुवार को ही साक्षी महाराज ने कहा कि यदि अखिलेश और संजय सिंह को घोटाले का शक है, तो अपनी रसीद दिखा कर चंदा वापस ले लें।

ये भी पढ़ें- Ayodhya Land Dispute : ट्रस्ट को जमीन बेचने वालों में मेयर के रिश्तेदार और धोखाधड़ी के आरोपी शामिल

'आस्था में अवसर': प्रियंका गांधी
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने जमीन घोटाले को 'आस्था में अवसर' तलाशना करार दिया व कहा कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में पूरे घोटाले की जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि खबरों के अनुसार ट्रस्ट द्वारा जमीन की खरीददारी में घपला हुआ है। अयोध्या की एक जमीन को 18 मार्च 2021 को दो लोग 2 करोड़ रुपए में खरीदते हैं और सिर्फ 5 मिनट के बाद ट्रस्ट की ओर से इसे 18.5 करोड़ रुपये में खरीद लिया जाता है। यानी जमीन की कीमत 5.5 लाख रुपये प्रति सेकेंड की दर से बढ़ गई। क्या इस पर कोई विश्वास कर सकता है? मत भूलिए, यह सारा पैसा हिंदुस्तान की जनता द्वारा मंदिर निर्माण के दान और चढ़ावे के रूप में दिया गया था।

ये भी पढ़ें- अयोध्या भूमि विवाद : 18 मार्च को ही 8 करोड़ में खरीदा गया था एक और जमीन का टुकड़ा

बेईमानों को जेल भेजे भाजपा: संजय सिंह
संजय सिंह ने कहा कि आम आदमी पार्टी चाहती हैं कि राम का मंदिर जल्द बने, लेकिन चंदे की चोरी, भ्रष्टाचार और राम के नाम पर पैसे की लूट करने वाले इसमें बाधक बन रहे हैं। हमारी मांग है कि भाजपा और ट्रस्ट के लोग कोरोड़ों हिंदुओं से माफी मांगें और बेइमानों को जेल भेज कर मंदिर का निर्माण जल्द किया जाए।

ट्रस्ट सदस्यों को इस्तीफा देना चाहिए: अखिलेश यादव
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मामले की जांच की मांग करते हुए कहा कि यह करोड़ों की हेराफेरी का मामला है। इसलिए इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। साथ ही ट्रस्ट के सभी सदस्यों को इस्तीफा देना चाहिए। अखिलेश यादव ने यह भी कहा कि मंदिर के लिए अयोध्या के धर्मपुर गांव में किसानों की भूमि एयरपोर्ट के लिए अधिग्रहित की जा रही है। इसके लिए किसानों को समुचित रेट पर मुआवजा मिलना चाहिए।

ये भी पढ़ें- बीजेपी और ट्रस्ट का विरोध करने के लिए आप और कांग्रेस दिया 100 करोड़ का ऑफर : महंत परमहंस दास

रामभक्तों की हत्या करने वाले नैतिकता न करें बात-
केशव प्रसाद मौर्य ने समाजवादी पार्टी व आम आदमी पार्टी के नेताओं पर पलटवार किया व उन्हेंखरी-खोटी सुनाई। डिप्टी सीएम ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के आंदोलन में राम भक्तों की हत्या के दौरान जिनके हाथ खून से रंगे थे, कम से कम वह लोग तो नैतिकता की बात न ही करें तो ठीक है। उन्होंने कहा कि अभी आरोप लगे हैं, इसकी जांच होगी। यदि कोई दोषी है तो एक्शन लिया जाएगा।

चंदे की धनराशि वापस ले जाएं: साक्षी महाराज
उन्नाव सांसद साक्षी महाराज ने भी पलटवार करते हुए कहा कि श्रीराम मंदिर निर्माण में सारा धन राम भक्तों का लग रहा है, अखिलेश या संजय सिंह जैसे सवाल खड़े करने वालों का नहीं। सवाल उठाने वालों ने यदि चंदा दिया है, तो वह अपनी रसीद दिखाएं औरमुझसे उतनी धनराशि वापस ले जाएं। और अगर चंदा दिया ही नहीं, तो उनके पेट में दर्द क्यों हो रहा है। सांसद ने आगे यह भी कहा कि जिस पार्टी के मुखिया ने कारसेवकों पर गोलियां चलवाई थी, वहां पर आज भव्य राम मंदिर बनने जा रहा है। और यह बात उन लोगों को हजम नहीं हो रही है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned