केजीएमयू बना अखाड़ा, इलाज न मिलने से बच्ची की मौत

हंगामे को देखते हुए परिसर में भारी संख्या में पुलिस और पैरामिलिट्री फ़ोर्स की तैनाती की गई है।

By: Laxmi Narayan Sharma

Published: 07 Jun 2018, 05:14 PM IST

लखनऊ. कर्मचारियों और जूनियर डाक्टरों के बीच शुरू हुए विवाद के बाद गुरुवार को किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय जंग का अखाड़ा बन गया। जूनियर डाक्टरों ने हंगामा काटते हुए मेडिकल कॉलेज के ट्रामा सेंटर सहित सभी विभागों में इलाज का काम ठप करा दिया। इलाज न मिलने के कारण केजीएमयू में एक 13 महीने की बच्ची की मौत हो गई। इस दौरान हज़ारों की संख्या में मरीज इलाज न मिलने के कारण केजीएमयू से पलायन कर गए। इन सबके बीच व्यवस्था बहाल करने के लिए न तो केजीएमयू प्रशासन ने कोई सक्रियता दिखाई न ही शासन ने मामले का संज्ञान लिया। फ़िलहाल केजीएमयू में शुरू हुआ यह विवाद थमता नहीं दिख रहा।

मारपीट से शुरू हुआ विवाद

दरअसल केजीएमयू कर्मचारी परिषद ने बुधवार को कुलानुशासक को दिए शिकायती पत्र में बताया था कि पैथोलॉजी सैम्पल कलेक्शन सेंटर में मेडिकल स्टूडेंट्स ने कर्मचारियों से मारपीट करते हुए गाली-गलौज की और महिला कर्मचारियों से भी मारपीट की। कर्मचारियों ने मेडिकल स्टूडेंट्स पर केस दर्ज कराने की मांग की थी। कर्मचारियों की इस मांग के विरोध में गुरुवार को सुबह से ही मेडिकल स्टूडेंट्स ने मोर्चा खोल दिया। सबसे पहले प्रशासनिक भवन पहुंचे जूनियर डाक्टरों ने हंगामा काटते हुए कामकाज ठप करा दिया। इसके बाद ट्रॉमा सेंटर सहित ओपीडी और अन्य विभागों में भी कामकाज ठप करा दिया।

हज़ारों मरीज कर गए पलायन

जूनियर डाक्टरों के हंगामे के कारण मेडिकल विश्वविद्यालय में इलाज के लिए पहुंचे मरीजों को इलाज के लिए दूसरी जगह पलायन करना पड़ा। इस दौरान फैजाबाद से इलाज के लिए आई एक 13 महीने की बच्चे की इलाज न मिलने से मौत हो गई। ट्रॉमा के साथ ही लारी हॉस्पिटल, क्वीन मेरी में भी इलाज की सेवाएं ठप हो गई जिसके बाद यहां से भी मरीजों को इलाज के लिए पलायन करना पड़ा। जूनियर डाक्टरों के हंगामे को देखते हुए परिसर में भारी संख्या में पुलिस और पैरामिलिट्री फ़ोर्स की तैनाती की गई है। इन सबके बीच मरीजों को राहत देने के लिए मेडिकल विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से कोई व्यवस्था नहीं की गई है। केजीएमयू के कुलपति प्रो एमएलबी भट्ट से जब पूरे प्रकरण में समस्या के समाधान के बारे में जानकारी की कोशिश की गई तो संपर्क नहीं हो सका।

 

Laxmi Narayan Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned