बंदियों की मनोदशा में होगा सुधार, बंदी रक्षकों को मिलने वाले बॉडी वार्न कैमरे की खासियत, जाने कैसे काम करेंगे ये कैमरे

प्रदेश की जिला जेलों में बंदी रक्षक बॉडी वार्न कैमरे पहनकर काम करेंगे। इसमें कई तरह के फीचर्स होंगे। डीजी आनन्द कुमार की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने इन जेलों में बॉडी वार्न कैमरे (बीडब्लूसी) लगाने की मंजूरी दे दी है।

By: Karishma Lalwani

Published: 03 Oct 2020, 10:56 AM IST

लखनऊ. प्रदेश की जिला जेलों में बंदी रक्षक बॉडी वार्न कैमरे पहनकर काम करेंगे। इसमें कई तरह के फीचर्स होंगे। डीजी आनन्द कुमार की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने इन जेलों में बॉडी वार्न कैमरे (बीडब्लूसी) लगाने की मंजूरी दे दी है। इसमें विजुएल के साथ आवाज रिकॉर्ड होगी, जिसकी रिकॉर्डिंग कंट्रोल रूम में होगी। ये बॉडी वार्न लखनऊ समेत यूपी के 25 जिला जेलों में बंदी रक्षक को दिए जाएंगे। यूपी को इसके लिए 80 लाख रुपये मिलेंगे।

ये भी पढ़ें: रोजाना दो-दो रुपये जोड़कर पाएं 36 हजार रुपये, इस सरकारी योजना में ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

बन्दियों की मनोदशा में सुधार होगा

डीजी आनन्द कुमार के नुसार, बॉडी वार्न बंदियों की मनोस्थिति को समझने में मदद करेगा। मनोवैज्ञानिकों, मनोचिकित्सकों, विधि-फॉरेंसिक विशेषज्ञ की मदद से बंदियों की मनोदशा को समझने का प्रयास किया जाएगा। वीडियो बंदियों के परिजनों को भी दिखाए जाएंगे ताकि वह उन्हें भी समझा सकें।

ये भी पढ़ें: हाथरस कांड को लेकर वाल्मीकि समाज ने इन मांगो के साथ निकाला कैंडल मार्च

इन जेलो में लगेंगे कैमरे

लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, वाराणसी, बरेली, प्रयागराज, मुरादाबाद, सुल्तानपुर, आगरा, अलीगढ़, आजमगढ़, प्रतापगढ़, नोयडा, गाजियाबाद, फतेहगढ़, इटावा, सीतापुर, बागपत, मथुरा समेत 25 जेलें हैं। इन जेलों में पहले चरण में बॉडी वार्न कैमरे लगेंगे।

ये भी पढ़ें: बलरामपुर गैंगरेप दो आरोपी गिरफ्तार, पीड़िता को दवा खिलाकर बेहोश करने की कबूली बात

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned