अखिलेश यादव से बताया जान का खतरा, योगी सरकार से सुरक्षा की मांग

वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल के नीति निर्देशक भरत गांधी ने अखिलेश यादव से खुद को जान का खतरा बताकर सरकार से सुरक्षा की मांग दोहराई है।

By:

Published: 10 Aug 2017, 06:42 PM IST

लखनऊ. वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल के नीति निर्देशक भरत गांधी ने अखिलेश यादव से खुद को जान का खतरा बताकर सरकार से सुरक्षा की मांग दोहराई है। गुरुवार को राजधानी स्थित गांधी भवन में उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में यह मांग रखी। दरअसल साल 2012 कन्नौज उपचुनाव में हुए विवाद के बाद उन पर जानलेवा हमला हुआ था जिसके बाद मानवाधिकार अायोग ने प्रदेश सरकार से उन्हें पुलिस सुरक्षा देने के लिए कहा था जो अभी तक नहीं मिली है।

भरत गांधी के मुताबिक मानवाधिकर आयोग उनको पुलिस सुरक्षा देने के लिए सन 2014 से लेकर अब तक कई आदेश जारी कर चुका है, लेकिन अखिलेश सरकार ने किसी भी आदेश का अनुपालन नहीं किया। अब सूबे में योगी सरकार आने पर अनुपालन शुरू हुआ लेकिन पुलिस सुरक्षा अभी तक नहीं दी गई है।

प्रदेश के गृह ने सचिव भरत गांधी को पुलिस सुरक्षा देने का आदेश गत 19 अप्रैल को ही दिया था, लेकिन उस आदेश का अनुपालन भी अभी तक नहीं हुआ है। 19 अप्रैल को उसी दिन आयोग ने मामले की सुनवाई के लिए भरत गांधी के मामले की फाइल आयोग की पूर्ण पीठ को भेज दी और प्रदेश सरकार को आदेश किया है उनके मामले की जांच उत्तर प्रदेश की सीबीसीआईडी से करवा कर आयोग को रिपोर्ट सौंपी जाए और उन्हें पुलिस सुरक्षा दी जाए। इसके बावजूद सुरक्षा अभी तक नहीं दी गई है।

भरत गांधी ने बताया वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल ने हाई कोर्ट, सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में वाद दाखिल किया और इस मुद्दे पर लगातार संघर्ष करती रही है लेकिन अखिलेश सरकार ने अदालती आदेशों का अनुपालन नहीं किया। इसीलिए माननीय राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने क्षुब्ध होकर मामले को 24 फरवरी 2016 को प्रदेश की सीबीसीआईडी को दे दिया। मामला सीबीसीआईडी तक 24 फरवरी 2016 में इसलिए पहुंचा क्योंकि वीपीआई प्रमुख भरत गांधी पर 3 बार हुए हमलों के बावजूद भी अखिलेश सरकार ने उन्हें पुलिस सुरक्षा मंजूर नहीं की।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned