यूपी के सबसे बड़े सियासी परिवार में हुए दो फाड़, एक ने मायावती पर ही लगाया आरोप

यूपी के सबसे बड़े सियासी परिवार में हुए दो फाड़, एक ने मायावती पर ही लगाया आरोप

Anil Ankur | Publish: Nov, 10 2018 12:00:11 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 12:00:12 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

मायावती पर बड़ा आरोप , भाई पर भी आरोप

लखनऊ। यूपी के सबसे बड़े सियासी परिवार में दो फाड़ हो गए हैं। बिखराव होते ही परिवार के एक सदस्य ने बसपा सुप्रीमो पर ही वार कर दिया। लम्बे समय तक बसपा की सियासत करने वाले इस परिवार के सदस्य मुकुल उपाध्याय ने टिकट दिए जाने के बदले मायावती पर पांच करोड़ रुपए मांगने का आरोप लगाया है। उनके इस आरोप के बाद से सियासी हल्के में भूचाल सा आ गया है। वहीं बसपा पदाधिकारियों ने दावा किया है कि मुकुल को पहले ही मायावती ने छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया था, इसलिए वे अनर्गल बातें कर रहे हैं।

रामवीर उपाध्याय का है ये परिवार

आगरा हाथरस, मथुरा समेत पश्चिम उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण मतों में अच्छी पैठ रखने वाले इस सियासी परिवार के मुखिया रामवीर उपाध्याय लम्बे समय से बसपा से जुड़े रहे हैं। वे बसपा सरकार में कद्दावर नेता के रूप में भी देखे जाते रहे हैं। उनकी पत्नी भी बसपा से सक्रिय राजनीति करती रही हैं। अब उनके परिवार के भाई भतीजे बसपा से टूट कर अपनी अलग पहचान बनाने में जुट गए हैं।


मायावती पर बड़ा आरोप

बता दें कि गुरुवार को ही बसपा प्रमुख मायावती के र्निदेश पर मुकुल उपाध्याय को छह साल के निष्कासित किया गया है। इसके बाद मुकुल ने आज प्रेस कॉन्फेरंस कर मायावती पर गंभीर आरोप लगाए हैं। मुकुल उपाध्याय का सीधा आरोप है कि मायावती ने लोकसभा टिकट देने के एवज में उनसे पांच करोड़ रुपए की मांग की। मुकुल ने कहा कि वह अलीगढ़ से लोकसभा का टिकट मांग रहे थे लेकिन वह इतने रुपए देने में सक्षम नहीं थे इसलिए उन्हें निकाल दिया गया। मुकुल ने आरोप लगाया है कि बसपा प्रमुख बिना रुपए के टिकट नहीं दे रही हैं।

भाई पर भी आरोप

इतना ही नहीं मुकुल उपाध्याय ने इस निष्कासन के पीछे अपने बड़े भाई पूर्व ऊर्जामंत्री रामवीर उपाध्याय और भाभी पूर्व सांसद सीमा उपाध्याय का हाथ बताया। उन्होंने कहा कि वह अलीगढ़ से चुनाव लडऩा चाहते हैंं लेकिन रामवीर उपाध्याय अपनी पत्नी सीमा उपाध्याय को अलीगढ़ से चुनाव लड़ाना चाहते हैं इसलिए उन्होंने उन्हें निष्कासित करवा दिया है। इस बात के संकेत मिले हैं कि मुकुल उपाध्याय भाजपा में शामिल हो सकते हैं।

Ad Block is Banned