पिकप भवन अग्निकांड मामले को लेकर सबसे बड़ा खुलासा, अफसर के गिरफ्तारी के बाद इस फाइल का खुला सबसे बड़ा राज

पिकप भवन अग्निकांड मामले को लेकर सबसे बड़ा खुलासा, अफसर के गिरफ्तारी के बाद इस फाइल का खुला सबसे बड़ा राज

Ruchi Sharma | Updated: 11 Jul 2019, 11:39:18 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- कुछ फाइलों के चक्कर में लगा दी पूरी बिल्डिंग में आग

-दिल्ली भेजी गई रिपोर्ट

-बयान में झूठ बोलते रहे सीनिर मैनेजर

लखनऊ. तीन जुलाई को हुए राजधानी के पिकप भवन अग्निकांड मामले की जांच में दोषी पाए गए सीनियर मैनेजर (टेक्निकल) एनके सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। कुछ फाइलों को जलाने के चक्कर में पूरी बिल्डिंग में आग लगा दी। एनके सिंह को विभूति खंड पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एनके सिंह पर साजिश के तहत आग लगाने और जरूरी फाइलों को नष्ट करने का आरोप लगाया गया है। सीसीटीवी फुटेज और बायोमीट्रिक पंचिंग रिकॉर्ड की छानबीन के बाद उन्हें पकड़ा गया है। आग प्रारंभिक रूप से एनके सिंह के कमरे में ही लगी। गिरफ्तार अधिकारी के पास ही लोन संबंधित अहम फाइलें थीं। आरोप है कि अधिकारी ने अहम फाइलों को जलाकर मिटा डाला। इस मामले में कई अन्य संदिग्धों से भी पूछताछ जारी है। इस मामले की जांच के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एडीजी इंटेलिजेंस को आदेश दिया था। सीएम योगी के आदेश के बाद एडीजी ने कई गंभीर धाराओं में जांच कर एफआईआर दर्ज की थी।

इसलिए लगाई पूरी बिल्डिंग में आग

करोड़ों रुपए के ऋण से सम्बधिंत महत्वूर्ण फाइलें हादसे के एख दिन पहले ही पिकप के सीनियर मैनेजर एनके सिंह के कमरे में रखवाई गई थी। इन फाइलों में ही दर्ज था कि किन कम्पनियों से करोड़ों रुपए के ऋण की रिकवरी होनी है। अब पुलिस मास्टरमाइन्ड के बेहद करीब पहुंच चुकी है, जिसने यह सब ताना- बाना बुना। एनते सिंह की गिरफ्तारी के बाद पुलिस के भी दावा है कि जल्दी ही कुछ अौर पर कार्रवाई तय है।

दिल्ली भेजी गई रिपोर्ट

सीओ ने बताया कि अग्निकांड के मामले में गुजरात से आई फायर फॉरेंसिक टीम ने रिपोर्ट दे दी है। लखनऊ की फॉरेंसिक टीम ने एनके सिंह के कक्ष से ही आग लगने की पुष्टि की है। हालांकि, कई और रिपोर्ट आनी बाकी हैं। कुछ नमूने दिल्ली की विधि विज्ञान प्रयोगशाला को भी भेजी गई हैं। लखनऊ और दिल्ली से रिपोर्ट आने का इंतजार किया जा रहा है।

बयान में झूठ बोलते रहे सीनिर मैनेजर

पुलिस ने बताया कि एनके सिंह ने आग लगने की सूचना तुरंत किसी को नहीं दी। उन्होंने बयान दिया कि पहले वह अौर एक गार्ड आग बुझाने की कोशिश करते रहे। पर किसी गार्ड ने एेसा बयान नहीं दिया कि वह इस कमरे में आग बुझाने की कोशिश करने गया था। इसके अलावा भी उन्होंने कई बयान झूठे दिए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned