बिहार के मंत्री यूपी से सीखने आए खेती किसानी

उत्तर प्रदेश के पदाधिकारियों के साथ कृषि योजनाओं के बारे में की परिचर्चा

By: Anil Ankur

Published: 24 May 2018, 08:40 PM IST

लखनऊ. बिहार सरकार के कृषि मंत्री, डाॅ॰ प्रेम कुमार ने लखनऊ में वी॰वी॰आई॰पी॰ गेस्ट हाऊस में उत्तर प्रदेश के कृषि विभाग के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ सरकार के महत्त्वाकांक्षी योजनाओं के क्रियान्वयन पर आज विचार-विमर्श किया। उत्तर प्रदेश के कृषि विभाग के पदाधिकारियों ने मंत्री, कृषि को बताया कि उत्तर प्रदेश के 15,921 पंचायतों में किसानों के लिए प्रतिदिन 2 घंटों के तीन दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया जाता है। इसके साथ-साथ फसल मौसम में किसान पाठशाला चलाई जाती है। साथ ही, किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य दिलाने के लिए मंडियों में नवीनत्तम सुविधाएँ उपलब्ध है, जिसमें किसानों को प्रतिदिन बाजार भाव तथा अन्य जानकारियाँ ससमय दी जाती है। उत्तर प्रदेश में स्वायल हेल्थ कार्ड किसानों को उपलब्ध कराने की प्रक्रिया के बारे मे भी अवगत कराया गया।
कृषि मंत्री डा0 प्रेम कुमार ने उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व की प्रशंसा करते हुए कहा कि किसानों के हित में कृषि विभाग के योजनाओं के क्रियान्वयन पर उत्तर प्रदेश सरकार बेहतर कार्य कर रही है। उन्होंने बिहार सरकार कृषि विभाग द्वारा कृषि रोड मैप 2017-2022 की चर्चा करते हुए बताया कि इस कृषि रोड मैप में कृषि सहित 12 विभागों के लिए 1.54 लाख करोड़ की योजनाएँ स्वीकृत की गई है, जिसमें कृषि के लिए अलग से बिजली फीडर की व्यवस्था की जा रही है। किसानों की आय में बढ़ोतरी के लिए किये जा रहे कार्यों विशेषकर राज्य के प्रत्येक पंचायत में एक जून से किसान चैपाल, जिसके माध्यम से किसानों के द्वार पर राज्य योजनाओं की जानकारी, अनुदान की प्रक्रिया तथा किसानों से योजनाओं के प्रारूप में सुधार पर परिचर्चा की जायेगी।
उन्होंने प्रत्येक प्रखण्ड में किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य दिलाने के लिए किसान उत्पादक संगठन (एफ॰पी॰ओ॰), जैविक कोरिडोर का निर्माण तथा जैविक सब्जी के खेती के लिए 4 जिलों में अग्रिम इनपुट अनुदान की चर्चा की। कृषि मंत्री, बिहार सरकार ने उत्तर प्रदेश के पदाधिकारियों को बिहार में कृषि यांत्रिकरण योजना के आॅन-लाईन प्रक्रिया जिसमें किसानों से आवेदन से लेकर अनुदान तक की व्यवस्था है, के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि इस साॅफ्टवेयर को पहली बार अप्रैल माह से ही सालोंभर के लिए किसानों के हित में चालू कर दिया गया है। इसके साथ ही, अनुमंडलस्तर पर प्रत्येक माह कृषि यांत्रिकरण मेला का आयोजन किया जायेगा।

Anil Ankur Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned