भाजपा ने संकल्प पत्र नहीं, एक बार फिर ‘छल पत्र‘ जारी किया-अखिलेश

संकल्प पत्र को लेकर विपक्ष ने भाजपा पर निशाना साधा

By: Anil Ankur

Published: 12 Nov 2017, 07:31 PM IST

Lucknow. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि नगर निकाय चुनावों की निष्पक्षता भंग करने की साजिश के तहत ही भाजपा ने एक बार फिर विधानसभा चुनावों के बाद ‘छल पत्र‘ जारी किया है। उनके तथाकथित संकल्प-पत्र की न कोई विश्वसनीयता है और न इनकी साख बची है। भाजपा नेता अपनी जेब में ओपियम की पुड़िया रखते हैं ताकि जनता को अपने झूठ से मदहोश कर सकें।

अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश के मतदाता भूले नहीं है कि 8 महीने पहले विधानसभा चुनावों में भाजपा ने जो वादे किए थे उनमें से एक भी पूरा नहीं किया। भाजपा सरकार में हर तरफ अव्यवस्था और अराजकता फैली है। शहरों में गंदगी-कूड़े के ढ़ेर लगे हैं। बीमारियां फैल रही है। डेंगू से कितनी ही मौतें हो चुकी हैं गोरखपुर में सैकड़ो बच्चों की मौतें हो चुकी है। दवा और आक्सीजन के बगैर अस्पतालों में मौतें हो रही हैैं।

अखिलेश ने कहा कि भाजपा राज में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त है जबकि समाजवादी सरकार के समय अपराध की घटनाओं पर रोक लगी थी। आज दिन दहाड़े लूट अपहरण और बच्चियों तक से बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं। लोग डरे-सहमें हैं। केन्द्र और उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकारें हैं। इसके बावजूद गाजियाबाद , नोएडा, लखनऊ, धुंध और धुएं से ग्रस्त है। प्रदूषण का स्तर बढ़ जाने से लोगों की जान पर बन आई है। सांस लेना मुश्किल हो गया है।

भाजपा का चाल चरित्र कपट पूर्ण है। वह ऐसी दुस्साहसिक पार्टी है जो सोचती है कि अपने छलबल से फिर लोगों को गुमराह कर देगी। लेकिन भाजपा नेताओं को जानना चाहिए कि काठ की हांड़ी बार-बार नहीं चढ़ती है। उनके झूठ और प्रपंच को जनता खूब पहचान गई है। इसे बर्दाश्त करने का उसका सब्र भी टूट गया है। भाजपा अब मतदाताओं की परीक्षा लेने का काम नहीं करे।

अखिलेश यादव ने कहा कि जनता के सामने विकल्प है समाजवादी पार्टी जिसने जो वादा किया वह समय से पहले निभा दिया। समाजवादी सरकार का कार्यकाल बेदाग है और समाजवादी सरकार के नाम विकास के कई कीर्तिमान है। भाजपा जो कहती है, करती नहीं है। जबकि समाजवादी पार्टी की कथनी करनी में एक रूपता है। मतदाता समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में निर्णय अवश्य करेंगे।

भाजपा ने नगर निगम चुनाव के लिए अपना संकल्प पत्र जारी किया। इस संकल्प पत्र को लेकर विपक्ष ने भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि इसमें उनका अपना कुछ नहीं है। सारी योजनाएं पहले से कांग्रेस व सपा सरकार में चल रही थीं। अब उन्हीं का संकलन करके संकल्प पत्र के रूप में पेश कर दिया गया है।

समाजवाादी पार्टी के प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा है कि भाजपा ने संकल्प पत्र में कुछ ऐसा नहीं कहा है जो अभी नगर निगम में नहीं चल रहा है। ये सारी योजनाएं सपा सरकार में बखूबी चल रही थीं। पिछले छह महीने से इन योजनाओं में तेजी से काम नहीं कराया गया जिसके कारण यह स्थिति बन गई है। उन्होंने कहा कि सपा सरकार ने स्वच्छ पेयजल आपूर्ति के लिए जोन वाइज ट्यूबवैलों की स्थापना कराई। स्वच्छ शहर हो, इसके लिए हर शहर में संविदा पर सफाई कर्मचारियों की भर्ती का आदेश जारी किया। शहरी क्षेत्र में सड़कें और गलियां रोशन हों, इस कार्य में भी सपा सरकार के दौरान निकायों ने अभूतपूर्व प्रगति की। स्ट्रीट लाइट सोलर लाइट से चलाने की भी व्यवस्था की गई। भाजपा के संकल्प पत्र में कुछ नहीं है। सपा सरकार की योजनाओं को अपने पैड पर परोसा गया है।

कांग्रेस के प्रवक्ता अमरनाथ अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस ने शहरों में बेहतर सड़कें, आरसीसी की सड़कें, मजबूत गलियों और रात भर रोशन करने वाली स्ट्रीट लाइटों की येाजनाएं शुरू कीं। पेयजल व्यवस्था से लेकर सीवर व कूड़ा निस्तारण की भी योजना शुरू की गई। कांग्रेस ने जेएनएनयूआरएम योजना के तहत शहरों में सिटी बस सेवा, बेहतर परिवहन व्यवस्था के लिए सड़कों के चौड़ीकरण की योजना शुरू की गई। अब भाजपा ने केन्द्र से ये योजनाएं बंद जरूर कर दी हैं, लेकिन चुनाव के मौके पर ये सारी सुविधाएं देने का संकल्प जरूर लिया है। इससे भाजपा को दोहरा चरित्र दिखता है। कांग्रेस की योजनाओं को अपने नाम से पेश किया गया है।

Anil Ankur Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned