सपा-बसपा के खिलाफ इस रूम से कौन कर रहा है वार

 सपा-बसपा के खिलाफ इस रूम से कौन कर रहा है वार
bjp war room

सड़क से सोशल मीडिया तक विरोधी दलों को कुछ ऐसे ठिकाने लगाएगी भाजपा

—मधुकर मिश्र

लखनऊ। चुनावी जंग का ऐलान होते ही किसी भी दल के वार रूम की अहमियत बढ़ जाती है। चुनावी कैंपेन को मॉनिटर करने वाला ऐसा ही वार रूम लखनऊ स्थित भाजपा हेडक्वाटर के उपरी तल में चल रहा है। जहां दिन-रात आईटी और राजनीति के पुरोधा पार्टी की रणनीति बनाने में जुटे हुए हैं। रिसर्च विंग में जाकर पता चला कि पार्टी के सबसे बड़े चुनावी चेहरे यानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की होने वाली बड़ी रैलियों को लेकर रणनीति बनाई जा रही है। साथ ही इसे सफल बनाने के लिए सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है।


सियासी ताकत देने वाली सेल



जनमन को लुभाने और विरोधी दलों से मुकाबला करने के लिए विधानसभा और जिला स्तर पर चुनाव संचालन समिति बनाई है। जिन्हें मॉनीटर करने के लिए प्रदेश स्तर पर विभाग भी बनाए गए हैं। पार्टी का चुनाव प्रबंधन का अहम ​जिम्मा संभालने वाले जे.सी.एस. राठौर के मुताबिक चुनाव प्रचार एवं प्रबंधन, मीडिया के कामकाज आदि को संभालने के लिए अलग टीमें है। जबकि किसी भी कानूनी अड़चन का सामना करने के लिए एक अलग सेल बनाई गई है। चुनाव से जुड़े तमाम मुद्दों को इकट्ठा करके रिसर्च विंग संबंधित नेताओं तक पहुंचाने का काम करती है। ये डाटा न सिर्फ नेताओं के भाषण बल्कि भाजपा के घोषणा पत्र बनाने में भी काम आ रहा है। प्रत्याशियों की फिजां बनाने के साथ मतदाताओं का मन टटोलने के लिए टेलीकॉलर बड़ी संख्या में जुटे हुए हैं। इस टीम के कंधे पर अखिलेश यादव के विकास को झुठलाने से लेकर भाजपा के चुनावी चेहरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास कार्यों का गुणगान करने की अहम जिम्मेदारी है।



कार्यकर्ता ऐसे करते हैं मन की बात

सभी जिलों के कार्यकर्ताओं और नेताओं से बात करने के लिए वीडियो कांफ्रेसिंग रूम बनाया गया है। उत्तर प्रदेश में कुल 92 जगह पर अटल आइटी सेंटर बने हुए हैं। यहां से एक आम कार्यकर्ता वेबकैमरा और माइक के जरिए ​पार्टी अध्यक्ष से लेकर एक आम कार्यकर्ता को अपनी समस्या या बात से अवगत करा सकता है। समय-समय पर केशव प्रसाद मौर्य और सुनील बंसल इस वीडियो कांफ्रेसिंग का इस्तेमाल करके कार्यकर्ताओं के मन की बात सुनते हैं।



तकनीक की ताकत का इस्तेमाल


शोसल मीडिया के मैदान में भाजपा की टीम पुरजोर तरीके से सक्रिय है। सोशल मीडिया और इन्फार्मेशन टेक्नोलॉजी के लिए एक विभाग बनाया है जिसका नाम है आईटी विभाग। उत्तर प्रदेश आइटी विभाग के प्रमुख संजय रायका कहना है कि फेसबुक पर तकरीबन डेढ़ करोड़ से ज्यादा लोग जुड़े हुए हैं। वहीं व्हाट्सअप पर 4.5 करोड़ लोग सक्रिय हैं। यदि सोशल मीडिया के सभी आयामों में सक्रिय लोगों को मिला लिया जाए तो यह संख्या 6.5 करोड़ पहुंच जाती है। संगठनात्मक दृष्टि से भाजपा ने सूबे को छह जोन में बांटा हुआ है। जिसमें पार्टी कार्यकर्ताओं के लगभग आठ हजार व्हाट्सप ग्रुप बने हुए हैं। प्रत्येक ग्रुप में एक हजार लोग जुड़े हुए हैं। वहीं स्टेट लेवल का एक अलग से व्हाट्सअप नंबर बना हुआ है। साथ ही एक टीम एसएमएस और वाइस काल के जरिए पार्टी के वादों-इरादों से लोगों को अवगत करा रही है।


खुल गया रिसर्च टीम का राज

चुनाव में आंकड़ों का खेल खूब चलता है। खुद का दमखम दिखाने से लेकर विरोधी पक्ष को दबाने तक के लिए बीजेपी की रिसर्च टीम प्रतिदिन खबरों पर नजर बनाए हुए है। यह टीम खबरों को संयोजित करने के साथ ही साथ विरोधियों द्वारा उठाए गए सवालों के जवाब भी तैयार करती है। इनके द्वारा तैयार की गयी रिपोर्ट प्रदेश के बड़े नेताओं को मुहैया कराई जाती है। रिसर्च टीम पूरे दिन चलने वाली चर्चित खबर के अलावा कौन सा मुद्दा आगे बढ़ सकता है उसके बारे में भी अपना फीड बैक पार्टी आलाकमान को देता है। शोध टीम के मुखिया अनिल पांडेय के मुताबिक रिसर्च टीम द्वारा इकट्ठे किए गए अब तक के आंकड़ों में सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी निकल कर आया है। वहीं अपराध और भ्रष्टाचार के बाद सड़क, पानी, बिजली को लेकर भी​ खूब शिकायतें मिली हैं।


डटे हैं आईटी प्रोफेशनल्स

भाजपा के वार रूम में काम करने वाले अधिकांश लोग शिक्षित, प्रोफेशनल और आइटी के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं। राजनीति के जानकार और संगठन से जुड़े लोगों को भी विशेष रूप से जोड़ा गया है ताकि उत्साह में कोई गलत संदेश लोगों तक न चला जाए। सूबे के एक लाख 47 हजार बूथ पर पार्टी का तंत्र सुनियोजित ढंग से काम करे इसके लिए पूरी रणनीति बनाई गई है। बहरहाल, सोशल मीडिया पर कभी एकक्षत्र राज करने वाली भाजपा के सामने न सिर्फ कांग्रेस, सपा जैसी बड़ी मीडिया मैनेजमेंट वाले सियासी दल हैं बल्कि उसे इस बार उस बसपा से भी टक्कर लेनी है जिसने अरसे तक दूरी बनाए रखने के बाद इस मंच पर जबरदस्त तरीके से धमक दी है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned