सीएम योगी आदित्यनाथ का सबसे बड़ा तोहफा, सिर्फ ढाई साल में बनकर तैयार होगा अखिलेश को टक्कर देने वाला ये एक्सप्रेस-वे

सीएम योगी आदित्यनाथ का सबसे बड़ा तोहफा, सिर्फ ढाई साल में बनकर तैयार होगा अखिलेश को टक्कर देने वाला ये एक्सप्रेस-वे

Akansha Singh | Updated: 02 Aug 2019, 11:56:05 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

योगी आदित्यनाथ सरकार (up cm yogi adityanath government) ने अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे (lucknow agra expressway) के मुकाबले बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे (bundelkhand expressway) बनाने की घोषणा की है।

लखनऊ. अभी तक अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) अपने मुख्यमंत्री काल में बने लखनऊ आगरा एक्सप्रेस (lucknow agra expressway) को लेकर तारीफों के पुल बांधा करते थे। लेकिन उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार (up cm yogi adityanath government) ने अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे (lucknow agra expressway) के मुकाबले बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे (bundelkhand expressway) बनाने की घोषणा की है। ढाई साल में पश्चिमी यूपी (Western UP) से बुंदेलखंड (Bundelkhand) का सफर आसान होगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे को विधानसभा चुनाव (Vidhan sabha election) से पहले पूरा करने को कहा है। इसी महीने निर्माण कंपनियों का चयन कर उन्हें अलग-अलग खंडों का काम बांटा जाएगा।

यह भी पढ़ें - सड़क पर दुकान लगाने वालों के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने खोला पिटारा, सरकार हर महीने देगी इतने रुपये, पक्की दुकान को लेकर भी बड़ी खुशखबरी

सीएम योगी का ड्रीम प्रोजेक्ट है बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे मुख्यमंत्री का अपना ड्रीम प्रोजेक्ट (dream project) है। वह अगस्त में इसका शिलान्यास कर सकते हैं। प्रदेश सरकार ने पूर्वांचल एक्सप्रेस वे (Purvanchal Express way) की तरह है यह एक्सप्रेस वे अपने खर्चे से बनवाने का फैसला किया है। इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण संचालन व टोल वसूली (Toll) सरकार खुद करेगी। शासन ने गुरुवार को डेवलपर तय करने के लिए बिड डॉक्यूमेंट को मंजूरी दे दी है। इसे जल्द कैबिनेट से मंजूर करा निर्माण एजेंसियों का चयन किया जाएगा। इस एक्सप्रेस-वे में आररोबी व फ्लाईओवर की ऊंचाई पहले के एक्सप्रेसवे के मुकाबले ज्यादा रखी जाएगी। अगर समय से काम शुरू हो गया तो यह ढाई साल में बन जाएगा। लखनऊ आगरा एक्सप्रेसवे का निर्माण 22 महीने में किया गया था। 89% जमीन का अभी तक बंदोबस्त हो चुका है। 7 जिलों के 182 गांवों की 3212 हेक्टेयर अधिग्रहित की गई है। 12000 एकड़ से ज्यादा जमीन दोनों और विकसित होगी।

यह भी पढ़ें - मरीज करता मोबाइल पर मम्मी-पापा से वीडियो चैट, डॉक्टरों ने खोल दिया सिर, ब्रेन ट्यूमर बाहर निकाला, हिला देने वाली सर्जरी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned