अखिलेश से बोले अभ्यर्थी- लाठियां बंद कराएं और तुरंत दिलाएं नौकरियां

अखिलेश से बोले अभ्यर्थी- लाठियां बंद कराएं और तुरंत दिलाएं नौकरियां

Anil Ankur | Publish: Sep, 03 2018 07:48:33 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

3,307 से बढ़कर सभी 6,500 अभ्यर्थियों को चयनित किया जाए

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक ट्वीट कर कहा है कि 68,500 शिक्षकों की भर्ती में सीटें तुरन्त भरे जाने व अनियमितताओं के खिलाफ जब अभ्यर्थी आवाज उठा रहे हैं तो भाजपा सरकार उन्हें प्रताड़ित कर रही है। बेरोजगार युवाओं के साथ अपमान जनक व्यवहार इनकी आदत बन गई है।

ज्ञापन सौंपा और किए जा रहे सौतेले व्यवहार की शिकायत की
शिक्षक और दारोगा भर्ती के अभ्यर्थियों ने आज समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को सम्बोधित ज्ञापन मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी को सौंपा और राज्य की भाजपा सरकार द्वारा उनके साथ किए जा रहे सौतेले व्यवहार की शिकायत की। श्री चौधरी ने शिक्षक अभ्यर्थियों पर कल पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किए जाने की निंदा की और कहा कि यह सरकार नौजवानों को अंधेरे में ढकेल रही है। समाजवादी पार्टी उनकी मांगो को उचित मानती है।
कल जब शिक्षक अभ्यर्थियों पर लाठी चार्ज की सूचना मिली तो समाजवादी पार्टी के विधायक डाॅ0 राजपाल कश्यप, श्री राजेश यादव राजू तथा पार्षद श्री जीतू तथा श्री प्यारे ने रात में ही थाना आलमबाग जाकर पुलिस द्वारा गिरफ्तार नेताओं की रिहाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। घायलों को अस्पताल भिजवाया। इं0 अभिषेक को पुलिस ने बेरहमी से पीटा।

कापियों का गलत मूल्यांकन कर उन्हें फेल कर दिया गया
शिक्षक अभ्यर्थियों के प्रतिनिधि सर्वश्री तूफान सिंह यादव, शशांक पाल, गोपाल यादव द्वारा प्रस्तुत ज्ञापन में कहा गया कि 68,500 शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा 27 मई 2018 में हुई थी। इस भर्ती में हजारों छात्रों की कापियों का गलत मूल्यांकन कर उन्हें फेल कर दिया गया। कुछ की उत्तर पुस्तिकाएं बदल दी गई। इस परीक्षा में 41566 छात्र पास हुए। इनमें आरक्षण के नियमों का पालन न करके 5696 सामान्य अभ्यर्थियों को आरक्षण की सीटें आवंटित की जा रही है। ज्ञापन में मांग की गई है कि मूल्यांकन की जांच कराकर 32640 रिक्त सीटें भरी जाएं।

3,307 से बढ़कर सभी 6,500 अभ्यर्थियों को चयनित किया जाए
उ0प्र0 पुलिस दारोगा भर्ती 2016 के सफल अभ्यर्थियों ने ज्ञापन देकर मांग की है कि दारोगा भर्ती नववर्ष 2011 में हुई थी। इसके बाद भर्ती प्रक्रिया लगभग 2.5 वर्षों से प्रचलन में है। इसके अंतिम चरण सन् 2018 में 6,500 अभ्यर्थी ही सफल हुए। ज्ञापन में मांग की गई है कि दारोगा की कमी को देखते हुए भर्ती प्रक्रिया में पदों की संख्या को 3,307 से बढ़कर सभी 6,500 अभ्यर्थियों को चयनित किया जाए।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned