बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के बाद अब मुसीबत में अब्बास अंसारी, पुलिस ने बढ़ाई मुसीबत

- बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) और अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) को लेकर बड़ी खबर

- बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के शूटर बेटे के खिलाफ मुकदमा

- एसटीएफ (UP STF) ने दर्ज किया मुकदमा, एक लाइसेंस (Armed License) पर पांच असलहे लेने का आरोप

- अब्बास अंसारी से जल्द पूछताछ करने की तैयारी में पुलिस

लखनऊ. बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के बेटे अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) को लेकर बड़ा खुलासा सामने आया है। दरअशल अब्बास अंसारी ने धोखाधड़ी करके एक ही लाइसेंस पर पांच असलहे खरीदे। अब्बास ने एक लाइसेंस बनवाया जिसको दिल्ली ट्रांसफर करवा लिया। वहां फिर से लाइसेंस हासिल किया और इसकी सूचना लखनऊ को नहीं दी। एसटीएफ की जांच के बाद लखनऊ पुलिस ने अब्बास अंसारी पर एक शस्त्र लाइसेंस (Armed License) से अवैध तरीके से कई हथियार खरीदने के आरोप में आर्म्स एक्ट (Arms Act) और धोखाधड़ी की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। जिला प्रशासन और पुलिस अब्बास अंसारी से जल्द ही पूछताछ करने की तैयारी कर रही है।

यह है पूरा मामला

यूपी एसटीएफ (UP STF) को अगस्त में अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) के अवैध तरीके से अधिक असलहे खरीदने का पता चला था। एसटीएफ को जांच में पता चला था कि अब्बास अंसारी के नाम साल 2002 में जिलाधिकारी लखनऊ की ओर से डबल बैरल बंदूक का लाइसेंस नंबर 1628 लखनऊ के निशातगंज पेपरमिल कॉलोनी स्थित उसके पते से जारी किया गया था। इसके बाद अब्बास ने जिला प्रशासन की अनुमति और वेरिफिकेशन के बिना ही इस लाइसेंस को नई दिल्ली बसंतकुंज स्थित किशनगंज के पते पर ट्रांसफर करवा लिया। दिल्ली में अब्बास अंसारी ने खुद को विख्यात निशानेबाज बताते हुए चार और असलहे खरीदे। इसकी सूचना लखनऊ पुलिस को भी नहीं दी गई।


घर पर मिला था ताला

यूपी एसटीएफ (UP STF) की एक गोपनीय जांच के बाद अब्बास अंसारी का पता लखनऊ पुलिस को 27 अगस्त को मिला था। एसटीएफ ने अब्बास अंसारी को नोटिस भेजा। पुलिसकर्मी जब पेपर मिल कॉलोनी स्थित मेट्रो सिटी पहुंचे तो वहां ताला लटकता मिला। संशोधित आर्म्स एक्ट (Arms Act) के मुताबिक एक व्यक्ति तीन से अधिक लाइसेंस नहीं बनवा सकता है।


मुख्तार और अब्बास के पास कई लाइसेंस

जांच में पता चला है कि मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) और उनके करीबी रिश्तेदारों के नाम नौ शस्त्र लाइसेंस जारी किए गये हैं। इनमें से तीन लाइसेंस मुख्तार अंसारी और तीन उनके बेटे अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) के नाम पर हैं। अब्बास अंसारी ने दिल्ली में जब अपने शस्त्र लाइसेंस के हस्तांतरण के लिए आवेदन किया। उस समय दिल्ली प्रशासन और पुलिस ने लखनऊ जिला प्रशासन को इसकी सूचना तक नहीं दी। इस चूक के कारण दो प्रदेशों में दो लाइसेंस बने और उस पर पांच हथियार हासिल किए गए।


जल्द होगी पूछताछ

एसएसपी लखनऊ कलानिधि नैथानी (SSP Kalanidhi Naithani) ने बताया कि अब्बास अंसारी के लाइसेंस पर हथियार खरीदने की गड़बड़ी जांच के बाद सामने आयी है। दस्तावेजों का सत्यापन करवाया जा रहा है। जिसके बाद पूछताछ की प्रक्रिया शुरू होगी।


नेशनल शूटर है अब्बास अंसारी

मुख्तार का बड़ा पुत्र अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) शॉट गन में नेशनल शूटर (National Shooter) है और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में कई मेडल भी जीत चुका है। अब्बास ने 2017 के विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर सियासी पारी का आगाज किया था। हालांकि अपने पहले ही चुनाव में अब्बास को मात मिली थी। आपको बता दें कि मुख्तार अंसारी पूर्वांचल के मऊ सदर विधानसभा क्षेत्र का पांच बार से प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। वह इस समय जेल में हैं।

यह भी पढ़ें: 14 लाख कर्मचारियों के लिये बड़ी खुशखबरी, दिवाली से पहले मिलेगा इतना बोनस और महंगाई भत्ता

Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned