मायावती ने दिया भीम आर्मी चीफ को बड़ा आफर, 2019 चुनाव को लेकर की बड़ी घोषणा

मायावती ने दिया भीम आर्मी चीफ को बड़ा आफर, 2019 चुनाव को लेकर की बड़ी घोषणा

Ashish Pandey | Publish: Sep, 16 2018 07:48:42 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 07:48:43 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

बोलीं-मेरा किसी से बुआ-भतीजे का रिश्ता नहीं।

लखनऊ. बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने रविवार को जहां भाजपा सरकार पर जमकर हमला बोला तो वहीं
उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर आज़ाद उर्फ रावण से मेरा कोई रिश्ता नहीं है। लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि वो (भमी आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण) बसपा के झंडे के नीचे आकर लड़ाई लड़ें। इस तरह से देखा जाए तो मायावती ने चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण को एक तरह से बड़ा आफर दे दिया है। वह बसपा में आ सकते हैं और यहां से अपनी लड़ाई लड़ सकते हैं। अब आगे भीम आर्मी का निर्णय होगा यह तो समय ही बताएगा।

...तो बसपा अकेले चुनाव लड़ेगी
मायावती ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि जैसे-जैसे विधानसभा और लोकसभा के चुनाव नजदीक आ रहे हैं वैसे-वैसे भाजपा जनता का ध्यान बंटाने के लिए नए-नए तरीके अपना रही है। यहां तक कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी तक को भी नहीं बख्शा गया है। बसपा सुप्रीमो ने भाजपा के खिलाफ बन रहे गठबंधन पर भी बड़ा बयान दिया और साफ तौर पर सपा और कांग्रेस को स्पष्ट रूप से कहा कि बसपा गठबंधन के खिलाफ नहीं है, लेकिन सम्मानजनक सीटें मिलने पर ही हम चुनाव साथ में लड़ेेंगे। सम्मानजनक सीट नहीं मिलीं तो बसपा अकेले चुनाव लड़ेगी।
मायावती ने इस दौरान हाल ही में जेल से रिहा हुए सहारनपुर दंगों के आरोपी व भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर उर्फ रावण से अपने किसी भी रिश्ते की बात को खारिज किया। बता दें कि चंद्रशेखर ने जेल से रिहा होते ही भाजपा को सत्ता से उखाड़ फेंकने व गठबंधन में मायावती को समर्थन देने की बात कही थी।

चंद्रशेखर पर किया हमला
यहां अपने नए बंगले 9 मॉल एवेन्यू से मीडिया को संबोधित करते हुए बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि राजनीतिक स्वार्थ के लिए लोग मुझसे रिश्ता बनाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनका किसी के साथ भाई-बहन या बुआ-भतीजे का रिश्ता नहीं है। सहारनपुर हिंसा में आरोपी चंद्रशेखर मुझसे रिश्ता दिखा रहा है जबकि मेरा सिर्फ गरीबों से रिश्ता है। ऐसे किसी व्यक्ति से मेरा रिश्ता नहीं है, जो समाज में ऐसा काम करते हैं। समाज में ऐसे बहुत से संगठन बनते चले आ रहे हैं जो अपना धंधा चलाते हैं। उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर आज़ाद उर्फ रावण से मेरा कोई रिश्ता नहीं है। कहा कि वह करोड़ों लोगों की लड़ाई लड़ रही हैं। रावण को अलग से संगठन बनाने की ज़रूरत क्यों है? वो बसपा के झंडे के नीचे आकर लड़ाई लड़ें।

सम्मानजक सीट नहीं मिली तो लड़ूंगी अकेले चुनाव
बसपा सुप्रीमो ने भाजपा के खिलाफ बन रहे गठबंधन पर भी बड़ा बयान दिया है और साफ तौर पर सपा और कांग्रेस को स्पष्ट रूप से कहा कि बसपा गठबंधन के खिलाफ नहीं है, लेकिन सम्मानजनक सीट मिलने पर ही हम साथ में लड़ेेंगे। सम्मानजनक सीट नहीं मिलीं तो बसपा अकेले चुनाव लड़ेगी।

अटलजी की मृत्यु का फायदा उठा रही भाजापा

मायावती ने कहा कि अटल जी के जीतेजी भाजपा उनके नक्शेकदम पर नहीं चली, लेकिन अब उनकी मौत को भुनाने की कोशिश खूब कर रही है। भाजपा दिखावटी घोषणाएं कर के अटल जी की मौत पर भी राजनीतिक लाभ लेने की पूरी कोशिश कर रही है।

Ad Block is Banned