कर्जमाफी की राह तक रहे किसानों को बड़ा झटका, बीमा और गन्ने समर्थन मूल्य का दिया झुनझुना

उत्तर प्रदेश बजट 2020 में प्रदेश के किसान, सरकार से एक बार फिर कर्जमाफी की उम्मीदें रखें हुए थे पर इस बार उनको निराशा का सामना करना पड़ा। पिछले तीन बजट में कर्जमाफी की लगातार व्यवस्था थी। पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बजट मेें कर्जमाफी की जगह किसानों को मुख्यमंत्री किसान दुर्घटना कल्याण बीमा नाम की नई योजना का तोहफा दिया। इस योजना के लिए सरकार ने 500 करोड़ रुपए की व्यवस्था की है। इसके अतिरिक्त गन्ने का समर्थन मूल्य 325 रुपए प्रति कुंतल करने का प्रस्ताव किया गया है।

By: Mahendra Pratap

Updated: 18 Feb 2020, 06:47 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश बजट 2020 में प्रदेश के किसान, सरकार से एक बार फिर कर्जमाफी की उम्मीदें रखें हुए थे पर इस बार उनको निराशा का सामना करना पड़ा। पिछले तीन बजट में कर्जमाफी की लगातार व्यवस्था थी। पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बजट मेें कर्जमाफी की जगह किसानों को मुख्यमंत्री किसान दुर्घटना कल्याण बीमा नाम की नई योजना का तोहफा दिया। इस योजना के लिए सरकार ने 500 करोड़ रुपए की व्यवस्था की है। इसके अतिरिक्त गन्ने का समर्थन मूल्य 325 रुपए प्रति कुंतल करने का प्रस्ताव किया गया है।

योगी सरकार ने अपने पहले बजट में कृषि ऋणमाफी का एलान किया था। उसके बाद के दो बजट में लगातार पात्र किसानों का ऋण माफ करने के लिए बजट की व्यवस्था की गई थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में उत्तर प्रदेश सरकार अब 45.20 लाख किसानों का ऋण माफ कर करीब 25,215 करोड़ रुपए भुगतान कर चुकी है। अभी भी पात्र किसानों की ऋणमाफी की कार्यवाही चल रही है।

कैबिनेट बजट में उत्तर प्रदेश बजट 2020 को सर्वसम्मित से पास करने के बाद प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने '...वही उड़ेंगे जिनके पर होंगे' गीत के साथ बजट की शुरुआत की। वित्त मंत्री ने उत्तर प्रदेश के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा बजट, 5 लाख 12 हजार 860 करोड़ रुपए का बजट पेश किया। इस बजट में वित्त मंत्री ने किसानों को मुख्यमंत्री किसान दुर्घटना कल्याण बीमा नाम की नई योजना का तोहफा दिया। जिसके लिए सरकार ने बजट में 500 करोड़ रुपए की व्यवस्था की है।

मुख्यमंत्री किसान दुर्घटना कल्याण बीमा योजना में अगर किसी किसान की खेती करने के दौरान मृत्यु हो जाती है तो उसे सरकार 5 लाख रुपए का मुआवजा मिलता है, 60 फीसदी से अधिक दिवांग्यता पर अधिकतम दो लाख रुपए देने की व्यवस्था है। इस योजना के दायरे में प्रदेश के 2 करोड़ 38 लाख 22 हजार किसान आएंगे।

बजट के बाद सीएम योगी ने कहा कि केवल मूल किसान ही नहीं बंटाई वाले किसान भी बीमा की योजना का लाभ ले सकते हैं। कभी दुर्घटना में अगर वह मृत हो जाता था तो उसके परिवार को कोई लाभ नहीं मिलता था, लेकिन इस बजट में यह प्रावधान किया गया है।

वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने बजट में गन्ना किसानों के लिए गन्ने का समर्थन मूल्य 325 रुपए प्रति कुंतल करने का प्रस्ताव किया है।

कुछ अन्य तोहफे :-

1.प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के घटक हर खेत को पानी के तहत प्रदेश के 18 जनपदों के 69 विकासखंडों जिनमें 750 मिलीलीटर से अधिक वर्षा होती है, उनमें बोरिंग योजनाओं के लिए 50 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है।

2.कृषि श्रमिकों की कमी को देखते हुए मशीनीकरण को बढ़ावा देने के लिए अनुदान पर कृषि यंत्र उपलब्ध कराए जाने की व्यवस्था की गई है। जिसमें 1694 कस्टम हायरिंग केंद्र तथा 305 फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना कराकर 40606 उन्नत कृषि यंत्रों का अनुदान पर वितरण किया जाना प्रस्तावित है।

3.कृषि, उद्यान व सहकारिता के लिए भी बीज और उर्वरक उपलब्ध करने की व्यवस्था की गई है।

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned