संचारी रोग नियंत्रण माह का हुआ शुभारम्भ

Ritesh Singh | Updated: 01 Jul 2019, 07:40:52 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

रोगों पर भी नियंत्रण पाया गया है।

लखनऊ ,मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा लखनऊ में आज संचारी रोग नियंत्रण माह का शुभारम्भ किया गया। कार्यक्रम के तहत जागरूकता अभियान प्रदेश के सभी 75 जनपद में एक साथ चलाया जायेगा और यह 15 दिन तक लगातार जारी रहेगा। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व की सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले की सरकारों ने संचारी रोग की रोकथाम के लिए कोई कदम नहीं उठाया जिसके चलते पूर्वी उत्तर प्रदेश में बच्चो की मौत का आंकड़ा बढ़ता गया। सीएम योगी ने कहा कि उनकी सरकार आते ही इसकी रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाये गए और यही वजह है कि बच्चो की मौत का न सिर्फ आंकड़ा कम हुआ है बल्कि रोगों पर भी नियंत्रण पाया गया है।

उत्तर प्रदेश के पूर्वी राज्य के ख़ास तौर गोरखपुर और बस्ती मण्डल के जनपदों में चिकनगुनिया, डेंगू, कालाजार और इन्सेफेलाइटिस समेत तमाम तरह के संचारी रोग से प्रतिवर्ष सैकड़ों नौनिहाल काल के गाल में समा जाते थे। वर्ष 2017 से पहले की स्थिति की बात की जाये तो काफी भयानक हालात थे लेकिन भाजपा की सरकार बनने के बाद इस मुद्दे पर काम किया गया। 2018 में उत्तर प्रदेश सरकार ने सहयोगी संस्थाओं के जरिये यूपी में दस्तक अभियान की शुरुआत की थी।

अभियान के तहत प्रशिक्षित स्वास्थय कर्मी घर - घर जाकर लोगो को दिमागी बुखार और उसके लक्षण के बारे में बताया। साथ ही उसके बचाव के लिए लोगो को जागरूक भी किया और कहा कि किसी भी तरह के बुखार आने पर फौरन चिक्त्सिकों को दिखाए। यह कार्यक्रम बेहद सफल रहा था और संचारी बीमारी पर काफी हद तक अंकुश लगा जिसके चलते नौनिहालों की मौत का आंकड़ा कम होना शुरू हो गया। इस सफल अभियान के बाद एक बार यह अभियान उत्तर प्रदेश में जोर - शोर शुरू हो गया।

इसकी शुरुआत मुख्यमंत्री योगी ने लोकभवन में एक कार्यक्रम के बाद हरी झंडी दिखाकर गाड़ियों को रवाना किया। जिन गाड़ियों को यहाँ से रवाना किया गया ऐसी ही गाड़िया पूरे प्रदेश में रोगो की रोकथाम के लिए दवा के छिड़काव के साथ ही तमाम अन्य तरह की सुविधाओं से लैस है। इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग को नोडल विभाग बनाकर प्रदेश के विभिन्न सरकारी विभागों और पंचायती राज, ग्रामीण विकास , नगर विकास, शिक्षा विभाग, महिला एवं बाल कल्याण, कृषि विभाग, दिव्यांग कल्याण , जल निगम, स्वच्छ भारत मिशन और यूनिसेफ समेत अन्य की मदद से संचारी रोगो पर रोकथाम लगाया गया है।

पूर्व की तरह इस बार भी जागरूकता अभियान एक साथ प्रदेश के 75 जनपदों में चलाया जायेगा।मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी ने पूरी जिम्मेदारी से इस पर काम किया है और यही वजह भी है कि बीमारी पर काबू पाने के साथ ही मौतों पर भी लगाम लगाईं है। हालांकि मुख्यमंत्री योगी ने यह भी कहा कि किया गया काम काफी नहीं है अभी इस दिशा में करना है ताकि बीमारी को पूरी तरह से जड़ से उखाड़ फेका जाये। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि पूर्व की सरकारों ने इस विषय पर कोई काम नहीं किया था।

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज की बात की जाये तो हॉस्पिटल में शौचालय साफ़ नहीं थे ,पंखे नहीं थे और इंसेफेलाइटिस का अलग से कोई वार्ड नहीं था। इसके साथ ही पूर्वी राज्य के हॉस्पिटल के हालत दयनीय थी लेकिन उनकी सरकार बनने के बाद हॉस्पिटल के हालत बेहतर हुए है।इस मौके पर प्रदेश सरकार के स्वास्थय मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि संचारी रोगो से लड़ने की लड़ाई लम्बी है। बावजूद कार्यक्रम के अच्छे परिणाम आएंगे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned