योगी और राम नाईक ने याद किया गोविन्द बल्लभ पंत का कार्यकाल

योगी और राम नाईक ने याद किया गोविन्द बल्लभ पंत का कार्यकाल

Anil Ankur | Publish: Sep, 10 2018 07:34:23 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

भारत सरकार के गृह मंत्री के रूप में उन्होंने आन्तरिक सुरक्षा को मजबूत करने का कार्य किया था

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार कोयहां स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री भारत रत्न गोविन्द बल्लभ पन्त की 131वीं जयन्ती के अवसर पर विधान भवन के सामने स्थित उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

राज्यपाल ने कहा कि गोविन्द बल्लभ पन्त का व्यक्तित्व एवं कृतित्व हम सभी के लिए प्रेरक है। उन्होेंने कहा कि पन्त जी ने स्वाधीनता आन्दोलन को प्रदेश में गति देने का काम किया। काकोरी रेल काण्ड के शहीदों का समर्थन करने वाले वकीलों में वे भी थे। जमींदारी उन्मूलन में गोविन्द बल्लभ पन्त जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। भाषायी राज्यों के पुनर्गठन में भी उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी।

नाईक ने कहा कि पंडित गोविन्द बल्लभ पन्त आचार्य नरेन्द्र देव, कैलाश नाथ काटजू जैसे लोगों के सहपाठी थे। 1914 से वेे ब्रिटिश राज्य के विरोध में सक्रिय रहे तथा स्वतंत्रता आन्दोलन के प्रभावी नेता थे। वकील के नाते उन्होंने सामाजिक कार्य प्रारम्भ किया। उन्होंने विभिन्न भूमिकाओं में कार्य करते हुए देश की सेवा की। तीन बार वे प्रदेश के मुख्यमंत्री और केन्द्र में गृहमंत्री भी रहे। काकोरी रेल केस में वे बिस्मिल और अन्य स्वतंत्रता सेनानी एवं शहीदों के वकील भी रहे। लोकतंत्र को मजबूत करने में उनका महत्वपूर्ण योगदान था। हमारे युवा ऐसे महापुरूषों के विचारों के अनुकूल बनने का संकल्प लें। उन्होने कहा कि संकल्प सिद्धि ही महापुरूषों के प्रति सच्ची आदरांजलि होगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सम्बोधन में कहा कि वे एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे तथा प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री भी थे । उत्तराखण्ड के छोटे से गांव में जन्म लेकर उन्होंने देश के स्वतंत्रता आन्दोलन को नई दिशा दी। आजादी से पूर्व और आजादी के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री के रूप में उन्होंने बड़ी भूमिका का निर्वहन किया। हिन्दी को देश की राजभाषा के रूप में स्थापित करने में अग्रणी भूमिका निभाई।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गोविन्द बल्लभ पन्त जी ने प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री के रूप में राज्य को यशस्वी नेतृत्व दिया। प्रदेश के विकास में पन्त जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उन्होंने स्वाधीनता आन्दोलन को एक नई दिशा देने का काम किया। भारत सरकार के गृह मंत्री के रूप में उन्होंने आन्तरिक सुरक्षा को मजबूत करने का कार्य किया था।

Ad Block is Banned