दो अधिकारियों को बनाया चपरासी और चौकीदार, चला सीएम योगी का हंटर, दो और अफसरों का किया डिमोशन

इससे पहले भी योगी सरकार एक एसडीएम को डीमोट करके तहसीलदार बना चुकी है।

लखनऊ. यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार भ्रष्ट और नियमों के खिलाफ प्रमोशन पाने वालों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही है। इसी क्रम में यूपी सरकार ने अपर जिला सूचना अधिकारी पद पर तैनात चार अधिकारियों को डिमोट कर दिया है। सरकार ने इन अधिकारियों को डिमोट करके चौकीदार, चपरासी, ऑपरेटर और सहायक बना दिया है। इससे पहले भी योगी सरकार एक एसडीएम को डीमोट करके तहसीलदार बना चुकी है।

 

इनका हुआ डिमोशन

सूचना और जनसम्पर्क कार्यालय की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि 3 नवंबर 2014 को इन अधिकारियों का प्रमोशन सभी नियमों के खिलाफ किया गया था। अब सभी को उनके मूल पद पर डिमोट किया जा रहा है। सरकार ने जिन अधिकारियों को डिमोट किया है, उनमें बरेली के अपर जिला सूचना अधिकारी नरसिंह को चपरासी, फिरोजाबाद में तैनात दयाशंकर को चौकीदार, मथुरा में तैनात विनोद कुमार शर्मा और भदोही में तैनात अनिल कुमार सिंह को सिनेमा ऑपरेटर बनाया दिया गया है।

 

हाईकोर्ट में दाखिल की गई थी याचिका

उत्तर प्रदेश के सूचना विभाग में नियम के खिलाफ चार लोगों को प्रमोट करते हुए अपर जिला सूचना अधिकारी बनाया गया था। इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। जिसके बाद अब शासन की तरफ से सभी को डिमोट कर दिया गया है। अब ये अपर जिला सूचना अधिकारी से चौकीदार, चपरासी, सिनेमा ऑपरेटर और सहायक बना दिये गए हैं। इन चारों का इन्हीं पदों पर प्रमोशन हुआ था।

 

एसडीएम भी हो चुके हैं डिमोट

आपको बता दें कि इससे पहले यूपी सरकार ने एक एसडीएम को तहसीलदार के पद पर डिमोट कर दिया था। साथ ही गलत आचरण के चलते तीन साल में 2100 से ज्यादा अधिकारियों और कर्मचारियों को जेल भेजा जा चुका है। शासन के नियुक्ति विभाग ने एक अप्रैल 2017 से अबतक 50 पीसीएस अधिकारियों पर कठोर दंडात्मक और 44 पर लघु दंडात्मक कार्रवाई की है। इसी तरह दो सालों में 480 दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है।

 

यह भी पढ़ें: बड़े प्रशासनिक उलटफेर की तैयारी में सीएम योगी, बड़ी संख्या में इन IAS अधिकारियों का ट्रांसफर तय, लिस्ट में इनका भी नाम

Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned