कभी थे मुलायम के चहेते आज योगी संग चिढ़ा रहे हैं मुंह!

योगी सरकार ने अमर सिंह की सुरक्षा रखी बरकरार, डिंपल यादव, आजम खां, शिवपाल की सुरक्षा जेड श्रेणी से वाई श्रेणी कर दी है। 

By:

Published: 23 Apr 2017, 07:02 PM IST

लखनऊ. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कभी मुलायम सिंह यादव के सबसे करीबी रहे अमर सिंह को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया था, लेकिन उसी अमर सिंह पर योगी सरकार ने मेहरबानी दिखाई है। जहां योगी सरकार ने सपा के आजम खां, अखिलेश यादव की पत्नी और कन्नौज से सांसद डिंपल यादव और शिवपाल यादव की सुरक्षा में कटौटी की और कई सपा नेताओं की सुरक्षा हटा दी तो वहीं अमर सिंह की सुरक्षा में कोई कमी नहीं की गई है। योगी सरकार ने राज्यसभा सांसद अमर सिंह की सुरक्षा बरकरार रखी है। वहीं बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद विनय कटियार की सुरक्षा वाई श्रेणी से बढ़ा कर जेड श्रेणी कर दी गई है। 
Dimpal
यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी व कन्नौज की सांसद डिंपल यादव, राज्यसभा सदस्य राम गोपाल यादव तथा पूर्व मंत्री शिवपाल यादव व मो. आजम खां की सुरक्षा 'जेडÓ श्रेणी से घटाकर 'वाईÓ श्रेणी कर दी है। शासन ने यह निर्णय सुरक्षा समिति की बैठक के बाद निर्णय लिया। शासन ने पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव, मायावती और अखिलेश यादव की सुरक्षा में कोई कटौती नहीं की है, इन तीनों की 'जेड प्लसÓ श्रेणी की सुरक्षा बरकरार रखी है।
mayawati



























प्रदेश सरकार ने इसके अलावा सपा एमएलसी आशु मलिक, वरिष्ठ सपा नेता अतुल प्रधान, राकेश यादव व पूर्व विधायक अभय सिंह समेत 100 नेताओं की सुरक्षा हटा ली है।

इस आधार पर दी जाती है सुरक्षा 
akhilesh yadav
























किसी राजनीतिक या विशिष्ट व्यक्ति को वीआइपी सुरक्षा देने का फैसला खतरे के आकलन के बाद होता है। खतरा होने पर सुरक्षा उपलब्ध कराना सरकार की जिम्मेदारी होती है। सुरक्षा की मांग करने वाले को संभावित खतरा बता सरकार के समक्ष आवेदन करना होता है। इस पर खुफिया एजेंसियों से रिपोर्ट मांगी जाती है। खतरे की पुष्टि होने पर गृह सचिव, महानिदेशक और मुख्य सचिव की एक समिति यह तय करती है कि उसे संभावित खतरे के मद्देनजर किस श्रेणी की सुरक्षा दी जाए, जबकि मंडल स्तर पर कमिश्नर व जिला स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में समिति सुरक्षा का आकलन करती है।

सुरक्षा की श्रेणियां
- जेड प्लस श्रेणी

इसमेंं 36 कर्मियों के सुरक्षा कवर में 10 एनएसजी कमांडो होते हैं।

जेड श्रेणी
इसमें 22 कर्मियों के सुरक्षा कवर में चार या पांच एनएसजी कमांडो होते हैं।

वाई श्रेणी 
वाई श्रेणी में 11 कर्मियों के सुरक्षा कवर में एक या दो कमांडो होते हैं। 

एक्स श्रेणी 
एक्स श्रेणी में पांच या दो कर्मियों का सुरक्षा कवर होता है।
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned