योगी के इस बयान से कई राजनीतिक पार्टियों को लगेगा झटका

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रदेश का विभाजन किसी हाल में जाति-धर्म के आधार पर नहीं होने दूंगा।

By: shatrughan gupta

Published: 08 Apr 2017, 05:29 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रदेश का विभाजन किसी हाल में जाति-धर्म के आधार पर नहीं होने दूंगा। साथ ही उन्होंने यह कहा कि उनकी सरकार किसी व्यक्ति से भेदभाव नहीं करेगी, चाहे वह किसी भी जाति-धर्म का हो। 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बात एक चैनल को दिए इंटरव्यू में कही। योगी आदित्यनाथ के प्रदेश के विभाजन के मुद्दे पर आए बयान के बाद कई पार्टियों को झटका लगेगा, जो उत्तर प्रदेश के बंटवारे का मुद्दा लगातार उठाते आ रहे हैं। इनमें बहुजन समाज पार्टी भी है। मालूम हो कि बसपा सरकार में मायावती ने पूर्वांचल, बुंदेलखंड, हरित प्रदेश और अवध राज्य के लिए विधानसभा में प्रस्ताव भी पास किया था, पर इसे केंद्र की मंजूरी नहीं मिली थी। वहीं भाजपा नेता राजा बुंदेला भी बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर काफी अरसे से आंदोलन करते आ रहे हैं। 

धर्म और सियासत के बीच संतुलन जरूरी
चैनल को दिए इंटरव्यू में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि धर्म का आधार राष्ट्र है। उन्होंने महात्मा गांधी के रामराज्य और तुलसीदास की मान्यताओं का हवाला देते हुए धर्म और सियासत के बीच संतुलन पर जोर दिया। योगी ने कहना था कि देश के प्राचीन वैभव को वापस लाना होगा, लेकिन इसके लिए नए विचारों के साथ तालमेल बैठाना जरूरी है। योगी ने सनातन धर्म को जीवन पद्धति बताया है। 

पिछली सरकारों ने परिवारवाद को बढ़ावा दिया
हिन्दी चैनल को दिए इंटरव्यू में योगी आदित्यनाथ ने दावा किया कि उनकी सरकार महिलाओं, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों के हितों का बराबर ख्याल रखेगी। उन्होंने कहा, कुछ विरोधी पार्टियां उनकी छवि खराब करने के लिए अफवाह फैला रही हैं, लेकिन जनता सब जानती है। उन्होंने आरोप लगाया कि अब तक तुष्टिकरण के नाम पर राज्य की जनता को बांटा जा रहा था और समाजवाद के नाम पर परिवारवाद और जातिवाद को बढ़ावा दिया जा रहा था, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। योगी ने कहा कि मेरी सरकार में सब एक बराबर हैं।

नहीं होगा प्रदेश का विभाजन
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी अब तक छोटे राज्यों की हिमायत करती आई है। योगी ने कहा, मगर वे उत्तर प्रदेश का विभाजन कर राज्य को उसके गौरव से वंचित नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के बंटवारे का सवाल ही नहीं उठता।

सीएस के रिपोर्ट का करेंगे आकलन
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस आशंका को भी खारिज कर दिया कि प्रदेश के 86 लाख किसानों को कर्ज माफी का बोझ सरकारी खजाने पर पड़ेगा। उन्होंने कहा, खर्चों का आकलन करने के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई है और उसकी रिपोर्ट का इंतजार है। 


BJP
Show More
shatrughan gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned