scriptCm yogi announced fifty thousand pay for all to family of death covid | Corona से मरने वाले लोगों के परिवार को 50 हजार देंगे CM योगी, क्या है नियम? कैसे मिलेगा मुआवजा? | Patrika News

Corona से मरने वाले लोगों के परिवार को 50 हजार देंगे CM योगी, क्या है नियम? कैसे मिलेगा मुआवजा?

प्रदेश के हर जिले में जिलाधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया गया है। उसी की अध्यक्षता में गठित कमेटी की निगरानी में मुआवजा दिया जाएगा।

लखनऊ

Updated: October 17, 2021 07:07:12 pm

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ. कोरोना महामारी के बीच जीवन और जीविका को बचाने के अपने संवेदनशील प्रयासों के लिए देश-दुनिया में सराही जा रही योगी सरकार अब कोरोना मृतकों के परिजनों को 50 हजार की राहत राशि देने जा रही है। हर वह परिवार जिसके किसी सदस्य की मृत्यु कोविड संक्रमण के कारण हुई हो, उसे यह राहत राशि दी जाएगी। राहत राशि के लिए कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद अगले तीस दिन की अवधि में मृत्यु होने को समय सीमा माना जा सकता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इस बाबत विस्तृत गाइडलाइन जल्द ही जारी हो जाएंगी।
dm.jpg
डीएम की अध्यक्षता में बनेगी टीम

17 अक्टूबर रविवार को कोविड प्रबंधन संबंधी उच्चस्तरीय टीम-09 के साथ बैठक में सीएम योगी ने कहा कि कोरोना से प्रभावित हर परिवार के साथ सरकार पूरी संवेदनशीलता के साथ खड़ी है। कोरोना के कारण निराश्रित हुए बच्चों के भरण-पोषण के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना शुरू की गई तो निराश्रित महिलाओं के आर्थिक स्वावलम्बन के लिए भी प्रयास किये जा रहे हैं। केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार अब हर कोरोना मृतक के परिवार को 50 हजार की राहत राशि दी जानी है।
उन्होंने कहा कि एक भी प्रभावित परिवार राहत राशि से वंचित न रहे, इसे सुनिश्चित किया जाए। इसकी मॉनिटरिंग और पारदर्शिता पूर्ण क्रियान्वयन के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जनपदीय कमेटी गठित की जाए। कमेटी में मुख्य चिकित्साधिकारी भी शामिल होंगे।
क्या है नियम, कैसे मिलेगा मुआवजा

कोरोना से मरने वाले व्यक्तियों के परिजनों को 50 हज़ार देने की घोष्णा के साथ साथ सरकार ने उसके नियम और मुआवजा के लिए डीएम को नोडल अधिकारी के रूप में ज़िम्मेदारी दी है।
इसमें कोरोना मरीज की मृत्यु पॉज़िटिव होने के 30 दिनों के भीतर हुई होनी चाहिए।

इसके अलावा यदि बाद में भी मृत्यु हुई है तो डीएम की अध्यक्षता में कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर उस परिवार को भी आर्थिक सहायता देने की बात कही गई है, जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं। खास तौर पर उनके परिवार में मुखिया के नाम पर सिर्फ मृतक की पत्नी या अन्य कोई महिला बची है। मृतक की कोरोना पॉज़िटिव होने की रिपोर्ट जरूरी होगी। साथ ही मृतक के साथ अपना रिश्ता बताने से जुड़ा हुआ कोई सरकारी दस्तावेज़ भी साथ लाना होगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Mizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलाक्या सच में बुझा दी गई अमर जवान ज्योति? केंद्र सरकार ने दिया जवाबदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारIND vs SA: मायूस विराट कोहली ने चेहरे पर आई खुशी, ऋषभ पंत का सिक्स देखकर करने लगे डांसतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loanराजस्थान सरकार ने की किसान परिवार के हित की बात, जानें क्या है मामला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.