सीएम योगी की बड़ी चाल मायावती का बंगला शिवपाल को दिया

सीएम योगी की बड़ी चाल मायावती का बंगला शिवपाल को दिया

Ashish Kumar Pandey | Publish: Oct, 12 2018 08:55:36 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

महल से कम नहीं है सेक्युलर मोर्चा के संयोजक को आवंटित यह बंगला।

 

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ी सियासी दांव खेला है। जिस बंगले को पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने खाली किया था उसी बंगले को समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के संयोजक शिवपाल सिंह यादव को आवंटित कर दिया है। शिवपाल सिंह यादव को योगी सरकार ने वही बंगला आवंटित किया है जो पहले पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के पास था। शिवपाल सिंह यादव को योगी सरकार ने जो बंगला दिया है, वैसा बंगला योगी सरकार के किसी मंत्री के पास भी नहीं है। वहीं बंगला अलाट होने के बारे में शिवपाल ने कहा कि मैं पांच बार का विधायक हूं, मेरे राजनीतिक कामों को देखते हुए यह बंगला अलाट किया गया।

कहतें हैं राजनीति में कोई किसी का सगा नहीं होता। कब कौन किस का करीबी बन जाए और कौन किसका दुश्मन यह कहना मुश्किल है। कभी समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता रहे शिवपाल सिंह यादव ने सपा से बगावत कर अपनी अलग पार्टी बना ली है। भतीजे अखिलेश यादव से चाचा शिवपाल का छत्तीस का आंकड़ा किसी से छिपा नहीं है। शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्सुलर मोर्चा का गठन कर सपा में हासिए पर चल रहे नेताओं को अपने मोर्चा में शामिल करने की बात बार-बार कह रहे हैं।

इस आलीशान बंगले की यह है खासियत

शिवपाल सिंह यादव को आवंटित किया गया बंगला आलीशान बंगला है। यह बंगला किसी महल से कम नहीं है। इस बंगले में 12 बेडरूम, 12 ड्रेसिंग रूम, 2 बड़े हॉल, 4 बड़े बरामदे, 2 किचन और स्टाफ क्वर्टर हैं। बंगले में 8 एसी प्लांट और 500 किलोवॉट के साउंड प्रूफ जनरेटर लगे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस आलीशान बंगले को अखिलेश से बगावत के बाद तोहफे के तौर पर शिवपाल को सौंपा है। वहीं शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि वह पांच बार से विधायक हैं, उन्हें बड़े बंगले की जरूरत थी, इस लिए योगी सरकार ने उन्हें ऐसा बंगला दिया है। वहीं उन्होंने यह भी दावा किया कि वे बीजेपी के हमेशा खिलाफ रहे हैं, उनका भाजपा से किसी तरह का सांठगांठ नहीं है।

योगी का है खास ध्यान

शिवपाल यह बात भले ही कह रहे हैं, लेकिन जब से भाजपा की सरकार आई है, शिवपाल पर वह काफी ध्यान दे रही है। जहां अखिलेश की पत्नी और कन्नौज से सांसद डिंपल यादव, आजम खां सहित कई सपा नेताओं की सुरक्षा में कटौती की गई तो वहीं शिवपाल यादव की सुरक्षा बढ़ा दी दी गई। शिवपाल को जेड कैटेगरी की सुरक्षा योगी सरकार ने दी है। वहीं राजनीति जानकारों का कहना है कि शिवपाल यादव भाजपा के लिए फायदेमंद हैं। सपा को अगर कोई सबसे अधिक नुकसान पहुंचाएगा तो वह है समाजवादी सेक्युलर मोर्चा। शिवपाल यादव सपा के ही वोट बैंक में सेंध लगाएंगे।

 

 

Ad Block is Banned