CM Yogi in action : बिजली विभाग के जे ई अरुण चौधरी एसडीओ प्रत्यूष बल्लभ एक्सईएन एके सिंह निलंबित

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सख्ती से अधिकारियों में मचा हड़कंप कुशीनगर में 1 एसडीएम, 2 एक्सईएन के खिलाफ कार्रवाई के आदेश*

*गोवंश अगर सड़कों या किसान के खेतों पर घूमता हुआ मिला तो संबंधित अधिकारी भुगतेंगे दंड*

*मत-मजहब के आधार पर भेदभाव करने वाले पुलिस कर्मियों की उतर जाएगी वर्दी*

*नाबालिग से रेप के मामलों में अपराधियों को जल्द से जल्द दिलवाएं कठोर सजा*

*वृक्षारोपण, संचारी रोग जागरूकता, स्कूल चलो अभियान,एन्टी भू माफिया को मुहिम बनाकर करें कार्य*

By: Anil Ankur

Published: 07 Jul 2019, 09:01 PM IST

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुशीनगर के कलेक्ट्रेट सभागार में गोरखपुर मंडल के महाराजगंज,देवरिया और कुशीनगर जनपद एवं गोरखपुर के एनेक्सी भवन में गोरखपुर जनपद के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक करते हुए सख्त लहजे में कहा कि प्रशासनिक व्यवस्था एक तरफा नहीं हो सकती,हमारी जवाबदेही जनता के प्रति है और हम किसी भी हाल में जनता की समस्याओं को नजर अंदाज नहीं नहीं होने देंगे। सीएम योगी ने खराब प्रदर्शन के कारण एसडीएम सदर को उनके पद से हटाने के निर्देश दिए । इसके अलावा पडरौना में बिजली विभाग के 2 एक्सईएन को हटाने के लिए कहा। सीएम योगी ने देवरिया, कुशीनगर और महाराजगंज के सीएमओ और सीएमओ के कामकाज पर अपनी नाराजगी व्यक्त की है और उनके खराब प्रदर्शन के कारण स्पष्टीकरण देने के निर्देश दिए हैं तो वहीं गोरखपुर में बिजली विभाग के जे ई अरुण चौधरी एसडीओ प्रत्यूष बल्लभ एक्सईएन एके सिंह को निलंबित करने का आदेश मुख्यमंत्री ने दिया है।

सीएम योगी ने कानून व्यवस्था को लेकर मंडल के अधिकारियों की जमकर क्लास लगाई। सीएम ने साफ कहा कि अपराधी चाहे कितने ही ऊंचे रसूख वाला क्यों न हो, उसे किसी भी हाल में बक्शा नहीं जाना चाहिये। सीएम ने पुलिस अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि थानों को वसूली का अड्डा बनाने वाले पुलिस कर्मियों को चिन्हित करके उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए। सीएम ने साफ कहा कि मत मजहब के आधार पर भेदभाव करने वाले पुलिस कर्मियों की वर्दी उतार दी जाएगी। नाबालिक बच्चियों के साथ रेप के मामलों में सीएम ने कहा कि अपराधियों को फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट के माध्यम से जल्द से जल्द सजा दिलवाई जाए। सीएम ने अवैध शराब के खिलाफ अभियान चलाकर दोषियों पर कठोर कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए।

विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए सीएम योगी ने ओडीएफ में जियो टैगिंग की धीमी प्रगति को लेकर भी नाराजगी व्यक्त की। सीएम ने 15 जुलाई तक हर हाल में बेस लाइन सर्वे के बाहर के शौचालयों को पूर्ण करने साथ ही प्रधानमंत्री आवास और मुख्यमंत्री आवास योजना पर और तेजी लाने के निर्देश दिए।

इंसेफ्लाइटिस को लेकर सीएम ने कहा कि अगर इंसेफ्लाइटिस की वजह से अगर किसी की मौत हुई तो इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ जिला प्रशासन को भी जिम्मेदार माना जायेगा। सीएम ने कहा संचारी रोग नियंत्रण अभियान में किसी तरह की हीलाहवाली बर्दास्त नहीं कि जाएगी। सभी जगह साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जाए,बरसात के मौसम में कहीं पानी इकट्ठा न होने दिया जाए साथ ही कीटनाशकों का छिड़काव भी सुनिश्चित किया जाए जिससे संचारी रोगों को फैलने से रोका जा सके।

गोवंश संरक्षण को लेकर सीएम योगी ने कहा कि सरकार द्वारा सभी जिलों को गोआश्रयों के लिए पर्याप्त धन दिया गया है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जल्द से जल्द गौशालाओं का निर्माण पूरा करा लिया जाए। गोवंश अगर सड़कों या किसान के खेतों पर घूमता हुआ मिला तो कठोर कार्यवाई की जाएगी।

स्वच्छ पेयजल योजना को लेकर सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि बंद बोतल पानी की जांच करवाई जाए। सीएम ने कहा कि सभी हैंडपम्पों की मरम्मत का कार्य पूरा करवा लिया जाए साथ ही साफ पानी की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए।

सीएम योगी ने कहा कि मुसहर बस्तियों एवं मलिन बस्तियों में सभी को राशन कार्ड उपलब्ध कराया जाए एवं अन्य सुविधाएं दुरुस्त करायी जाएं। सीएम ने कहा कि भूख से किसी की मौत हुई तो जिला प्रशासन को बख्शा नहीं जाएगा।

बिजली विभाग की समीक्षा करते हुए सीएम योगी ने कहा कि रोस्टर के हिसाब से बिजली का संचालन किया जाए साथ ही मीटर की ओवर रीडिंग की भी समीक्षा की जाए। बिजली से जुड़े सभी मामलों को गंभीरता से लिया जाए अन्यथा अधिकारी परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें।

आयुष्मान भारत योजना की समीक्षा करते हुये सीएम योगी ने निर्देश दिया कि 15 दिनों के अन्दर गोल्डन कार्ड का वितरण भी सुनिश्चित कर लिया जाये, उन्होने कहा कि शासन की समस्त योजनाओं को लोगों तक हर हाल में पहुंचाया जाए इसके लिऐ सभी लोग मिल कर टीम भावना से कार्य करे।

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने वृक्षारोपण, संचारी रोग, स्कूल चलो अभियान को जन आन्दोलन बनाए जाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि थाना, तहसील, विकास खण्डों को संवेदनशील बनाकर कार्य किया जाए तथा उद्योग बन्धु की बैठक भी नियमित रूप से आयोजित हो। उन्होंनेे कहा कि कुशीनगर को एक विश्वस्तरीय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए भी कार्य किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी अधिकारीगण जनप्रतिनिधियों से संवाद स्थापित करें तथा उनके पत्रों पर समुचित कार्यवाही करते हुए जनप्रतिनिधिगण को कृत कार्यवाही से अवगत भी कराएं।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुसहर बस्तियों में सभी को राशन कार्ड एवं अन्य सुविधाएं अनिवार्य रूप से प्रदान की जाएं। उन्होंनेे यह भी निर्देश दिए कि भूख या बीमारी से किसी की मृत्यु होती है, तो जिलाधिकारी एवं सम्बन्धित अधिकारी उसके जिम्मेदार होंगे तथा उनके खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। उन्होंने चेताया कि यदि जे0ई0/ए0ई0एस0 से किसी की मृत्यु होती है, तो उसके लिए जिला प्रशासन के साथ-साथ डी0पी0आर0ओ0 की जिम्मेदारी तय की जाएगी।

 

गौ संरक्षण केन्द्रों के निर्माण की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि निर्माणाधीन गौ संरक्षण केन्द्रों को तत्काल पूर्ण कराया जाए। उन्होंने इस कार्य में जनसहभागिता भी बढ़ाए जाने हेतु निर्देशित किया। उन्हांेने कहा कि सड़कों पर जानवरांे को खुला छोड़ने वालों को चिन्हित कर उन पर भारी जुर्माना लगाया जाए। उन्होंने कहा कि काजी हाउस गौ संरक्षण केन्द्र में पशुओं को रखने की व्यवस्था ठीक होनी चाहिए। साथ ही, उन्होंने पशुओं के चारे, पानी एवं अन्य व्यवस्थाओं को भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

 

मुख्यमंत्री ने पाॅलिथीन एवं थर्माेकोल की रोकथाम के खिलाफ निरन्तर कार्रवाई की जाए। साथ ही, उसके दुष्प्रभाव के सम्बन्ध में भी लोगों को जागरूक किया जाए। शौचालय निर्माण की समीक्षा करते हुए उन्होंने निर्देश दिए कि सभी शौचालयांे की जियो टैगिंग 15 दिनों के अन्दर पूरी करायी जाए तथा निर्मित शौचालयों का निरीक्षण करते हुए उन पर ‘इज्जत घर’ भी लिखवाया जाए।

 

Anil Ankur Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned