श्रद्धालुओं को गंगाजल मुहैया कराने की तैयारी में योगी सरकार, सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करेगी जवाब

CM Yogi to provide gangajal to devotees kanwar yatra- उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए कांवड़ यात्रा रद्द कर दी है। यूपी सरकार ने कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए और कांवड़ संघ से बातचीत करने के बाद यह फैसला लिया है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि वो कांवड़ियों के जत्थों को सड़क पर पैदल जाने की अनुमति देने के पक्ष में नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि प्रत्येक नागरिक को जीवन का मौलिक अधिकार प्राप्त है।

By: Karishma Lalwani

Published: 18 Jul 2021, 06:13 PM IST

लखनऊ. CM Yogi to provide gangajal to devotees kanwar yatra. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए कांवड़ यात्रा रद्द कर दी है। यूपी सरकार ने कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए और कांवड़ संघ से बातचीत करने के बाद यह फैसला लिया है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि वो कांवड़ियों के जत्थों को सड़क पर पैदल जाने की अनुमति देने के पक्ष में नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि प्रत्येक नागरिक को जीवन का मौलिक अधिकार प्राप्त है। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच भारी मात्रा में कांवड़ यात्रा कई जिंदगियों के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती हैं। इसलिए यूपी सरकार को अपने फैसले पर दोबारा विचार करना चाहिए। अब कोर्ट में सोमवार को यूपी सरकार जवाब दाखिल करेगी।

योगी सरकार कोर्ट को सावन यात्रा रद्द करने की जानकारी देगी। इसके साथ ही योगी सरकार कोर्ट को ये भी बताएगी कि वह इस सावन श्रद्धालुओं को गंगाजल मुहैया कराएगी। सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस रोहिंटन फली नरीमन और जस्टिस बीआर गवई की अदालत में ये मामला सुनवाई के लिए 37 नंबर आइटम के रूप में सूचीबद्ध है। राज्य सरकार से बातचीत के बाद कांवड़ संघ ने यात्रा न आयोजित करने का फैसला लिया है। पिछले साल भी कांवड़ संघ ने ही सरकार से बातचीत के बाद कांवड़ यात्रा आयोजित न करने पर सहमति जताई थी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर राज्य के अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी और डीजीपी मुकुल गोयल ने कांवड़ संघ के प्रतिनिधियों से बात की थी।

श्रद्धालु करते हैं पैदल यात्रा

हर साल बड़ी मात्रा में कांवड़ यात्रा के दौरान शिव भक्त उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल, दिल्ली, राजस्थान और देश के कई और राज्यों से कांवड़ लेकर हरिद्वार पहुंचते हैं और फिर हरिद्वार से कांवड़ भरकर वापस अपने घरों की तरफ निकलते हैं, अधिकतर श्रद्धालु पैदल यात्रा करते हैं। इस बार कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए कांवड़ यात्रा स्थगित कर दी गई है।

ये भी पढ़ें: यूपी सरकार का बड़ा फैसाल, नहीं होगी कांवड़ यात्रा, कांवड़ संघों से बातचीत के बाद लिया फैसला

ये भी पढ़ें: सोशल मीडिया से युवाओं को किया जाता है टारगेट, क्रैश कोर्स पास करने के बाद बड़ी घटना को अंजाम देने की मिलती है जिम्मेदारी

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned