सड़कों के लिए भूमि अधिग्रहीत तो सर्किल रेट से चार गुना धनराशि: मुख्य सचिव 

सड़कों के लिए भूमि अधिग्रहीत तो सर्किल रेट से चार
गुना धनराशि: मुख्य सचिव 
Chief Secretary

Ritesh Singh | Updated: 24 Aug 2016, 12:43:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

एनएचएआई द्वारा पत्र भेजकर दी गयी सहमति 

लखनऊ,उत्तर प्रदेश सरकार के अथक प्रयास से प्रदेश के किसानों को एन0एच00आई0 द्वारा निर्मित सड़कों हेतु भूमि अधिग्रहीत किये जाने पर सर्किल रेट का 04 गुना धनराशि का भुगतान प्राप्त होगा। प्रदेश सरकार की भूमि अधिग्रहण नीति को स्वीकार करते हुये एन0एच00आई0 द्वारा अपनी यह सहमति पत्र भेजकर दी गयी है। अभी तक एन0एच00आई0 द्वारा भूमि अधिग्रहण किये जाने की स्थिति पर किसानों को उनकी भूमि का इतनी धनराशि का भुगतान नहीं किया जाता था। 

किसानों को मुआवजे का उचित भुगतान न मिलने पर अनावश्यक रूप से विवाद की स्थिति उत्पन्न होती थी। 
उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव दीपक सिंघल ने प्रदेश के किसानों के हित में यह अनुरोध भारत सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों से करते हुये कहा था कि प्रदेश में एन0एच00आई0 द्वारा निर्मित सड़कों के निर्माण हेतु किसानों से ली जाने वाली जमीन आपसी समझौते के आधार पर प्रदेश सरकार की भांति सर्किल रेट का 04 गुना धनराशि का भुगतान कराया जाना सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने बताया कि यह निर्णय हो जाने के फलस्वरूप प्रदेश के किसान सहर्ष एनएचएआई द्वारा निर्मित सड़कों के निर्माण हेतु अपनी जमीन आपसी समझौते के आधार पर देंगे। 

मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश के विकास हेतु आवश्यक जमीन अधिग्रहीत किया जाना आवश्यक है, परन्तु किसानों को सर्किल रेट का 04 गुना धनराशि का भुगतान कराया जाना किसानों के हित में है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों के हितों का ध्यान रखकर योजनाओं के क्रियान्वयन में विशेष ध्यान दे रही है और इसी का परिणाम है कि सम्बन्धित किसान अपनी जमीन को आपसी समझौते के आधार पर प्रस्तावित परियोजनाओं हेतु सहर्ष देने के लिये तैयार हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned