फोन टैपिंग के विरोध में सड़कों पर कांग्रेसी, प्रदेश भर में सैकड़ों कांग्रेसी गिरफ्तार, लखनऊ में लल्लू हिरासत में

वाराणसी में सुभासपा का एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन, महगांई, बेरोजगारी, बढ़ते डीजल-पेट्रोल व बिजली के दाम मुद्दा

लखनऊ. जैसे-जैसे उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव पास आ रहे हैं, आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति भी शुरू हो गई है। इस बार फोन टैपिंग का भूत राजनीतिक संग्राम के रूप में उभरकर सामने आया है। सांसद के बाद अब सड़क पर कांग्रेस और दूसरी राजनीतिक पार्टियां सरकार को घेरने की तैयारी में हैं। इसी क्रम में गुरुवार को कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता लखनऊ में राजभवन पर ज्ञापन देने के लिये बढ़े, लेकिन भारी संख्या में पुलिस बल के चलते स्वास्थ्य भवन तिराहे से आगे नहीं बढ़ सके। पुलिस ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, कांग्रेस नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी और एमएलसी दीपक सहित तमाम कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेकर ईको गार्डन भेज दिया। वहीं कांग्रेसी नेताओं का आरोप है कि प्रदर्शन मेंं जाने से रोकने के लिए पुलिस ने उन्हें घर में नजरबंद कर दिया।

फोन टैपिंग के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन

दरअसल राहुल गांधी और दूसरी कई पार्टियों के नेता फोन टैपिंग के मुद्दे को लेकर सरकार से जवाब मांग रहे हैं। इसी क्रम में कांग्रेस पार्टी ने गुरुवार को स्वास्थ्य भवन से लेकर राजभवन तक शांति मार्च निकालने की तैयारी की थी। कांग्रेस पार्टी का कहना है कि कार्यकर्ता शांतिपूर्वक तरीके से राजभवन जाकर राज्यपाल को ज्ञापन देना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें जाने नहीं दिया। शहर के तमाम रास्तों पर पुलिस लगा दी गयी और इधर आने वालों को रोका गया। जिला अध्यक्ष कांग्रेस वेद प्रकाश त्रिपाठी का कहना है कि कार्यकर्ता शांतिपूर्वक तरीके से मार्च निकालकर सरकार द्वारा फोन टैपिंग का विरोध किया जा रहा था, लेकिन पुलिस ने हम लोगों को घर में ही नजरबंद कर लिया। पुलिस ने शांति मार्च में शामिल होने के लिए जाने नहीं दिया। उन्होंने कहा कि यह प्रदेश सरकार की तानाशाही है और इसे चलने नहीं दिया जाएगा। केंद्र सरकार के इशारे पर जिस तरह लोगों की फोन टैपिंग करायी जा रही है हम हर कीमत पर इसका पुरजोर विरोध करेंगे।

वाराणसी में सुभासपा का एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन

वाराणसी में सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर के नेतृत्व देश में बढ़ती महंगाई के खिलाफ आवाज उठाते हुए गुरुवार को विरोध प्रदर्शन किया गया। ओमप्रकाश राजभर के नेतृत्व में हुए इस विरोध प्रदर्शन में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। प्रदर्शन के दौरान सुभासपा के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि भाजपा अपने ही महंगाई को कम करने के वादे को आज भूल गई है। ओमप्रकाश राजभर ने पेट्रोल- डीजल और बाकी चीजों के बढ़े हुए दामों को गिनाते हुए कहा कि सरकार अपने ही वादों से मुकर गयी है। राजभर ने कहा कि हम यह प्रदर्शन भारतीय जनता पार्टी को आम जनता को किए गए वादों को याद दिलाने के लिए कर रहे हैं। अगर सरकार अपने किये गए वादे को पूरा नहीं करती है तो 2022 में भाजपा चली जाएगी। साथ ही ओमप्रकाश राजभर ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि उनकी प्रयोगशाला नागपुर में है जहां से भाजपा को झूठ बोलने और जुमला बोलने की ट्रेनिंग दी जाती है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के लिए सीएम योगी आज करेंगे बाल सेवा योजना की शुरुआत; एक लाख का इनामी बदन सिंह मुठभेड़ में ढेर

Congress
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned