विधानसभा सत्र छोटा कर मुद्दों पर बहस से बच रही योगी सरकार: कांग्रेस

विधानसभा का सत्र छोटा करने पर कांग्रेस ने उठाए सरकार की मंशा पर सवाल

By:

Published: 18 Dec 2018, 06:17 PM IST

लखनऊ. विधानसभा का शीतकालीन सरकार सिर्फ चार दिन होने पर कांग्रेस ने प्रदेश सरकार को घेरा है। कांग्रेस ने प्रेस नोट जारी कहा है कि शीत सत्र के समय को सिर्फ चार दिन तक सीमित करके यह प्रमाणित किया है कि सरकार प्रदेश के महत्वपूर्ण जनहित के विषय एवं मुद्दों से बचने के लिए चर्चा से भाग रही है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता अंशू अवस्थी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकार गठन के बाद से जनता से वादा किया था कि हम 90 दिन सदन चलायेंगे और जनता से जुड़े प्रदेश के सभी विषयों पर संवाद एवं चर्चा करेंगे लेकिन आज हकीकत यह है कि 90 दिन तो दूर 50 प्रतिशत भी सदन की कार्यवाही नहीं चली, शीत सत्र को छोड़कर मात्र 21 दिन एवं यदि शीत सत्र को जोड़ दिया जाय तो सिर्फ 25 दिन ही सदन की कार्यवाही चली जो कि 22 करोड़ जनसंख्या वाले उत्तर प्रदेश के लिए काफी कम है।

प्रदेश प्रवक्ता के मुताबिक सरकार का इस तरीके से सदन के समय को कम करना और चर्चा से भागना यह साबित करता है कि पिछले बीस माह की भाजपा सरकार उत्तर प्रदेश के जनमानस के प्रति कतई गंभीर नहीं है। यदि 20 माह में सरकार की कोई उपलब्धियां होतीं तो यह विशेष तौर पर चर्चा के लिए सजग होते। प्रवक्ता ने कहा कि सरकार गंभीर मुद्दों जैसे बेरोजगारी, किसानों की समस्या, ध्वस्त कानून व्यवस्था और अभी हाल ही में बुलन्दशहर में भड़के दंगे पर चर्चा से बचने के लिए सत्र को सीमित कर मात्र चार ही दिन में समाप्त करना चाहती है। सरकार लोकतंत्र एवं विधानसभा के प्रति कितनी गंभीर है यह अपने आप में स्वतः स्पष्ट हो जाता है।

पहले दिन शोक प्रस्ताव के बाद कार्यवाही स्थगित


बता दें कि विधानमंडल सत्र मंगलवार से शुरू हो गया है। सत्र के पहले दिन आज समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने सदन के अंदर व सदन के बाहर कानून-व्यवस्था व किसानों की समस्याओं के लेकर हंगामा किया। सदन की कार्यवाही शुरू होने पर भाजपा विधायक राम कुमार वर्मा व पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के निधन पर शोक प्रस्ताव के बाद सदन की कार्रवाई कल 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

 

Congress
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned