गोरखपुर के नौतनवां में बनेगा नया कंटेनर टर्मिनल, भारत नेपाल के बीच बढ़ेगा व्यापार

  • कंटेनर टर्मिनल बन जाने से सड़कों पर कम होंगे कंटेनर ट्रक, सुधरेगी यातायात व्यवस्था
  • कारोबारियों को 200 से 250 किलोमीटर सड़क मार्ग के खर्च में होगी बचत, समय भी कम लगेगा

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ/गोरखपुर. पूर्वोत्तर रेलवे नेपाल से सटे गोरखपुर के नौतनवां रेलवे स्टेशन पर एक नया कंटेनर टर्मिनल बनाने जा रहा है, जो व्यापार में तो वृद्घि करेगा ही पड़ोसी देश नेपाल को जरूरी सामानों की सप्लाई भी बेहद कम समय में की जा सकेगी। इसके बन जाने से सड़कों पर कंट्रेनर ट्रकों का लोड कम होगा, जिसके असर से यातायात सुगम होगा। इस कंटेनर टर्मिनल के बन जाने के से समुद्र के रास्ते से आने वाली दवाइयां, कीमती सामान व ऑटोमोबाइल सीधे नौतनवां पहुंच सकेंगे। लखनऊ व आसपास के जिलों से नेपाल जाने वाले सामान की लागत भी घट जाएगी।

 

गोरखपुर के नौतनवां में नया कंटेनर टर्मिनल पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल प्रशासन की एक और उपलब्धि होगी। लखनऊ मंडल की मंडल रेल प्रबंधक मोनिका अग्निहोत्री ने मीडिया से कहा है कि इसका काम मार्च तक पूरा हो जाएगा। इससे ऑटोमोबाइल और दूसरे सामान सीधे नौतनवां लाकर वहां से नेपाल भेजा जा सकेगा। टर्मिनल बन जाने के बाद ढुलाई लागत और समय दोनों की बचत होगी।

 

पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ के बख्शी का तालाब के बाद नौतनवां में ऑटोमोबाइल टर्मिनल बनाने जा रहा है। इससे सड़क मार्ग से आने वाले ट्रैक्टर और कारों को मालगाड़ियों के जरिये लाया जा रहा है। इससे आसपास के स्टेशनों को ट्रैक्टर व कारें भेजने में लागत भी काफी कम पड़ रही है। रेलवे माल ढुलाई में लगने वले समय और लागत दोनों को कम करने की दिशा में तेजी से काम कर रहा है।

 

नौतनवां में टर्मिनल के बन जाने से व्यापारियों और डीलरों को काफी फायदा होगा। गाड़ियां और जरूरी सामान नेपाल भेजने में आसानी होगी। 200 से 250 किलोमीटर सड़क मार्ग के खर्च में बचत होगी और समय भी कम लगेगा। बताते चलें कि लखनऊ मंडल ने बीते जनवरी महीने में 20 रैक गेहूं बंग्लादेश भेजा है। पूर्वांचल की चीनी कांदला व गांधीधाम पोत लेजाकर विदेश भेजी जा रही है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned