70 हजार से अधिक कैदियों का कोरोना टेस्ट, 1690 पाए गए संक्रमित

उत्तर प्रदेश की जेलों तक कोरोना वायरस (Corona Virus) का संक्रमण बढ़ गया है। जेलों में सजायाफता कैदियों को कोरोना से बचाने के लिए अब तक करीब 70 हजार टेस्ट कराए जा चुके हैं। इसी के साथ जेल के स्टाफ का भी टेस्ट कराया गया है।

By: Karishma Lalwani

Updated: 26 Aug 2020, 09:30 AM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की जेलों तक कोरोना वायरस (Corona Virus) का संक्रमण बढ़ गया है। जेलों में सजायाफता कैदियों को कोरोना से बचाने के लिए अब तक करीब 70 हजार टेस्ट कराए जा चुके हैं। इसी के साथ जेल के स्टाफ का भी टेस्ट कराया गया है। करीब 59 जेल स्टाफ कोरोना से संक्रमित पाए जा चुके हैं। वहीं अलग-अलग जेलों से कुल 1690 बंदी संक्रमित हैं। डीजी जेल आनंद कुमार ने बताया कि शत-प्रतिशत बंदी स्वस्थ हो रहे हैं। सतर्कता के कारण प्रदेश के कारागारों में निरूद्ध बन्दियों में कोरोना संक्रमण को कम किया जा सका है।83 अस्थाई जेल

जेल में कोरोना न पहुंचे इसके लिए प्रदेश में 83 अस्थायी जेल बनाई गई है। डीजी जेल ने बताया कि जेलों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए किये गये उपायों के तहत 64 जिलों में अब तक कुल 83 अस्थायी जेलों का निर्माण किया जा चुका है। नये आने वाले बंदियों को सर्वप्रथम इन अस्थायी जेलों में रखा जा रहा है। कोविड टेस्ट कराने पर निगेटिव रिपोर्ट पाये जाने के पश्चात ही इन बंदियों को स्थायी जेलों में निरुद्ध किया जा रहा है।

स्थायी जेल में 14 दिन तक क्वारंटाइन

पुलिस महानिदेशक एवं महानिरीक्षक कारागार आनन्द कुमार ने इस संबंध में बताया है कि जिन बंदियों का टेस्ट रिजल्ट निगेटिव आता है, उन्हें 14 दिन तक स्थायी जेल में क्वारंटाइन किया जाता है। जेलों में बैनर, पोस्टर और पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम द्वारा बंदियों को कोरोना से बचाव के प्रति जागरूक किया जाता है।

ये भी पढ़ें: यूपी में कोरोना का कहर, संक्रमण में लखनऊ तो मौत के मामले में कानपुर अव्वल

coronavirus COVID-19
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned