Janta Curfew : लखनऊ, बरेली, गाजियाबाद और गोरखपुर समेत पूरे यूपी में पसरा सन्नाटा, जानें- प्रमुख शहरों का हाल

- कोरोना वायरस के खिलाफ सबसे बड़ी जंग में यूपी से जोरदार समर्थन
- सुबह से सड़कों पर पसरा सन्नाटा, घरों से जनता कर्फ्यू का समर्थन कर रहे लोग

By: Hariom Dwivedi

Updated: 22 Mar 2020, 12:27 PM IST

लखनऊ. कोरोना वायरस के खात्मे के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर उत्तर प्रदेश की जनता ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बिगुल फूंक दिया है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव की खातिर यूपी सहित देश की जनता एकजुट है। प्रदेश भर में लोग जनता कर्फ्यू का पालन कर रहे हैं। तमाम शहरों में सुबह से ही सन्नाटा पसरा है। प्रमुख तीर्थस्थलों मथुरा, वाराणसी, काशी और अयोध्या में सन्नाटा पसरा है। मंदिरों में जनता कर्फ्यू की वजह से पूजा-पाठ तो हुई, लेकिन भक्तों के बिना। पहली बार श्रद्धालुओं के बिना भगवान का भोग लगा और आरती हुई। जनता कर्फ्यू के चलते रविवार को भक्तों ने सरयू, गंगा और गोमती में डुबकी नहीं लगाई। व्यापारिक शहर कानपुर, मुरादाबाद, गाजियाबाद, बरेली और गोरखपुर समेत प्रमुख नगरों में सुबह से ही सन्नाटा पसरा है। लोग घरों में हैं। नवाबों की नगरी लखनऊ में भी प्रमुख बाजार बंद हैं। रूमी गेट, इमामबाड़ा और रेजीडेंसी जैसे ऐतिहासिक स्थलों से लोग नदारद हैं।

नवाबों की नगरी में सन्नाटा
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रविवार सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक उत्तर प्रदेश में मेट्रो रेल, रोडवेज बसें और सिटी ट्रांसपोर्ट सेवाएं पूरी तरह बंद हैं। पेट्रोल पंप सुबह 7 से रात 9 बजे तक बंद हैं। सिर्फ इमरजेंसी सेवाओं से जुड़े लोगों को फ्यूल भराने की छूट है। राजधानी लखनऊ के हजरतगंज और गोमती नगर में सभी दुकानें बंद हैं। 57 प्रमुख चौराहों पर पुलिसबल मुस्तैदी से तैनात है। पुलिस लोगों को कोरोना से जुड़े जरूरी निर्देश दे रही है। लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन पर रोजाना की अपेक्षा पांच फीसदी यात्री ही दिख रहे हैं। कोई हलचल नहीं हैं। टैक्सी खड़ी हैं। लोग पैदल ही निकल रहे हैं। हजरतगंज, गोमतीनगर, भूतनाथ, चौक, अमीनाबाद सहित शहर के प्रमुख बाजारों सहित सभी इलाकों में सन्नाटा पसरा है।

काशी के मंदिर, घाट और गलियों से भी लोग नदारद
दुनिया के सबसे जीवंत शहरों में से एक काशी में भी जनता कर्फ़्यू को लोगों ने दिल से स्वीकार किया है। पीएम मोदी की अपील का असर यहां साफ दिखा। जिस काशी में भोर के तीन बजे से ही देश और विदेश के लोगों का रेला उमड़ पड़ता था वहां हर तरफ सन्नाटा पसरा हुआ है। जनता कर्फ्यू का असर बनारस के अलावा इस मंडल के जिले गाजीपुर, चंदौली और जौनपुर में भी सौ फीसदी है। यहां भी जनता अपने अपने घरों से बाहर नहीं निकली। न गाजीपुर की मंडी में लोग हैं और न ही जौनपुर के ऐतिहासिक शीतला दरबार की तरफ एक भी श्रद्धालु जाता दिखा वहीं चंदौली के पंडित दीन दयाल उपाध्याय स्टेशन जहां की हर मिनट में हज़ारों यात्रियों का आना जाना होता था वहां भी लोग नहीं दिखे। बनारस शहर की बात करें तो यहां ले सबसे भीड़ भाड़ वाली जगहों पर भी कहीं एक तो कहीं दो लोग ही नजर आ रहे। स्टेशन का क्षेत्र हो या बीएचयू का। चौकाघाट, लहुराबीर, मैदागिन, बेनियाबाग, गोदौलिया, सदर बाजार, मलदाहिया सिगरा, अस्सी हर जगह जनता कर्फ्यू का असर साफ दिख रहा है।

भक्तों के बिना हुई भगवान की पूजा
श्रद्धालुओं से पटी रहने वाली राम नगरी अयोध्या में जनता कर्फ्यू का खासा असर नजर आ रहा है। सरयू घाट हो या प्रमुख मठ मंदिर, सभी स्थानों पर भगवान का पूजा-पाठ हुआ, लेकिन श्रद्धालु व भक्त नदारद रहे। कई मंदिरों के कपाट बन्द हैं। अयोध्या की सड़कें भी सूनी पड़ी हैं। बाजारों में सन्नाटा पसरा है।

कृष्णनगरी में सन्नाटा
कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जनता कर्फ्यू लगाने की गयी अपील का असर कान्हा की नगरी मथुरा और वृंदावन में भी देखने को मिल रहा है। शहर के प्रमुख बाजार पूरी तरह से बंद हैं। मंदिरों के पट बंद और शहर में सन्नाटा पसरा है।

भोलेनाथ करते रहे भक्तों का इंतजार
जनता कर्फ्यू का असर मेरठ के मंदिरों में भी दिखाई दिया। जिन मंदिरों में सुबह पांच बजे से ही घंटों और घडियालों की आवाजें गूंजनी शुरू होती हैं। शंखों की ध्वनि वातावरण को भक्तिमय बनाती है उन मंदिरों में आज सुबह से ही खामोशी छाई है। भगवान की पूजा करने के लिए आने वाले भक्तों की चहलपहल से गूंजने वाला मंदिर परिसर आज बिल्कुल वीरान पड़ा हुआ था। इन मंदिरों में देश के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक भगवान औघड़नाथ का मंदिर भी है। जहां पर सुबह से ही मंदिर परिसर में सन्नाटा पसरा हुआ है। मंदिर परिसर में इक्का-दुक्का लोग ही नजर आए। सुबह आठ बजे हालांकि मंदिर परिसर खुला हुआ था। लेकिन भक्त घरों में ही भगवान का ध्यान करते रहे।

Janta Curfew : लखनऊ, बरेली, गाजियाबाद और गोरखपुर समेत पूरे यूपी में पसरा सन्नाटा, जानें- प्रमुख शहरों का हाल

ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर नहीं दौड़ रहे वाहन
बागपत जनपद में सभी जगहों पर पसरा सन्नाटा पसरा हुआ है। जनपद के सभी बाजार बंद हैं। ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे सहित प्रमुख मार्गों पर कोई वाहन नजर नहीं आ रहे हैं। सुबह से ही लोग घरों में कैद हैं। बड़ौत, बागपत और खेकड़ा सहित सभी जगहों पर जनता कर्फ्यू का असर देखने को मिल रहा है। चाय की दुकानें, पान का खोखे भी बंद हैं। चौराहों पर यातयात पुलिस व फैंटम बाइक पर पुलिस मुस्तैद नजर आ रही है।

जनता कर्फ्यू का असर
मिर्जापुर जिले में जनता कर्फ्यू के दौरान पूरी तरह से सड़कों पर सन्नाटा है। शहर के सबसे बड़े मार्केट मुकेरी बाजार में भी पूरी तरह से सन्नाटा दिखाई दिया। जनता कर्फ्यू के दौरान सभी दुकान व प्रतिष्ठान पूरी तरह से बंद हैं। विंध्याचल कस्बे के अलावा अहरौरा, इमियाचट्टी, चुनार, सिटी ब्लॉक के सभी इलाकों में पूरी तरह से सड़कें बंद हैं।

सीतापुर में सड़कों पर इक्का-दुक्का लोग
जनता कर्फ्यू का सीतापुर में भी देखने को मिल रहा हैं। यहां सुबह 7 बजे से हर दिन की भांति आज तो बेहद सन्नाटा पसरा रहा, लेकिन समय गुजरने के साथ ही सुनसान सड़कों पर एका-दुक्का लोग ही नजर आ रहे हैं। जनता कर्फ्यू को लेकर पुलिस भी सड़कों पर मुस्तैद है और सड़कों पर निकलने वाले लोगों को जागरूक कर घरों में रहने की सलाह दी जा रही है।

बस हैं, पर यात्री नहीं
गाजियाबाद का सबसे व्यस्त बस स्टेशन चौराहा भी पूर्ण रूप से खाली पड़ा है। यहां बसें तो खड़ी हैं, लेकिन यात्री नहीं है। इसके अलावा रमते राम रोड, घंटाघर,, चोपला मंदिर, तुरब नगर, भाटिया मोड़, चौधरी मोड़, प्रताप विहार इलाका, ट्रांस हिंडन इलाका, गोविंदपुरम, कवि नगर और राजनगर सभी जगह पूरी तरह सन्नाटा है। गाजियाबाद पुलिस में पूर्ण रूप से जगह-जगह घूमकर लोगों को जनता कर्फ्यू के बारे में बता रही है।

गांवों में जनता कर्फ्यू का असर
जनता कर्फ्यू को लेकर जहां जनपद बिजनौर के सभी ट्रांसपोर्ट सेवा बंद है, वहीं प्राइवेट ट्रांसपोर्ट सेवाएं भी ठप पड़ी हैं। सरकारी बस अड्डे सहित रेलवे स्टेशन तक को लॉक डाउन किया गया है। शहर ही नहीं बल्कि गांव में भी इस लॉक डाउन का असर देखने को मिल रहा है।

गाजीपुर में जनता कर्फ्यू का असर
गाजीपुर में पत्रिका टीवी ने जनता कर्फ्यू का जायजा लिया। जनता कर्फ्यू का जिले में अक्षरशः पालन किया जा रहा है। लोग अपने घरों में दुबके हुए हैं। सड़कों पर सन्नाटा पसरा है।

आम नागरिक कर रहे जनता कर्फ्यू का समर्थन
मुरादाबाद में जनता कर्फ्यू का असर सुबह से ही देखने को मिल रहा है। जिन जगहों पर सुबह से ही हलचल और आवागमन शुरू हो जाता था, वहां भोर से सन्नाटा पसरा हुआ है। शहर के हाइवे पर भी वाहनों की आवाजाही बंद है तो वहीं गांव में गलियों तक में भी लोग नहीं निकल रहे हैं। खुद शनिवार शाम और देर रात तक पुलिस ने सभी से घरों में रहने की अपील की थी।

चित्रकूट मंडल में सन्नाटा
चित्रकूटधाम मंडल के बांदा व हमीरपुर की जनता कर्फ्यू का असर साफ दिख रहा है। सुबह से प्रमुख शहरों में सन्नाटा पसरा है। सड़कों पर सफाईकर्मियों के अलावा पुलिस ही नजर आ रही है। चित्रकूट की प्रमुख बाजारें भी पूरी तरह से बंद हैं।

कानपुर के मशहूर ठिकानों पर वीरानी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर 24 घंटे चहकने और बतकही करने वाला कानपुर शहर भी सन्नाटे में सिमटा है। दंगों-फसाद के दौरान प्रशासनिक कफ्र्यू के दौरान शहर के तमाम नुक्कड़ और गलियों में रौनक दिखती थी, लेकिन जनता कफ्र्यू के दरमियान गप्पबाजी के मशहूर ठिकानों पर भी वीरानी नजर आई। इक्का-दुक्का को छोड़ दिया जाए तो रविवार सुबह कनपुरिये दूध-ब्रेड लेने भी नहीं निकले। खास बात यह कि जनता कर्फ्यू का पालन एहतियात के लिए जरूरी है, लेकिन फक्कड़ शहर के रंगबाज शहरियों ने इसे परिवार के साथ मस्ती का जरिया भी बना लिया है।

मुजफ्फरनगर जनता कर्फ्यू का समर्थन
मुजफ्फरनगर में जनता कर्फ्यू पूरी तरह से सफल है। कोरोना को हराने को लेकर जनता का भरपूर समर्थन मिल रहा है। आम नागरिक व व्यापारी अपने घरों में हैं। बाजार पूरी तरह से बंद हैं। लोग घरों में हैं और पुलिस सड़कों पर मुस्तैद है।

श्रावस्ती का हाल
श्रावास्ती जिले में जनता कर्फ्यू का असर दिख रहा है। सुबह से ही सड़कों पर सन्नाटा पसरा है। लोग अपने अपने घरों में रहकर प्रधानमंत्री की अपील का हिस्सा बन रहे हैं। शहर के प्रमुख बाजार बंद हैं।

Janta Curfew : लखनऊ, बरेली, गाजियाबाद और गोरखपुर समेत पूरे यूपी में पसरा सन्नाटा, जानें- प्रमुख शहरों का हाल
Corona virus Corona Virus Precautions
Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned