बच्चों को तीसरी लहर से बचाने के प्रयास तेज, तैयार हो रहे डेडीकेटेड आईसीयू वार्ड

Covid Third Wave Dedicated Hospitals Getting Ready For Children - कोरोना (Corona Virus) की संक्रमण ने जमकर तांडव मचाया है। यह पहली से भी ज्यादा खतरनाक रही है। अब संक्रमण की दर में काफी गिरावट आई है लेकिन कोरोना की तीसरी लहर की आशंका ने परेशान कर रखा है। आशंका जताई गई है कि कोरोना की तीसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों को प्रभावित कर सकती है।

By: Karishma Lalwani

Published: 18 Jun 2021, 01:27 PM IST

लखनऊ. Covid Third Wave Dedicated Hospitals Getting Ready For Children. कोरोना (Corona Virus) की संक्रमण ने जमकर तांडव मचाया है। यह पहली से भी ज्यादा खतरनाक रही है। अब संक्रमण की दर में काफी गिरावट आई है लेकिन कोरोना की तीसरी लहर की आशंका ने परेशान कर रखा है। आशंका जताई गई है कि कोरोना की तीसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों को प्रभावित कर सकती है। ऐसे में तीसरी लहर से बचाव और भी ज्यादा जरूरी हो गया है। इसी को ध्यान में रखते हुए यूपी सरकार ने बच्चों के बचाव के लिए अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। राजधानी लखनऊ में बच्चों के लिए डेडिकेटेड आईसीयू वार्ड अस्पताल तैयार किया गया है। आने वाले दिनों में कंडीशन के हिसाब से इसकी संख्या बढ़ सकती है।

अस्पताल में 100 बेड्स की संख्या

तीसरी लहर की आशंका के चलते हर स्तर पर तैयारी की जा रही है। बच्चों को लेकर सुरक्षा कवच तैयार किया जा रहा है। लोकबंधु अस्पताल के मेडिकल सुप्रिटेंडेंट डॉ. अजय शंकर त्रिपाठी ने कहा कि बच्चों के लिए खास कोविड अस्पताल तैयार किया गया है। उन्होंने जानकारी दी कि यह पूरा अस्पताल आईसीयू बेड वाला है। इसमें वेंटिलेटर की भी व्यवस्था की गई है। अस्पताल में कुल 100 बेड्स की संख्या उपलब्ध है। आगामी दिनोंं में कोरोना की कंडीशन देखकर इसे बढ़ाया या घटाया जा सकता है। बता दें कि बुधवार को अपर मुख्य सचिव ने अस्पताल का उद्घाटन किया था। यह अस्पताल कोरोना की तीसरी लहर के दौरान जच्चा-बच्चा को संक्रमण से बचाने के उद्देश्य से तैयार किया गया है।

ढाई किलो के बच्चों को मिलेगा वेंटिलेटर

तीसरी लहर की आशंका के बीच राजधानी लखनऊ में डेडिकेटेड अस्पताल में बेड की संख्या बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। इसी के साथ बच्चों को समय पर उचित इलाज मिल सके, इसे लेकर भी प्रयास किया जा रहा है। सभी संस्थानों में तैयारी की जा रही है। लखनऊ के डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में ढाई से तीन किलो वजन तक के बच्चों को भी वेंटिलेटर मिलेगा। आमतौर पर इतने वजन के बच्चों के लिए वेंटिलेटर नहीं उपलब्ध हो पाता है। संस्थान में 100 बेड की पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट (पीआईसीयू) में सामान्य क्षमता के साथ चार वेंटिलेटर भी नवजात के लिए होंगे। अभी तक संस्थान में इतने छोटे बच्चों के लिए वेंटिलेटर नहीं थे। वहीं अस्पताल में 50 एचडीयू और 50 आइसोलेशन वाले बेड हैं। कुल 20 वेंटिलेटर होंगे। इनमें 16 सामान्य और चार विशेष क्षमता के होंगे। इन बेड पर नवजात बच्चों को रखा जाएगा।

ये भी पढ़ें: बिना स्लॉट बुक किए लगाई जाएगी वैक्सीन, जुलाई से गांव वालों को मिलेगी बड़ी सहूलियत

ये भी पढ़ें: राजधानी में कोरोना से अनाथ हुए 200 बच्चों का सरकार बनेगी सहारा, प्रशासन के सर्वे में सामने आई यह बात

Corona virus
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned