चौथे चरण के रण में दांव पर 13 सीटें, तीनों पार्टियों में कड़ी टक्‍कर

चौथे चरण के रण में दांव पर 13 सीटें, तीनों पार्टियों में कड़ी टक्‍कर

Ruchi Sharma | Publish: Apr, 21 2019 02:05:13 PM (IST) | Updated: Apr, 21 2019 02:05:14 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

-१३ सीटों पर डाले जाएंगे वोट

 

रुचि शर्मा

लखनऊ. दिल्‍ली की सत्‍ता पर काबिज होने के लिए उत्तर प्रदेश लोकसभा की 80 सीटों पर सभी दलों को इस आम चुनाव में पसीने बहाने होंगे। देश के दो बड़े दलों कांग्रेस और बीजेपी के लिए हर चरण में अलग-अलग हालात और अलग-अलग चुनौतियां हैं। यूपी लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में प्रदेश की 13 लोकसभा सीटों पर नामांकन पत्रों की वापसी के बाद 152 प्रत्याशी चुनाव मैदान में होंगे। इन सीटों पर 29 अप्रैल को मतदान होगा। सबसे अधिक खीरी में १५ प्रत्याशी हैं। यूपी की बाकी छह सीटों में से शाहजहांपुर में १४, हरदोई में ११, मिश्रिख में १३, उन्नाव में ९, फर्र्ुखाबाद में ९, इटावा में १३, कन्नौज में १० कानपुर नगर में 14, अकबरपुर में 14, जालौन में पांच, झांसी में 11, हमीरपुर में 14 प्रत्याशी चुनाव मैदान में अपना भाग्य आजमाएंगे। 13 सीटों पर तीनों पार्टियों के बीच कड़ी टक्कर मिल रही है।

 

लखीमपुर खीरी

खीरी जिले की अगर आबादी को देखें तो यहां करीब 20 फीसदी मतदाता मुस्लिम समुदाय से हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच मुकाबला हुआ था। भाजपा के अजय कुमार मिश्र को यहां करीब 37 फीसदी वोट हासिल हुए थे, जबकि बसपा प्रत्याशी 27 फीसदी वोट मिले थे।इस बार भी भाजपा के अजय मिश्र, कांग्रेस के जफर अली नकवी और सपा की डा. पूर्वी के बीच मुकाबला है।

हमीरपुर

मौजूदा समय में इस सीट पर बीजेपी का कब्जा है।राजनीतिक रूप से इस संसदीय सीट पर सपा, बसपा, कांग्रेस और बीजेपी चारों पार्टियां जीत दर्ज कर चुकी हैं। इस सीट में बार कांग्रेस को जीत मिली जबकि बीजेपी को 4 बार, बसपा को 2 बार के अलावा एक-एक बार सपा, जनता दल और लोकदल को जीत मिल चुकी है।

मिश्रिख

मिश्रिख लोकसभा सीट पर कांग्रेस ने सबसे ज्यादा सात बार जीत का स्वाद चखा है। 1991 के बाद से भले ही कांग्रेस इस सीट से चुनाव नहीं जीत सकी है, लेकिन कांग्रेस ने इस बार पूर्व मंत्री रामलाल राही की पुत्रवधू को टिकट देकर मुकाबले को त्रिकोणीय जरूर बना दिया है। इस बार भाजपा ने इस सीट से अशोक रावत कांग्रेस से मंजरी राही व गठबंधन से नीलू सत्यार्थी को मैदान में उतारा है।

शाहजहांपुर

शाहजहॉंपुर लोकसभा सीट से मौजूदा सांसद भारतीय जनता पार्टी के कृष्णा राज हैं। कृष्णा राज ने बहुजन समाज पार्टी के दिग्गज नेता के. उम्मेद सिंह को साल 2014 के लोकसभा चुनाव में पराजित किया। साल 2014 के चुनावों में इस सीट पर बहुजन समाज पार्टी दूसरे, समाजवादी पार्टी तीसरे और कांग्रेस चौथे नंबर पर रही थी। इस बार भाजपा से अरुण सागर, गठबंधन से अमर चंद्र व कांग्रेस से ब्रह्मस्वरूप सागर प्रत्याशी हैं।

ललितपुर

2014 के लोकसभा चुनाव में बुंदेलखंड की चारों सीटों पर भाजपा का कब्जा रहा। इन चारों सीटों पर जातीय समीकरण बिठाकर टिकट बांटे गए। भाजपा ने इस सीट से अनुराग शर्मा, गठबंधन ने श्याम सुंदर सिंह वह कांग्रेस से शिवचरण कुशवाहा को प्रत्याशी उतारा है। इस सीट से इस बार जोरदार मुकाबले के आसार है।

जालौन

जालौन लोकसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। इनमें से पांच बार कांग्रेस और पांच बार ही बीजेपी ने जीत दर्ज की है, जबकि सपा, बसपा, जनता दल और लोकदल को एक-एक बार जीत मिली है। इस सीट से इस बार भाजपा ने भानु प्रताप वर्मा कांग्रेस ने बृजलाल खाबरी वह गठबंधन ने अजय कुमार पंकज को चुनावी मैदान में उतारा है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned