सपा सरकार में अफसरशाही ऐसी कि राम कथा कराना मुश्किल- बनारसकांड की जांच हो

Anil Ankur

Publish: May, 17 2018 09:33:55 PM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
सपा सरकार में अफसरशाही ऐसी कि राम  कथा कराना मुश्किल- बनारसकांड की जांच हो

भाजपा के राज में रामकथा का आयोजन करना भी अपराध - Akhilesh

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि राम का नाम लेकर सŸाा में आई भाजपा के राज में रामकथा का आयोजन करना भी अपराध बन गया है। कन्नौज के एक गांव में घटी घटना से तो यही साबित होता है कि अब रामकथा या तो अफसरशाही की मर्जी का मोहताज बनेगी या फिर उसका आयोजन होने ही नहीं दिया जाएगा। योगी जी के राज में रामकथा का आयोजन करने वाले की अच्छी खासी पिटाई भी होगी।
कन्नौज के हथिनी गांव में 16 मई 2018 को रामायण पाठ के साथ रामकथा का भी आयोजन था यह कार्यक्रम शाम तक ही चलना था। बताते हैं उधर से गुजर रहे एक एसडीएम साहब को यह सब नागवार गुजरा और उन्होंने कार्यक्रम स्थल पर लगे माइक को हटाने के साथ वहां रखे सामान को भी तोड़फोड़ दिया।
समाजवादी पार्टी एसडीएम के इस तानाशाही रवैये की भत्र्सना करती है और इस काण्ड की जांच के पूर्व एसडीएम को तत्काल निलम्बित करने की मांग करती है। रामकथा के आयोजन में विघ्न डालकर भाजपा ने जता दिया है कि उसकी धार्मिकता और राम मंदिर बनाने की बातें सिर्फ दिखावा है। उसका पहला और अंतिम लक्ष्य सिर्फ सŸाा का दुरूपयोग करना

अगर भाजपा सरकार में साहस है तो पूरी दुर्घटना की निष्पक्ष और ईमानदारी से जांच हो

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि बनारस की हृदय विदारक घटना में जहां एक ओर मुख्यमंत्री जी 15 मृत्यु की पुष्टि कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर सेतु निगम के एम.डी राजन मिŸाल ने मृतकों का आंकड़ा 18 बजाया है। यह कैसी विडम्बना है कि शासन-प्रशासन में कोई तालमेल नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर भाजपा सरकार में साहस है तो पूरी दुर्घटना की निष्पक्ष और ईमानदारी से जांच हो।
श्री चौधरी ने कहा कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव की मृतकों के परिवार को 50-50 लाख की मदद किये जाने की मांग को भी भाजपा सरकार ने नहीं माना। भाजपा सरकार को यह जान लेना चाहिए कि जल्दीबाजी में कार्यों की गुणवत्ता पर ध्यान नहीं रखा जा सकता है।
मुख्य प्रवक्ता चौधरी ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश के समय के कामों की जांच कराने की बात बेबुनियाद है। भाजपा सरकार विकास का कोई कार्य नहीं करती बल्कि समाजवादी सरकार में किये गये विकास कार्यों को ही बदनाम करती रहती है। भाजपा को श्री अखिलेश यादव जी के विकास कार्यों से प्रेरणा लेकर जनहित के कार्य करना चाहिए।
चौधरी ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री यादव के विकास कार्यों से लोगों का जीवन बदला है। उनकी सरकार के कामों में गुणवŸाा का पूरा ध्यान रखा गया था। कन्या विद्याधन, लैपटाॅप वितरण, किसानों की कर्जमाफी, मुफ्त सिंचाई, आदि की सुविधाएं मुहैया कराए जाने से लोगों का जीवन बेहतर बना। गरीब महिलाओं के लिए समाजवादी पेंशन योजना चलाई गई थी। अपराध नियंत्रण के लिए 100 नं0 यूपी डायल सेवा शुरू हुई थी। भाजपा ने सŸाा में आते ही बदले की भावना से अखिलेश के अच्छे कामों से मुहं चुराना शुरू कर दिया है।
अखिलेश यादव ने कर्नाटक में हुए घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि भाजपा का आचरण ही अलोकतांत्रिक है, कर्नाटक में जिस तरह लोकतंत्र की हत्या की गई है उसकी जितनी भत्र्सना की जाये कम है। उन्होंने कहा है कि ऐसी तमाम घटनाओं से स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों पर कुठाराघात होता है।

Ad Block is Banned