इन तरीकों से मिल सकती है कोरोना वायरस से आजादीः डॉ आशुतोष का सरकार को सुझाव

लखनऊ के डॉक्टर आशुतोष वर्मा ने सरकार को कुछ सलाह दी हैं। उनके मुताबिक, इन पर अमल कर सरकार मौजूदा परिस्थितियों से निपट सकती है।

By: Abhishek Gupta

Updated: 21 Apr 2021, 06:13 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस (Coronavirus in up) की दूसरी लहर तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले रही है। रोज़ाना प्रदेश में बीस हजार से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। हालांकि, प्रदेश सरकार ने आदेश जारी कर कई प्राइवेट हॉस्पिटल्स को डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों (Covid hospital) में तब्दील करने के निर्देश दिए हैं। डीआरडीओ (DRDO) की टीम भी लखनऊ में 250-250 बेड के अस्पताल बनाने में जुटी है। मगर, हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे। प्रतिदिन दिल को दहला देने वाली तस्वीरें सामने आ रही हैं। यह देख समाजवादी पार्टी प्रवक्ता, डॉ. आशुतोष वर्मा ने सरकार को कुछ सलाह दी हैं। उनके मुताबिक, इन पर अमल कर सरकार मौजूदा परिस्थितियों से निपट सकती है।

ये भी पढ़ें- कोरोनाः अंतिम संस्कार तक में लूट खसोट, वसूले जा रहे 10 से 25 हजार रुपए तक

इन तरीकों से मिलेगी आज़ादी-

डा.आशुतोष वर्मा (चिकित्सक, समाजसेवी, प्रवक्ता-समाजवादी पार्टी) ने कहा कि लखनऊ में तुरंत एक सप्ताह (7 days) का संपूर्ण लॉकडाउन लगाना चाहिए। जिससे चेन ट्रांसमिशन रुक जाए। किसी बड़े स्टेडियम, संस्थान को एक सप्ताह के लिए L1 और L2 का कोविड सेंटर बनाया जाए। साथ ही सरकार के अलावा प्राइवेट हेल्थ वर्कर्स को इच्छानुसार अनुबंधित करें और प्राइवेट डॉक्टर को भी उचित मानदेय के साथ इच्छानुसार प्रति दिन के हिसाब से अनुबंधित करें।

ये भी पढ़ें- कौन सा मास्क कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में है ज्यादा उपयोगी?

डॉक्टर्स को रोटेशन में ड्यूटी और आइसोलेशन करवाएं-

डॉ. वर्मा ने यह भी बताया कि सभी हेल्थ केयर वर्कर और डॉक्टर्स को रोटेशन में ड्यूटी और आइसोलेशन करवाएं। ज़्यादातर बीमारी L1 और L2 स्तर की हैं। कुछ मरीज अस्पताल में डर की वजह से बेड नहीं छोड़ते हैं, इस कारण गंभीर मरीज़ों को बेड नहीं मिलता। स्ट्रेस और घबराने से मरीज़ की स्थिति और ख़राब हो जाती है। साथ ही ऑक्सीजन, दवाएं, जरूरी समानों की उचित मात्रा रखें और लोगों से ब्लैक में ना ख़रीदने की अपील करें।

वरिष्ठ डॉक्टर को एडमिनिस्ट्रेटिव कमान दें-

डॉ. आशुतोष वर्मा ने सरकार को सलाह देते हुए कहा कि वरिष्ठ डॉक्टर को एडमिनिस्ट्रेटिव कमान दें और डॉक्टर एवं हेल्थ केयर वर्कर की ड्यूटी और मरीज़ की भर्ती वह देखेंगे। साथ ही आईएएस अधिकारी दवा, समान और लॉजिस्टिक देखें। संयम व प्लानिंग के साथ इस वैश्विक बीमारी से जीता जा सकता है।

इस नाजुक दौर में डॉ. आशुतोष वर्मा मरीज़ों का निःशुल्क इलाज कर अपने डॉक्टर होने का फर्ज अदा कर रहे हैं। वह हर वक्त अपने मरीज़ों के साथ खड़े रहते हैं। मौजूदा समय की इन विकट परिस्थितियों में भी उन्होंने सबकी मदद करने का बीड़ा उठाया है। यदि किसी व्यक्ति को कोई भी परेशानी हो तो वह तुरंत उनसे मदद की गुहार लगा सकता है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned