scriptDr. Syama Prasad Mookerjee Sacrifice Day | बलिदान दिवस पर याद किये गये डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी | Patrika News

बलिदान दिवस पर याद किये गये डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी

डॉक्टर मुखर्जी एक बहुआयामी व्यक्तित्व के स्वामी ही नहीं एक महान शिक्षाविद, देशभक्त, राजनेता, सांसद, अदम्य साहस के धनी और मानवतावादी थे।

लखनऊ

Published: June 24, 2022 12:36:59 am

भारतीय नागरिक परिषद के तत्वावधान में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस पर कश्मीर समस्या पर आयोजित संगोष्ठी में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी का देश की अखंडता के लिए किया गया बलिदान का स्मरण किया गया और भारत सरकार से मांग की गई कि पाक अधिकृत कश्मीर का भारत में विलय कराने हेतु ठोस कार्यवाही की जाए। भारतीय नागरिक परिषद ने यह कहा की कश्मीर समस्या का एकमात्र समाधान पाक अधिकृत कश्मीर का भारत में विलय है ।
बलिदान दिवस पर याद किये गये डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी
बलिदान दिवस पर याद किये गये डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी
संगोष्ठी में मुख्य वक्ता के तौर पर बोलते हुए ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन के चेयरमैन शैलेंद्र दुबे ने कहा कि कश्मीर में अलगाववादी ताकतों का लक्ष्य भारत के सभी धार्मिक, ऐतिहासिक, सामाजिक चिन्हों को समाप्त करना और कश्मीर घाटी को पूर्णरूपेण हिंदू विहीन करना है ।1989 में मस्जिदों से ऐलान करके कश्मीरी पंडितों को भाग जाने को कहा गया और चार लाख हिंदुओं को कश्मीर घाटी छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। धारा 370 समाप्त होने के बावजूद आज पुनः कश्मीर में वैसी ही अलगाववादी ताकतें और घटनाएं सर उठा रहे हैं ।

उन्होंने कहा कि कश्मीर की प्राचीन आध्यात्मिक और ऐतिहासिक स्थिति समझना जरूरी है।कश्मीर में नाग पूजा मत, शैव दर्शन, वैष्णो मत,बौद्ध मत हमेशा ही पुष्पित पल्लवित हुए। इन दर्शनों में कश्मीर में कभी टकराव नहीं हुआ। सम्राट ललितादित्य, अवंती बर्मन, हर्ष, मेघवाहन चंद्र पीड़ आदि ने ही कश्मीरियत को विश्वव्यापी बनाया। आयुर्वेद, गणित, विज्ञान, सांख्यिकी जैसे दर्शन व सिद्धांत कश्मीर में ही पनपे। कनिष्क व मिहिरकुल जैसे विदेशी शासक जो कुषाण व हूण जातियों से थे, ने क्रमशः शैव व बौद्ध मत स्वीकार किया और कोई टकराव नहीं हुआ आज परिस्थितियां बिल्कुल विपरीत है।
आज की परिस्थितियों के लिए उन्होंने पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराते हुए भारत सरकार से मांग की कि पाक अधिकृत कश्मीर का भारत में विलय कराए जाने हेतु रणनीति बनाकर शीघ्र ही ठोस कार्यवाही की जानी चाहिए। डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के प्रति आज की तारीख में यही सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी। डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी का स्मरण करते हुए उन्होंने कहा कि डॉक्टर मुखर्जी एक बहुआयामी व्यक्तित्व के स्वामी ही नहीं एक महान शिक्षाविद, देशभक्त, राजनेता, सांसद, अदम्य साहस के धनी और मानवतावादी थे।

23 जून 1953 को पूरा देश यह जानकर स्तब्ध रह गया था कि हिरासत में मामूली सी बीमारी के बाद डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी को श्रीनगर के मुख्य अस्पताल ले जाया गया जहां रहस्यमय परिस्थितियों में उनकी मृत्यु हुई। आम धारणा है डॉक्टर मुखर्जी को मार डाला गया। उनकी चिकित्सकीय हत्या की गई। डॉक्टर मुखर्जी आज हमारे बीच में नहीं है किंतु भारत की अखंडता के लिए किया गया उनका बलिदान अमर है।

भारतीय नागरिक परिषद के अध्यक्ष चंद्र प्रकाश अग्निहोत्री और महामंत्री रीना त्रिपाठी ने केंद्र सरकार से यह मांग की कि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की रहस्यमय परिस्थितियों में हुई मृत्यु या हत्या की उच्च स्तरीय जांच कराई जाए और सारे देश को इसके पीछे छिपी सच्चाई से अवगत कराया जाए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीज्योतिष: बुध का मिथुन राशि में गोचर 3 राशि के लोगों को बनाएगा धनवानपैसा कमाने में माहिर माने जाते हैं इस मूलांक के लोग, तुरंत निकलवा लेते हैं अपना कामजुलाई में चमकेगी इन 7 राशियों की किस्मत, अपार धन मिलने के प्रबल योगडेली ड्राइव के लिए बेस्ट हैं Maruti और Tata की ये सस्ती CNG कारें, कम खर्च में देती हैं 35Km तक का माइलेज़ज्योतिष: रिश्ते संभालने में बड़े कच्चे होते हैं इस राशि के लोगजान लीजिए तुलसी के इस पौधे को घर में लगाने से आती है सुख समृद्धिहाथ में इन निशान का होना मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने का माना जाता है संकेत

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र के सियासी संकट में अमित शाह ने मारी एंट्री, बीजेपी हुई एक्टिव; बनाई ये खास रणनीतिMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट पर सस्पेंस बरकरार, सुप्रीम कोर्ट पर टिकी सभी की नजरें; जानें सियासी संग्राम में अब आगे क्या?Maharashtra Floor Test: मुंबई लौटने से पहले एकनाथ शिंदे ने भरी हुंकार, कहा- हमारे पास बहुमत है, हमें कोई नहीं रोक सकताबिहार में बड़ा सियासी बवाल, Owaisi की पार्टी के 5 में से 4 विधायक RJD में हुए शामिलपहले खुलेआम कन्हैयालाल की नृशंस हत्या की धमकी, फिर सिर कलम कर दिया, आतंकियों की करतूतों से मेल खाता है तरीकानवीन जिंदल को भी कन्हैया लाल की तरह जान से मारने की मिली धमकी, दिल्ली पुलिस से की शिकायतMumbai News Live Updates: शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ने कहा- 2/3 बहुमत है हमारे पासMukesh Ambani आकाश और ईशा के बाद बेटे अनंत को देंगे ये जिम्मेदारी! कारोबार के उत्तराधिकार से दे रहे बड़ा संदेश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.