scriptElectricity crisis will be reduced in UP from May One | Power Crisis In Up: यूपी में एक मई से कम हो जाएगा बिजली संकट, जानिए सरकार ने क्या व्यवस्था की है | Patrika News

Power Crisis In Up: यूपी में एक मई से कम हो जाएगा बिजली संकट, जानिए सरकार ने क्या व्यवस्था की है

Power Crisis In Up: यूपी में हो रही बेतहाशा बिजली कटौती से आम लोगों को 1 मई से थोड़ी राहत मिलने वाली है। गर्मी के मौसम में बिजली की मांग और सप्लाई के बीच की कमी को दूर करने के लिए सरकार ने एक बड़ा इंतजाम कर दिया है। इस बिजली को घरेलू उपभोक्ताओं के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

 

लखनऊ

Published: April 30, 2022 06:21:01 pm

Power Crisis: उत्तर प्रदेश समेत देश के अधिकांश राज्यों में बिजली की भारी किल्लत के बीच उत्तर प्रदेश में एक मई से बिजली के हालात सुधरने की उम्मीद है। जानकारी के अनुसार रविवार से लगभग डेढ़-दो हजार मेगावाट अतिरिक्त बिजली का अतिरिक्त इंतजाम होने से बिजली आपूर्ति की स्थिति में काफी हद तक सुधार होगा। बता दें कि केन्द्रीय कोटे से 332 मेगावाट की वृद्धि हुई है। जबकि सोलर प्लाटों से 196 मेगावाट, बिजली घरों से 118 मेगावाट तथा निजी उत्पादन ग्रहों से 145 मेगावाट अतिरिक्त बिजली की व्यवस्था की जा रही है।
tar.jpg
चार सालों में उच्च स्तर पर पहुंची मांग

दरअसल भीषण गर्मी के कारण प्रदेश में बिजली की मांग पिछले चार वर्षों के उच्चतम स्तर लगभग 22,500 मेगावाट पर पहुंच गयी है। इस समय देश के अन्य राज्यों में भी बिजली की कटौती शुरू हो गयी है।
अप्रेल में ही कहर बरपा रही है गर्मी

अप्रेल माह से ही उत्तर प्रदेश में भीषण गर्मी कहर बरपाने लगी है। एकदम से अचानक से बढ़ी गर्मी और कुछ अन्य तकनीकी कारणों से हो रहा है। प्रदेश में तय शेड्यूल के अनुरूप ही सभी क्षेत्रों की विद्युत आपूर्ति करने का प्रयास पावर कारपोरेशन कर रहा है।
पिछले साल बिजली आपूर्ति का रिकॉर्ड 2,00,553 MW था

पिछले साल सर्वाधिक बिजली आपूर्ति का रिकार्ड 2,00,553 मेगावाट था। यह आपूर्ति सात जुलाई को थी जो इस बार अप्रैल के अंत में ही देखने को मिली है। ऊर्जा मंत्री अरविन्द कुमार शर्मा ने कहा कि गर्मी के कारण बिजली की मांग बढ़ी है, वहीं कई बिजली इकाइयां तकनीकी कारणों से हफ्तों से बन्द है, ऐसे में बिजली की बचत के प्रयास में सभी अपना सहयोग प्रदान करें।
दो हजार अतिरिक्त मेगावाट बिजली का इंतजाम

उन्होंने बताया है कि बिजली की बढ़ती मांग को देखते हुए पावर कारपोरेशन ने एक मई से लगभग दो हजार मेगावाट अतिरिक्त बिजली का इंतजाम किया है। वहीं दूसरी तरफ कोयले के संकट को दूर करने के लिए मालगाड़ियों से 16.2 लाख टन कोयला भेजा गया है। मालगाडियों के आवागमन के लिए 21 जोडी मेल एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों के 753 फेरे निरस्त किए गए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमालैंड होते ही झटके से रूक गया यात्री विमान, सांस थामे बैठे रहे यात्रीजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.