इटावा में डेढ़ दर्जन दुर्लभ पक्षियों की मौत

इटावा जिले के भर्थना इलाके के ग्राम नगला असावर बेलाहार का मामला
पुलिस और वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची
पक्षियों के शव कब्जे में लेकर कराया पोस्टमार्टम

इटावा. उत्तर प्रदेश मे इटावा जिले के भर्थना इलाके के ग्राम नगला असावर बेलाहार में तीन सारस सहित कई अन्य पक्षी मरे पाए जाने से हडकम्प मच गया।

इटावा के जिला प्रभागीय निदेशक रमेश वर्मा ने शुक्रवार को बताया कि सारस समेत कई पक्षियों की मौत की खबर मिलने के बाद वन अमले को मौके पर भेज कर सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाने के बाद मौत के कारणों की पड़ताल शुरू कर दी गई है।
पक्षियों के शव तालाब के किनारे पड़े हुए थे। बड़ी संख्या में लोग पक्षियों के साथ हुई इस घटना को देखने के लिए मौके पर जुट गए। लोगों ने मामले की सूचना पुलिस को दी। जिस पर थाना पुलिस के साथ वन विभाग की टीम मौके पर पहुंचे और पक्षियों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया गया। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि पक्षियों की मौत जहरीला दाना खाने से हुई है। ग्राम असावर बेलाहार के लोगों को मामले की जानकारी तब हुई जब सुबह के समय गांव के कुछ लोग तालाब की ओर गए। तालाब के किनारे तीन सारस, चार टिटीरी, 7 गोरैया सहित 14 पक्षी एक साथ मरे पड़े हुए थे।

गांव वालों का कहना था कि एक साथ बड़ी संख्या में पक्षियों के मरने की घटना से सभी परेशान हैं। गांव के कुछ लोगों का कहना है कि किसी शिकारी ने तालाब के किनारे जहरीला दाना डाला है जिसे खाकर पक्षियों की मौत हो गई। लोगों का यह भी कहना है कि मौके पर कई जगह दाना बिखरा हुआ भी देखा गया है जिसकी जांच होनी चाहिए। वन विभाग के अधिकारी उक्त घटना की जांच में जुटे हुए हैं। पशु चिकित्साधिकारी डा.एस.के.निगम ने बताया कि पोस्टमार्टम में सारसों के लीवर में हैपेटाइटस बीमारी पाई गई है।

Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned