यूपी में इस तरह मिल रही आतंकवाद और अपराध को फर्जी पहचान, कई गिरोह दे रहें बढ़ावा!

आधार कार्ड और फर्जी पहचान पत्रों के जरिए सुरक्षित बैठे हैं देश विरोधी तत्व।

By: Dhirendra Singh

Published: 11 Sep 2017, 05:33 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) के मानकों में सेंध लगाकर फर्जी तरीके से आधार कार्ड तैयार करने वाले गिरोह के पकड़े जाने से सुरक्षा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। एसटीएफ ने कानपुर से फर्जी आधार कार्ड बनाने के गिरोह से जुड़े जिन 10 लोगों को गिरफ्तार किया है, अब आशंका जताई जा रही है कि यह लोग अपराधियों और देश विरोधी तत्वों को भी फर्जी पहचान पत्र उपलब्ध करा रहें थे। हाल में ही यूपी एटीएस ने बांग्लादेशी आतंकी अब्दुल्लाह को मुजफ्फरनगर से गिरफ्तार किया था। इसके पास से भी फर्जी पहचान पत्र के रूप में आधार कार्ड बरामद हुआ था। फिर आधार कार्ड के जरिये उसने खुद को भारतीय मूल का साबित करते हुए अपना पासपोर्ट भी बनवा लिया था।

अपराध और आतंकवाद को मिल रही फर्जी पहचान
देश में गत वर्षों में पहचान पत्र को लेकर काफी सख्ती की गई। इसके चलते यूपी में भी पहचान पत्र को काफी महत्व दिया जा रहा है। लेकिन अपराधियों और देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने वालों के लिए इनका तोड़ निकालना बाएं हाथ का खेल सा हो गया है। यूपी में फर्जी आधार कार्ड और अन्य पहचान पत्र बनाने वाले कई गिरोह सक्रिय हैं। इन्हीं के जरिए अपराधी और आंतकी अपनी फर्जी पहचान भी बनवा ले रहे हैं। इन्हीं फर्जी पहचान पत्रों की मदद से वह कहीं भी खुलेआम घूम रहे हैं। यूपी एटीएस और अन्य राज्यों की एजेंसियों ने भी यूपी की फर्जी पहचान रखने वाले कई आंतकियों को भी पकड़ा है। इसका ताजा उदाहरण मुजफ्फरनगर से पकड़ा गया आतंकी अब्दुल्लाह है। यह बाग्लादेश से असम के रास्ते भारत में आया। इसके बाद असम में बने फर्जी वोटर कार्ड की मदद से 2011 सहारनपुर पहुंचा। यहां उसने कुछ अन्य लोगों की मदद से फर्जी आधार कार्ड हासिल किया। इसी आधार कार्ड से उसका भारतीय मूल का पासपोर्ट तैयार हो गया। वहीं यूपी के व अन्य प्रदेशों के कुख्यात अपराधी यूपी में दाखिल होने के बाद फर्जी पहचान पत्रों के जरिये यहां छुपकर रह रहे हैं। यूपी एटीएफ का मानना भी है कि अभी हजारों लोगों के पास फर्जी आधार कार्ड है। इसमें से कई कुख्यात अपराधी और देश विरोधी तत्व भी हो सकते हैं।

Show More
Dhirendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned