सोशल मीडिया पर गलत न्यूज वायरल की तो नपे- पुलिस ने की चौकस व्यवस्था

ढाई सौ लोगों के बने ग्रुप

By: Anil Ankur

Published: 20 Jul 2018, 12:39 PM IST

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में सोशल मीडिया पर वायरल फोटो, विडियो और अफवाहों से भरी न्यूज को रोकने के लिए यूपी पुलिस ने एक्शन प्लान बनाया है। पुलिस का मानना है कि वायरल संदेशों के कारण होने वाली हिंसक घटनाओं को रोकने के लिए यूपी पुलिस आम लोगों की डिजिटल आर्मी तैयार करेगी। इसी क्रम में प्रदेश के हर थाने में अलग-अलग वर्ग के 250 लोगों के वॉट्स ऐप ग्रुप बनाए जाएंगे। ये लोग वायरल सूचनाओं, अफवाहों, फोटो और विडियो को इलाके की पुलिस से शेयर करेंगे। इससे फेक न्यूज को रोकने में आसानी होगी।

साढ़े तीन लाख लोगों के गु्रप बनाएगी पुलिस
डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि फेक न्यूज और गलत संदेशों को रोकन के लिए यूपी पुलिस साढ़े तीन लाख लोगों को अपने से जोड़ेगी। उन्होंने बताया कि हाल के माह में कुछ राज्यों में सोशल मीडिया पर वायरल अफवाहों के कारण निर्दोष लोगों की हत्या के मामले सामने आए हैं। कई जगह आपस में हिंसा भी हुई है। इसीलिए पुलिस ने इसे ध्यान में रखते हुए प्रदेश के सम्भ्रांत लोगों को वॉट्स ऐप ग्रुप पर जोड़ा जाएगा। जो पुलिस को वायरल होने वाले आपत्तिजनक कंटेंट के बारे में जानकारी देंगे। उल्लेखनीय है कि यूपी में 1469 पुलिस थाने हैं। इस तरह प्रदेशभर में करीब 3.50 लाख लोग पुलिस से जुड़ेंगे।

डिजीटल वॉलंटियर बनाएगी पुलिस
डीजीपी ने बताया कि डिजिटल वॉलंटियर बनने के लिए यूपी पुलिस की वेबसाइट पर उपलब्ध फॉर्म भरना होगा। इस आवेदन के बाद एसपी की अध्यक्षता में जिला स्तर की कमिटी डिजिटल वॉलंटियर को चुनेगी। पुलिस की यह कमिटी चयन करते वक्त यह देखेगी कि वॉलंटियर इलाके का प्रभावशाली व्यक्ति हो। उस व्यक्ति की इमेज अच्छी हो और वह सोशल मीडिया का जानकार हो। हर गांव, मोहल्ला, कस्बा और वॉर्ड से कम से कम दो-दो वॉलंटियर चुने जाएंगे। डिजिटल वॉलंटियर के रूप में शिक्षक, प्रधानाचार्य, रिटायर फौजी, पुलिस पेंशनर्स, इलाके के पत्रकार, सामाजिक संगठन, पूर्व और वर्तमान सभासद, ग्राम प्रधान, बीडीसी सदस्य, छात्र नेता, आशा बहू, ग्राम सचिव, एएनएम, डॉक्टर, कोटेदार, विशेष पुलिस अधिकारी, वकील, प्रमुख व्यापारी या व्यापारी नेता, धर्मगुरु, सिविल डिफेंस से जुड़े लोग, होमगार्ड को प्राथमिकता मिलेगी। इनसे मिलने वाले संदेशों को पुलिस देखेगी और उसे वायरल करने वालों को चेतावनी देगी और तब भी न माने तो पुलिस पकड़ लेगी।

Anil Ankur Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned