जेल में कैदियों की मौत पर आश्रितों को मिलेगें 7 लाख रुपये

जेल में कैदियों की मौत पर आश्रितों को मिलेगें 7 लाख रुपये

Mahendra Pratap Singh | Publish: Sep, 02 2018 04:14:24 PM (IST) | Updated: Sep, 02 2018 05:34:08 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

अलावा यूपी के 19 जिलों में डिस्पेंसरी खोली जाएगी

लखनऊ. आईएएस अधिकारियों की मिड टर्म ट्रेनिंग 12 नवंबर से शुरू होगी। यह 7 डिसंबर तक चलेगी। आईएएस अधिकारियों को ट्रेनिंग लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रकाशन अकादमी मसूरी में दी जाएगी। वहीं मृतक कैदियों के आश्रितों को सरकार 7 लाख रुपये देगी। पिछले कुछ सालों में हुई 5 कैदियों की मौत पर उनके आश्रितों को 7 लाख दिया जाएगा। इसके अलावा यूपी के 19 जिलों में डिस्पेंसरी खोली जाएगी।

कैदियों की मौत पर आश्रितों को मिलेगा 7 लाख रुपये

लखनऊ. प्रदेश में पिछले कुछ सालों में पांच कैदियों की मौत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने यूपी सरकार को मृतक के आश्रितों को 7 लाख रुपये का भुगतान करने का निर्देश दिया है। आयोग ने जिला कारगार मुजफ्फरनगर में विचाराधीन बंदी देवेंद्र की सितंबर 2013 में मौत के मामले में आश्रितों को 2 लाख, जिला कारगार कानपुर नगर में विचाराधीन महिला बंदी राजकुमारी शर्मा की जुलाई 2013 में मौत के मामले में आश्रितों को 1 लाख, जिला कारगार बादा में कैदी नंद किशोर की नवंबर 2016 में मौत के मामले में आश्रितों को 1 लाख। सुल्तानपुर में बंदी रमेश सिंह की 2012 में मौत पर आश्रितों को 2 लाख व जिला कारगार बुलंदशहर में बंदी रहे भिकरी सिंह की मौत पर आश्रितों को 1 लाख राहत के तौर पर देने के निर्देश दिए हैं।

12 नवंबर से 7 डिसंबर तक चलेगी आईएएस अधिकारियों की ट्रेनिंग

लखनऊ. आईएएस अधिकारियों की मिड करियर ट्रेनिंग 12 नवंबर से 7 डिसंबर तक आयोजित की जाएगी। उन्हें ट्रेनिंग लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रकाशन अकादमी मसूरी में दी जाएगी। इसके लिए सरकार ने अलग-अलग बैच के आईएएस अधिकारियों से आवेदन आमंत्रित किए हैं। विशेष सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक अरविंद मोहन चित्रांशी ने बताया कि 2010 बैच के आईएएस अधिकारियों के लिए यह पहला, 2009 बैच के लिए दूसरा व 2008 बैच के लिए यह तीसरा अवसर है।

19 जिलों में खुलेंगी डिस्पेंसरी

लखनऊ. 19 जिलों में डिस्पेंसरी कम ब्रांच ऑफिस (डीसीबीओ) व मॉडिफाइड यूटिलाइज्ड डिसपेंसरी (एमईयूडी) की स्थापना के लिए राज्य सरकार ने मंजूरी दे दी है। इनका खर्च राज्य कर्मचारी बीमा निगम उठाएगा। ईएसआई की डिस्पेंसरी अमेठी, सीतापुर, भदोही, अमरोहा, बिजनौर, चंदौली, इटावा, फर्रूखाबाद,फतेहपुर, गाजीपुर, हापुड़, हरदोई, हाथरस, कानपुर देहात, मिर्जापुर, मुजफ्फरनगर, रामपुर, संत कबीर नगर और शाहजहांपुर में खोली जाएंगी।

प्रोजेक्टर पर पढ़ेंगे मदरसों के छात्र

लखनऊ. प्रदेश के मदरसों में ब्लैक बोर्ड की जगह अब प्रोजेक्टर पर पढ़ाए जाएंगे छात्र। मदरसों में एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम लागू करने के बाद योगी सरकार मदरसों को हाईटेक बनाने के लिए सीबीएसई व आईसीएसई की तर्ज क्लासेस शुरू करने की तैयारी में है। इस योजना पर 20 करोड़ खर्च करने की जा सकता है। एक मदरसे में पांच से दस स्मार्ट क्लास होंगे। इसके लिए प्रदेश के सभी मदरसों को अपनी इमारत के मुताबिक प्रस्ताव भेजने के लिए कहा गया है।

माध्यमिक वित्त विहीन शिक्षकों की चार से स्कूलों में होगी हड़ताल

लखनऊ. शिक्षक दिवस का बाहिष्कार करते हुए माध्यमिक वित्त विहीन शिक्षक महासभा ने चार सितम्बर से माध्यमिक विद्यालयों को बंद कर हड़ताल करने का निर्णय लिया है। इसके लिए प्रदेश अध्यक्ष उमेश द्विवेदी ने मुख्यमंत्री को प्रेषित मांग पत्र के जरिये हड़ताल की सूचना दी है। पत्र में उन्होंने कहा है कि वर्तमान सरकार ने वित्त विहीन शिक्षकों के एक हजार रुपये के मानदेय पर रोक लगा दी है लेकिन साथ ही भरोसा दिलाया गया था कि शिक्षकों को मानदेय दिया जाएगा। मगर इस संबंध में कोई कदम नहीं उठाया गया।

एलयू के तीन प्रोफेसरों को सरस्वती पुरस्कार

लखनऊ. प्रदेश सरकार ने सरस्वती और शिक्षक श्री पुरस्कारों की घोषणा कर दी है। इसमें तीन शिक्षकों को सरस्वती पुरस्कार और 6 को शिक्षक श्री पुरस्कार के लिए चुना है। शनिवार को ये सूची जारी कर दी है। लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रो. राजीव मनोहर समेत तीन को सरस्वती पुरस्कार और इसी विश्वविद्यालय के प्रो. दिनेश कुमार सिंह व डॉ. मोनिशा बनर्जी समेत छह शिक्षकों को शिक्षक श्री पुरस्कार देने की घोषणा की गई है। मुताबिक एलयू के प्रो राजीव मनोहर को सरस्वती सम्मान और प्रो डीके सिंह व प्रो मोनिषा बनर्जी शिक्षक श्री के लिए चुना गया है । ये पुरस्कार 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के दिन लोक भवन में वितरित किए जाएंगे।

Ad Block is Banned