कारसेवकों पर चलवाई थी गोली, मुलायम सिंह यादव पद दर्ज हो सकता है मामला

कारसेवकों पर चलवाई थी गोली, मुलायम सिंह यादव पद दर्ज हो सकता है मामला
Mulayam Singh Yadav

Shatrudhan Gupta | Updated: 07 Nov 2017, 04:07:45 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में सन् 1990 में कार सेवकों पर गोली चलाने का मामला अब देश के सर्वोच्च न्यायालय पहुंच गया है।

मुलायम सिंह यादव पर दर्ज हो सकता है केस, यह मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट!

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के अयोध्या में सन् 1990 में कार सेवकों पर गोली चलाने का मामला अब देश के सर्वोच्च न्यायालय (सुप्रीम कोर्ट) पहुंच गया है। याचिकाकर्ता राणा संग्राम सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर 1990 में अयोध्या में कार सेवकों पर गोली चलाने का आदेश देने को लेकर उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।

पुलिस ने केस दर्ज करने से कर दिया था इनकार

याचिकाकर्ता राणा संग्राम सिंह ने अपनी याचिका में कहा है कि छह फरवरी 2014 को मैनपुरी जिले में आयोजित एक जनसभा में समाजवादी पार्टी के संस्थापक व संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने कहा था कि उनके आदेश पर 1990 में पुलिस ने अयोध्या में कार सेवकों पर गोली चलाई थी। याचिकाकर्ता राणा संग्राम सिंह के अधिवक्ता विष्णु जैन के मुताबिक इस बयान के बाद राणा संग्राम सिंह ने लखनऊ पुलिस में मुलायम सिंह यादव के खिलाफ हत्या और आपराधिक साजिश का मुकदमा दर्ज करने की गुहार लगाई थी, लेकिन पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने से इनकार कर दिया।

निचली अदालत, हाईकोर्ट में खारिज हो चुकी है याचिका

याचिकाकर्ता के वकील विष्णु जैन ने बताया कि इसके बाद उन्होंने लखनऊ की निचली अदालत में सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के खिलाफ केस दर्ज करने के लिए याचिका दाखिल की गई थी, लेकिन निचली अदालत ने राहत न देते हुए याचिका को ख़ारिज कर दिया। इसके खिलाफ उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने भी तीन मई 2016 को याचिका खारिज कर दी। इसके बाद अब याचिकाकर्ता राणा संग्राम सिंह ने मामला सुप्रीम कोर्ट में मुलायम सिंह यादव पर अध्योध्या मामले में केस दर्ज करने की मांग को लेकर याचिका दाखिल की है। अधिवक्ता विष्णु जैन के मुताबिक याचिका में यह भी सवाल उठाया गया है कि क्या मुख्यमंत्री भीड़ पर गोली चलाने का आदेश दे सकते हैं? अगर हां, तो किस कानूनी प्रावधान के तहत। क्या पुलिस को भीड़ पर गोली चलाने का अधिकार है?

मुलायम सिंह यादव जता चुके हैं अफसोस

मालूम हो कि सन् 1990 में अयोध्या में कार सेवकों पर गोली चलाने के आदेश पर सपा संस्थापक एक कार्यक्रम में अफसोस भी जता चुके हैं। मुलायम ने समाजवादी पार्टी के नेता व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर की जयंती के मौके पर सपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा था कि वर्ष 1990 में उनके मुख्यमंत्रित्वकाल में अयोध्या में विवादित ढांचे को बचाने के लिए उन्होंने कारसेवकों पर गोली चलाने के आदेश दिए थे, इसका उन्हें अफसोस है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि धर्मस्थल को बचाना उस वक्त जरूरी था, इसलिए गोली चलवाई गई थी।

यह भी कहा था नेताजी ने...

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर की जयंती समारोह में मुलायम सिंह यादव ने यह भी कहा था कि उन्हें इस बात का अफसोस है, इसलिए उन्होंने नैतिकता के आधार पर मुख्यमंत्री पद से 1991 में इस्तीफा दे दिया था।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned